Tuesday, April 23, 2019
GorakhpurUttar Pradesh

बांग्ला भाषा में तीन ट्वीट कर सोशल मीडिया पर छा गए सीएम योगी…

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार दोपहर बांग्ला भाषा में एक के बाद एक तीन ट्वीट कर सोशल मीडिया पर छा गए। प.बंगाल में तीन दिन से सीबीआई और ममता सरकार के बीच चल रही जंग के बीच मंगलवार को पुरुलिया में योगी की सभा को लेकर चले सियासी ड्रामे का रोमांच गोरखपुर में भी रहा। लोग, टीवी और सोशल मीडिया पर पल-पल का हाल लेते रहे। ममता सरकार की रोक के बावजूद योगी ने जब शाम को पुरुलिया में सभा की तो ट्विटर और फेसबुक पर लाइक्स और कमेन्ट्स की बाढ़ आ गई।

-सुबह से शाम तक सीएम के ट्विटर एकाउंट से प.बंगाल को लेकर हुए 13 ट्वीट

-13 में से तीन ट्वीट बांग्ला और तीन अंग्रेजी में

-रात दस बजे तक ट्विटर पर 62 हजार तो फेसबुक पर 37 हजार लाइक्स मिले

सीएम योगी के ट्विटर एकाउंट से बांग्ला भाषा में ट्वीट किए जाने का यह पहला मौका था। पहले ट्वीट को कुछ ही समय में 790 लोगों ने रिट्वीट कर दिया। 3000 लाइक्स मिले। दूसरे ट्वीट को 377 रिट्वीट, 1500 लाइक्स और तीसरे को 379 रिट्वीट, 1500 लाइक्स मिले। शाम तक योगी के कुल 13 ट्वीट आए। इनमें तीन बांग्ला, तीन अंग्रेजी और आठ हिन्दी में थे। रात दस बजे तक इन ट्वीट्स को 61,600 लोगों ने लाइक और 16,167 ने रिट्वीट किया। 15 घंटे में 15.50 लाख ट्वीट इम्‍प्रेशन मिले। फेसबुक पर सिर्फ एक पोस्ट को रात दस बजे तक 37 हजार लाइक्स, 16 हजार कमेंट्स मिले। 4.15 लाख से ज्यादा लोगों ने इसे देखा और 8201 लोगों ने शेयर किया।

सभा पर रोक लगने से बढ़ी जिज्ञासा

पुरुलिया की सभा को लेकर लोगों की जिज्ञासा उस वक्त और बढ़ गई जब ममता सरकार ने उस पर रोक लगा दी। पहले उनके हेलीकाप्टर को उतरने की इजाजत नहीं दी गई फिर सड़क मार्ग से जाने पर भी अड़ंगा लगाया गया। इसके बावजूद योगी सड़क मार्ग से पुरुलिया पहुंचे और वहां जोरदार सभा की।

ओडिशा, केरल, उत्तराखंड और बिहार में शक्ति सम्मेलन

भाजपा के स्टार प्रचारक के तौर पर योगी प.बंगाल के अलावा ओडिशा, केरल, उत्तराखंड और बिहार भी जाएंगे। पार्टी मानती है कि उनकी बातों से कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ेगा। वह सात फरवरी को बिहार, नौ को उत्तराखंड, 12 और 14 फरवरी को केरल और 20 फरवरी को ओडिशा जाएंगे।

बांग्ला भाषा में सीएम योगी के तीन ट्वीट

ट्वीट1- स्वामी रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद जी के पावन चरण जहां पड़े, जनसंघ संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जन्मभूमि जो रही उस पवित्र भूमि को मेरा कोटि-कोटि नमन, गौरवशाली अतीत और अपार संभावनाओं से भरे बंगाल को मेरा हार्दिक अभिनंदन।

ट्वीट2-मुझे अत्यन्त दु:ख है कि हमारा बंगाल, आज ममता बनर्जी और उनकी सरकार की अराजकता और गुंडागर्दी से पीड़ित है। अब समय है कि बंगाल को एक सशक्त लोकतांत्रिक आंदोलन के माध्यम से संविधान की रक्षा हेतु इस सरकार से मुक्त किया जाए।

ट्वीट3-मैं आज पुरुलिया में आप सबके बीच इस आंदोलन की ध्वजा लेकर भ्रष्टाचारियों के गठबंधन के लिए चुनौती बनकर खड़ा होऊंगा।

Advertisements
%d bloggers like this: