Saturday, July 24, 2021

पैसे ना होने पर इलाज के लिए मना नहीं कर सकता कोई अस्पताल,हर नागरिक को पता होने चाहिए ये अधिकार….

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

देश में संविधान प्रत्येक नागरिक को जीने का अधिकार देता है। जीने के लिए अच्छे स्वास्थ्य का होना बेहद जरूरी है। हर व्यक्ति की कोशिश होती है कि वह और उसका परिवार सेहतमंद रहे लेकिन कई बार चाहे-अनचाहे उन्हें बीमारियां घेर लेती हैं। बीमारी होते ही रोगी व्यक्ति और उसके परिवार वाले अस्पताल का चक्कर लगाना शुरू कर देते हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें कई बार अलग-अलग समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसका कारण है मरीजों को अस्पताल में मिलने वाले अधिकारों की कम जानकारी होना। आइए आज हम आपको बताते हैं कि अगर आप अस्पताल में इलाज कराने जाते हैं तो आपके क्या-क्या अधिकार हैं।

1-इमरजेंसी में इलाज से मना नहीं कर सकता अस्पताल : कोई भी अस्पताल चाहे प्राइवेट हो या सरकारी, पेशेंट को तत्काल इलाज देने से मना नहीं कर सकता। इमरजेंसी में पेशेंट से प्रारंभिक इलाज के लिए अस्पताल पैसे तुरंत नहीं मांग सकता। किसी भी अस्पताल में पेशेंट जब इलाज के लिए पैसे देता है तो उसी वक्त वह कंज्यूमर हो जाता है और किसी भी तरह की शिकायत वह कंज्यूमर कोर्ट में कर सकता है।अगर किसी भी पेशेंट की दवाई या इलाज को लेकर कोई भी शिकायत है तो वह अस्पताल प्रशासन से शिकायत कर सकता है। ड्रग को लेकर लोकल फूड एंड एडमिनिस्ट्रेशन में इसकी शिकायत की जा सकती है।

ये भी पढ़े :  बिग ब्रेकिंग:-गोरखपुर के कुल 7 डॉक्टर हुए कोरोना पॉजिटिव,संख्या पहुँची 144
ये भी पढ़े :  एसपी ट्रैफिक ने कहा:गोरखपुर में अभी यातायात उल्लंघन के पुराने दंड ही होंगे मान्य,नियमो का करे पालन असुविधा से बचे......

2- खर्च की जानकारी : मरीज का यह अधिकार है कि इलाज से जुड़ी सभी जानकारी उसे दी जाए। उसे यह जानने का अधिकार है कि उसे क्या बीमारी है और वह कब तक उसके ठीक हो जाने की उम्मीद है। साथ ही इलाज करवाने में कितना खर्च आएगा इसकी जानकारी पाने का भी उसे हक है।

3-मेडिकल रिपोर्ट्स लेने का अधिकार : किसी भी मरीज या उसके परिवार वालों को यह अधिकार है कि वह अस्पताल से मरीज की बीमारी से जुड़े दस्तावेज की मांग कर सकते हैं। इन रिकॉर्ड्स में डायग्नोस्टिक टेस्ट, डॉक्टर या विशेषज्ञ की राय, अस्पताल में भर्ती होने का कारण आदि शामिल हैं।

4-सर्जरी से पहले डॉक्टर को लेनी होगी मंजूरी : रोगी की किसी भी तरह की सर्जरी करने से पहले डॉक्टर को उससे या उसकी देखरेख कर रहे व्यक्ति से मंजूरी लेनी जरूरी है। साथ ही डॉक्टर का यह भी कर्तव्य है कि वह मरीज को किए जाने वाले सर्जरी के बारे में अगाह करें।

5-अस्पताल नहीं बताएगा कि दवा कहां से लेनी है : कई बार मरीज और उसके परिवारवालों की शिकायत होती है कि अस्पताल उन्हें दवा की पर्ची देते वक्त कहता है कि दवा अस्पताल के दुकान से ही लें। नियम के मुताबिक ऐसा करने का अधिकार अस्पताल को नहीं है। यह मरीज का हक है कि वह दवा अपनी मर्जी की दुकान से खरीदे और साथ ही टेस्ट भी अपनी मर्जी की जगह से कराए।

ये भी पढ़े :  तस्‍वीरों में देखें- गोरखपुर में एयरफोर्स के जाबांजों ने कैसे दिखाया सेना का शौर्य...

6-जबरदस्ती मरीज को नहीं रखा जा सकता अस्पताल में : कई बार बिल न चुकाए जाने की वजह से अस्पताल मरीज को डिसचार्ज नहीं करता। बिल पूरा न दिए जाने की सूरत में कई बार लाश तक नहीं ले जाने दिया जाता है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने इसे गैर कानूनी करार दिया है। अस्पताल को मरीज को जबरन रोकने का कोई हक नहीं है।

ये भी पढ़े :  कभी भी ढह सकता है चीन में बना दुनिया का सबसे बड़ा बांध, डूब जाएंगे 24 राज्य

7-कैसे करें कंज्यूमर कोर्ट में शिकायत : कंज्यूमर कोर्ट में शिकायतकर्ता एक सादे कागज पर पूरी शिकायत लिख कर दे सकता है। साथ ही वह कम्पनसेशन की मांग भी कर सकता है। बता दें कि डिस्ट्रिक कंज्यूमर कोर्ट 20 लाख, स्टेट कंज्यूमर कोर्ट 1 करोड़ और नेशनल कंज्यूमर कोर्ट 1 करोड़ से ज्यादा का कम्पनसेशन का आदेश दे सकता है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

ब्लॉक प्रमुख बड़हलगंज आशीष राय के जीत की गूंज सात समंदर पार भी…

बड़हलगंज से आशीष राय के विजयी घोषित होने पर विदेशों में भी बंटी मिठाइयां गोरखपुर। शनिवार को तीन ब्लॉक...

भाजपा ने ब्लॉक प्रमुख के लिए विधायक विपिन सिंह की पत्नी नीता सिंह,विधायक संत प्रसाद की बहू पर खेला दाँव, देखें गोरखपुर की सूची…

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव संपन्न होने के उपरांत त्रिस्तरीय पंचायत को और सुदृढ़ बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के द्वारा...
%d bloggers like this: