Sunday, June 16, 2019
Khusinagar

पूर्वांचल में आंधी-पानी ने बरपाया कहर, आठ लोगों की मौत…

गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में बुधवार आंधी पानी से आठ लोगों की मौत हो गई। कई स्‍थानों पर लोगों के घरों के छप्‍पर और टीन शेड गिर गए। सड़कों पर पेड़ गिरने से यातायात भी प्रभावित हुआ।

 गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में बुधवार को आंधी और पानी से भारी तबाही हुई। आंधी पानी से आठ लोगों की मौत हो गई और कई स्‍थानों पर घरों के छप्‍पर और टीन शेड उड़ गए। सड़कों पर पेड़ गिरने से आवागमन भी प्रभावित रहा। चार मौतें केवल सिद्धार्थनगर में ही हुईं। इसके अलावा देवरिया और कुशीनगर में भी दो-दो व्‍यक्तियों की मौत हो गई। 

हालांकि गोरखपुर, बस्‍ती, संतकबीर नगर, सिद्धार्थनगर, महराजगंज, देवरिया और कुशीनगर में मौसम के यू टर्न से लोगों ने राहत महसूस किया। इन जिलों में दोपहर में बस्‍ती जिले में तेज आंधी ने दस्‍तक दी। थोड़ी ही देर में पूर्वांचल के अन्‍य जिलों में भी आंधी और पानी ने दस्‍तक दे दी और लोगों को गर्मी से राहत मिली। 

बस्ती में 11.30 बजे के आसपास तेज हवा के साथ धूल भरी आंधी के चलते तापमान में थोड़ी गिरावट तो आई लेकिन बिजली गुल हो जाने से लोगों की परेशानी बढ़ गई। बारिश की उम्मीद लगाए लोगों की आशा पर पानी फिर गया। आधे घंटे बाद ही तेज धूप निकल गई। आंधी के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कुछ देर के लिए सड़क पर अंधेरे जैसी स्थिति हो गई। शहर में तो सड़कों पर जो जहां था वहीं पर सुरक्षित ठिकाना खोजने लगा। गोटवा क्षेत्र में तेज हवा के चलते कहीं-कही टीन शेड उड़ गए। इस आंधी से आम की फसल को नुकसान हुआ है। जिससे आम व्यवसायियों को काफी नुकसान होने की बात कही जा रही है। महसों क्षेत्र में भी यही हाल रहा। लोग सुरक्षित स्थान की तलाश करते देखे गए। 

सिद्धार्थनगर में भी अचानक तेज हवा के साथ बुदाबादी शुरू हो गई। आंधी के चलते गर्मी से लोगों को राहत महसूस हुई। कई स्थानों पर पेड़ व उनकी डालियां टूट कर गिर गईं। बिजली सप्लाई के लिए लगे तार टूट गए। शहर की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। कई लोगों के टीन शेड व छप्पर उड़ गए।

संतकबीर नगर में धूल भरी आंधी के साथ ही बूंदाबांदी भी हुई। कुछ समय बाद ही मौसम साफ हो गया और धूप खिलने से उमस बढ़ गई। अपेक्षित बारिश न होने से किसान एक बार फिर मायूस हुए। 


सिद्धार्थनगर में चार की मौत

 सिद्धार्थनगर में तेज आंधी में विभिन्न थाना क्षेत्रों में महिला समेत चार लोगों की मौत हो गई है। निर्माणाधीन मेडिकल कालेज में भी एक मजदूर की मौत हुई। बिजली की चपेट में आने से एक युवक की मौत हो गई है। 
सदर थाना क्षेत्र के अशोक मार्ग पर जिला चिकित्सालय के सामने निर्माणाधीन मेडिकल कालेज में हवा के तेज झोके से एक टिन शेड उड़ गया था। कुछ दूरी पर खड़े बिहार के जनपद कटिहार के थाना अंदाबाड़ के मोहल्ला हाजी अबुल टोला निवासी अब्दुल रहीम (28) पुत्र उस्मान गनी के ऊपर गिर गया। जिससे सिर व गर्दन में गंभीर चोट पहुंची थी। लोग जिला अस्पताल पहुंचाए, जहां उसकी मौत हो गई। थाना ढेबरूआ के चौराहा पर पेड़ गिरने से उसकी चपेट में आने से विशाल (18) पुत्र ओमप्रकाश की मौत हो गई। वह सड़क पार करके एक दुकान में जा रहा था। पेड़ की मोटी टहनी उसके सिर पर गिर गई थी। पेड़ के नीचे खड़ी दो बाइकें भी क्षतिग्रस्त हो गई। त्रिलोकपुर थाना क्षेत्र के ग्राम पेड़रा में पेड़ गिरने से चपेट में आई महिला बुधना (65) पत्नी साधू की मौत हो गई। वह बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे खड़ी थी। शोहरतगढ थाना के ग्राम चौहट्टा में आंधी के साथ हो रही बारिश के दौरान बिजली गिरी। बिजली की चपेट में आने से बृजभान (27) पुत्र दशरथ की मौत हो गई। 

कुशीनगर में एक की मौत
कुशीनगर जिले के विशुनपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत गौरीश्रीराम के टोला रामनगर में ननिहाल आए 13 वर्षीय बालक की बिजली की चपेट में आने से मौत हो गई। उक्त गांव निवासी गोपी यादव के यहां कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बलुचहां में ब्याही उनकी लड़की का बेटा विवेक आया हुआ था। दो बजे के करीब वह बारिश में नहा रहा था। तभी तेज आवाज के साथ बिजली गिरी और उसकी चपेट में आकर गिर पड़ा। परिजन उसे सीएचसी दुदही ले गए, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। 


देवरिया में सोलर पैनल गिरने से एक की मौत
देवरिया में सेंट्रल बैंक का सोलर पैनल गिरने से चाय दुकानदार की मौत हो गई और उसका भाई गंभीर रूप से घायल हो गया। इलाज के लिए उसे जिला अस्पताल पहुंचाया गया। 

भलुअनी थाना क्षेत्र के ग्राम बाकी सिंगही निवासी शुभम मद्धेशिया 20 पुत्र हरि मद्धेशिया की भलुअनी कस्बा के अस्पताल रोड पर चाय की दुकान थी। दोपहर अचानक तेज आंधी-पानी शुरू हो गई। तेज हवा के चलते भलुअनी सेंट्रल बैंक का सोलर पैनल छत से उड़ गया और विद्युत पोल से टकरा गया, जिससे विद्युत पोल टूट गया और पोल के साथ ही सोलर पैनल नीचे गिर गया। जिसकी चपेट में आने से शुभम व उसका भाई विकास घायल हो गए। दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक ने शुभम को मेडिकल कालेज गोरखपुर रेफर कर दिया। मेडिकल कालेज जाते समय रास्ते में ही शुभम ने दम तोड़ दिया। 

लापरवाही ने ली शुभम की जान 
सेंट्रल बैंक की छत पर सोलर पैनल लगा हुआ है। छत पर लगे सोलर पैनल को जाम नहीं किया गया था, इस कारण तेज हवा के कारण वह छत से नीचे आ गया। लोगों का कहना है कि अगर सेंट्रल बैंक द्वारा उसे जाम कराया गया होता तो यह हादसा नहीं होता। घटना के लिए लोग सेंट्रल बैंक को जिम्मेदार मान रहे हैं। 

Advertisements
%d bloggers like this: