Friday, September 17, 2021

फल बेचने वाला कैसे बना म्यूजिक ‘मुगल’, बॉलीवुड का इतिहास पलट दिया

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

दिल्‍ली के दरियागंज इलाके में फल बेचने वाला एक सामान्‍य पंजाबी परिवार का यह लड़का बॉलीवुड में न केवल सबसे बड़ा फिल्‍म निर्माता बन गया, बल्‍कि आज उसके नहीं रहने के बाद भी उसकी म्‍यूजिक कंपनी देश की सबसे बड़ी संगीत निर्माण करने वाली कंपनी है. दरअसल, 5 मई 1951 को दिल्‍ली के पंजाबी परिवार के घर जन्‍में गुलशन कुमार (Gulashan Kumar) ही वह शख्‍स थे, जिसने बॉलीवुड के संगीत को हर घर में पहुंचा दिया. गुलशन कुमार के पिता दिल्‍ली के दरियांगज इलाके में जूस बेचने का काम करते थे, और उन्‍होंने वहीं से ठेले पर कैसेट्स ऑडियो रिकॉर्ड्स बेचने का काम शुरू किया. बॉलीवुड के विशाल संगीत उद्योग की ओर उनका यह एक सबसे अहम कदम था. उन्‍होंने आगे चलकर अपने व्‍यवसाय को और बढ़ाया और सुपर कैसेट इंडस्‍ट्रीज के नाम से अपनी कंपनी शुरू की. बाद में उन्‍होंने दिल्‍ली से सटे नोएडा में एक म्‍यूजिक कंपनी खोली और 1970 के दशक में बेहतरीन क्‍वॉलिटी के संगीत कैसेट बेचने के कारोबार को फैला दिया.

इस तरह उनका यह व्‍यापार ऐसे फला-फूला कि वह ऑडियो कैसेट का निर्यात भी करने लगे और करोड़पति बन गए. एक समय ऐसा आ गया कि गुलशन कुमार भारतीय संगीत उद्योग के सबसे सफल व्यक्ति बन गए. इसके बाद उन्‍होंने ‘बॉलीवुड’ की ओर रुख किया और मुंबई आ गए.

ये भी पढ़े :  सुशांत सिंह राजपूत ड्रग्स केस में रिया के भाई शोविक चक्रवर्ती को मिली जमानत

वैसे ये तथ्‍य बहुत ही कम लोग जानते हैं कि गुलशन कुमार ने इसी संगीत कंपनी सुपर कैसेट इंडस्‍ट्री के तहत, ‘टी-सीरीज’ संगीत लेबल की स्थापना की. टी-सीरीज देश में संगीत और वीडियोज का सर्वाधिक बड़ा प्रॉड्यूसर है. यही नहीं ‘टी-सीरीज’ का प्रमुख काम फिल्मों में संगीत देने के अलावा, पुराने गानों के रिमिक्‍स बनाना, भक्ति संगीत, और एलबम, आदि का निर्माण करना भी है. अब फिल्म प्रोडक्‍शन के क्षेत्र में भी यह जाना पहचाना नाम हो गया है.

ये भी पढ़े :  कपिल के शो में सिद्धू की छुट्टी का आ गया सबूत,अब अर्चना ने ली उनकी जगह...

अब टी-सीरीज को गुलशन के बेटे भूषण कुमार चलाते हैं. हाल ही में उन्होंने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में पीएम केयर्स फंड में 11 करोड़ के डोनेशन किया था.

इंडियन म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री पूरे मार्केट पर तकरीबन 60% पर है कब्‍जा

इंडियन म्‍यूजिक इंडस्‍ट्री पूरे मार्केट पर तकरीबन 60% पर गुलशन कुमार की कंपनी का ही कब्‍जा है. यही नहीं उनकी यह कंपनी छह महाद्वीपों के 24 से ज्यादा देशों में संगीत का एक्‍सपोर्ट करती है, जबकि 2500 से अधिक डीलरों के साथ, टी-सीरीज देश का सबसे बड़ा डिस्‍ट्रीब्‍यूशन नेटवर्क भी है.

बहरहाल, दिल्‍ली को अलविदा कह मुंबई आने वाले गुलशन कुमार का सिक्‍का इस मायानगरी में और भी चमका. उन्‍होंने भक्‍ति संगीत के प्रति अपना रुझान बढ़ाया और न केवल गाने गाए, बल्‍कि हनुमान जी और शिव जी के ऐसे सुंदर भजन गाए कि वैसा आज तक कोई नहीं गा पाया. इसे गुलशन कुमार की किस्‍मत कहें या हनुमान जी की कृपा की वे दिन दूनी रात चौगनी उन्‍नित करते चले और बाद में उन्‍होंने हिंदू पौराणिक कथाओं से संबंधित बेहतरीन फिल्मों और धारावाहिकों का निर्माण भी किया.

गुलशन कुमार की पहली फिल्म 1989 में ‘लाल दुपट्टा मलमल का’ के नाम से आई. जिसका संगीत एक ही रात में पूरे भारत में लोकप्रिय हो गया. इसी तरह वर्ष 1990 में प्रदर्शित फिल्म ‘आशिकी’ ने सफलता के सारे कीर्तिमान तोड़ दिए. बाद में 1991 में आमिर खान और पूजा भट्ट अभिनीत ‘दिल है की मानता नहीं’ का निर्माण किया, फिल्‍म उतनी चली नहीं, लेकिन उसका संगीत बॉलीवुड के सर्वाधिक लोकप्रिय गाने दे गया.

ये भी पढ़े :  सोनू सूद की दरियादिली : किर्गिस्तान में फंसे छात्रों को लेकर चार्टर विमान आज पहुंचेगा बनारस एयरपोर्ट....

वैष्णो देवी के भंडारे में आज भी तीर्थयात्रियों के लिए नि: शुल्क भोजन

गुलशन कुमार बहुत ही कम समय में फिल्म उद्योग में संगीत के बादशाह बन गए. उन्‍होंने महज संगीत उद्योग में सफलता के झंडे नहीं गाड़े, बल्‍कि नई प्रतिभाओं को मौका भी उन्‍होंने ही दिया. सोनू निगम, अनुराधा पौडवाल, कुमार शानू और वंदना वाजपेयी जैसे कई गायक गुलशन कुमार की ही देन हैं. बहरहाल, लगातार सफलता हासिल करने वाला यह चेहरा बहुत जल्‍द ही मुंबई अंडरवर्ल्‍ड के निशाने पर आ गया. इसकी एक बड़ी वजह थी, गुलशन कुमार का सामाजिक रूप से सक्रिय होना.

ये भी पढ़े :  'शो का प्रोड्यूसर जबरन छूता था ब्रेस्ट' 10 बॉलीवुड अभिनेत्रियों के यौन उत्पीड़न की कहानी....

दरअसल, गुलशन कुमार ने अपने धन का एक बड़ा हिस्‍सा समाज सेवा में लगाया. कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने वैष्णो देवी में एक भंडारे की स्थापना की, जो आज भी तीर्थयात्रियों के लिए नि: शुल्क भोजन उपलब्ध कराता है. वह वित्तीय वर्ष 1992-93 में देश के सबसे बड़े करदाता थे.

खैर, 90 के दशक में जबकि गुलशन कुमार भारतीय सिनेमा की दुनिया का सबसे चमकता सितारा बन चुके थे, उनकी यही लोकप्रियता उनके आड़े आ गई और उन्‍हें लगातार मुंबई के अंडरवर्ल्ड से पैसे को लेकर धमकियां मिलने लगीं, लेकिन वह झुके नहीं. यही वजह रही कि 12 अगस्त, 1997 को मुंबई के अंधेरी पश्चिम उपनगर जीत नगर में जीतेश्वर महादेव मंदिर के बाहर गोली मारकर गुलशन की हत्या कर दी गई. गुलशन कुमार फिल्‍म इंडस्‍ट्री में हैं नहीं, लेकिन टी सीरीज की चमक आज भी वैसी ही है.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

परमिशन लेटर फाड़कर फेंका-पंडित को मारा थप्पड़, DM ने यूं रोकी कर्फ्यू में हो रही शादी

अगरतला के एक मैरि‍ज हॉल में शादी की अच्छी-भली पार्टी चल रही थी. इसी बीच सिंघम की तरह पहुंच गए डीएम शैलेश...

अभिनेता अक्षय कुमार हुए कोरोना पॉजिटिव,खुद घर पर हुए क्वरन्टीन….

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार कोरोना संक्रमित पाए गए।।उन्होंने अपना टेस्ट करवाया जिसमे व्व पॉजिटिव पाए गए।।जिसके बाद उन्होंने खुद को घर मे...

सुपर स्टार रजनीकांत को मिलेगा दादा साहेब फाल्के पुरस्कार….

इस बार फ़िल्म जगत का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार सुपरस्टार रजनीकांत को दिया जाएगा।।इसकी...
%d bloggers like this: