Wednesday, May 12, 2021

बेटी के जन्म लेने पर यह महिला डॉक्टर नहीं लेती हैं फीस, पूरे नर्सिंग होम में बंटवाती हैं मिठाईयां….

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

हम सुनते हैं कि फला को बेटी हुई है, बेचारा, फिर बेटी हुई है। यहाँ तक कि बेटियों के पैदा होने पर लोग वैसी खुशी जाहिर नहीं करते थे जैसे बेटा पैदा होने पर होती थी। लड़की होने का मतलब था कि घर में रहकर चूल्हा-चौक संभालो और परिवार की सेवा करो। देश के कई इलाकों में लिंग अनुपात में लड़कियों की संख्या लड़कों से कम है। खासकर हरियाणा,राजस्थान जैसे राज्य में यह समस्या अधिक थी। समाज लाख दंभ भरता हो कि बेटी और बेटों में कोई फर्क नहीं होता है। बेटियां बेटों से कम नहीं हैं, लेकिन यह सामाजिक बुराई आज भी समाज में रचा बसा है। पर इस विकृत मानसिकता को पूरी तरह बदलने की जरूरत है। पर आज हम आपको एक ऐसी महिला डॉक्टर के बारे में बताने जा रहे है जो बेटियों और बेटों में भेदभाव करने वाले विकृत मानसिक के लोगों को मुंहतोड़ जवाब दे रही हैं। यह डॉक्टर बेटी होने पर अपने फीस नहीं लेती बल्कि पूरे नर्सिंग होम में मिठाईयां बंटवाती है।

dyj9hmi5kgusabe9dwnnwztvqbf2pd3c.jpg

इनका नाम है डॉ. शिप्रा धर। डॉ शिप्रा बेटी के जन्म पर अपनी नर्सिंग होम की फीस नहीं लेती हैं और पूरे नर्सिंग होम में मिठाई बंटवाती हैं। बीएचयू से एमबीबीएस और एमडी कर चुकीं शिप्रा धर वाराणसी में नर्सिंग होम चलाती हैं। उनकी 2001 में एमडी की पढ़ाई पूरी हुई। शादी के बाद वे खुद का नर्सिंग होम चलाने लगीं। शिपरा के इस काम में उनके पति डॉ. एमके श्रीवास्तव भी उनका बखूबी साथ देते हैं। कन्या भ्रूण हत्या को रोकने और लड़कियों के जन्म को बढ़ाना देने के लिए ये दोनों डॉक्टर दंपति लगे हुए हैं। वे बच्ची के जन्म पर परिवार में फैली मायूसी को दूर करने के लिए नायाब मुहीम चला रहे हैं। इसके तहत उनके नर्सिंग होम में यदि कोई महिला बच्ची को जन्म देती है, तो उससे कोई डिलिवरी चार्ज नहीं लिया जाता। इसकी जगह लोगों के बीच मिठाईयां बांटी जाती है।

ये भी पढ़े :  प्रधान बनने के लिए चाहिए ये योग्यता और दस्तावेज, बिना गलती भरें नामांकन वरना हो जाएगा खारिज
ये भी पढ़े :  कुछ इस तरह की होगी संसद भवन की नई बिल्डिंग, 10 दिसंबर को पीएम मोदी करेंगे भूमि पूजन।

e3xqyuyb2qsulccfpdq5fhv7hjgjfkfi.jpg

अक्सर जब परिजनों को पता चलता है कि बेटी ने जन्म लिया है तो वह मायूस हो जाते हैं। गरीबी के कारण कई लोग तो रोने भी लगते हैं। इसी सोच को बदलने की वह कोशिश कर रही हैं, ताकि अबोध शिशु को लोग खुशी से अपनाएं। इसीलिए वह बेटी के जन्म पर फीस नहीं लेती हैं। बेड चार्ज भी नहीं लिया जाता। उनका वाराणसी के पहाड़िया के अशोक नगर इलाके में काशी मेडिकेयर के नाम से उनका नर्सिंग होम है। यहां बेटी पैदा होने पर जीरो बैलेंस पर जज्जा-बच्चा दोनों का इलाज होता है। यदि सिजेरियन के जरिए डिलिवरी हुई और ऑपरेशन करना पड़े तो वह भी मुफ्त है। अब तक 100 बेटियों के जन्म पर कोई चार्ज नहीं लिया गया है।

brbrca3jykufauvkxsa8rxrzvfvks2qd.png

आपको बता दें कि डॉ. शिप्राधर की ओर से उनके अस्पताल में बेटी पैदा होने पर कोई भी फीस न लेने की जानकारी होते ही मई में वाराणसी दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहुत प्रभावित हुए थे । पीएम ने बाद में मंच से अपने संबोधन में देश के सभी डॉक्टरों से आह्वान किया था कि वे हर महीने की नौ तारीख को जन्म लेने वाली बच्चियों के लिये कोई फीस ना लें। इससे बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं की मुहिम को बल मिलेगा। डॉ. शिप्रा धर का मानना है कि सनातन काल से बेटियों को लक्ष्मी का दर्जा दिया गया। देश-विज्ञान तकनीक की राह पर भी आगे बढ़ रहा है। इसके बाद भी कन्या भ्रूणहत्या जैसे कुकृत्य एक सभ्य समाज के लिए अभिशाप हैं। वैसे भी जहां बेटी के जन्म पर खुशी नहीं, वह पैसा किस काम का। अगर बेटियों के प्रति समाज की सोच बदल सके तो वे खुद को सफल समझें।

ये भी पढ़े :  Maharajganj: थाना अध्यक्ष के रवैए से तंग आकर बुजुर्ग ने जान देने की कही बात, एसडीएम और तहसीलदार के आदेश को भी किया जा रहा है दरकिनार।।
ये भी पढ़े :  चार चरणों में होगें यूपी पंचायत चुनाव, 28 जनवरी से 5 फरवरी के बीच कार्यक्रम देने पर विचार, देखे पूरी जानकारी।।

rkgqdx8dt9qpzghufp39gbyrycuwzfck.jpg

बच्चों और परिवारों को कुपोषण से बचाने के लिए डॉ. शिप्रा धर अनाज बैंक भी संचालित करती हैं। फिलवक्त वे अति निर्धन विधवा और असहाय 38 परिवारों को हर माह की पहली तारीख को अनाज उपलब्धत कराती हैं। इसमें प्रत्येक को 10 किग्रा गेहूं और 5 किग्रा चावल दिया जाता है। होली-दीपावली पर इन परिवारों को कपड़े, उपहार और मिठाई भी दिया जाता है। उनकी इस मुहिम में अब शहर के अन्य चिकित्सक भी जुड़ने लगे हैं। डॉ. शिप्रा और उनके पति द्वारा किया जा रहा कार्य वाकई क़ाबिल ए-तारीफ़ है। हमारे समाज को इससे कुछ सीखने की जरूरत है जो बेटी-बेटों में भेद करते हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...
%d bloggers like this: