Tuesday, April 23, 2019
DeoriaGorakhpur

बड़ी खबर:- देवरिया में लगेगा दो हजार मेगावाट का सौर उर्जा प्लांट….

सलेमपुर के महाल मंझरिया गांव में दो हजार मेगावाट का सौर उर्जा प्लांट लगेगा। जिला प्रशासन ने एनटीपीसी की तापीय विद्युत परियोजना के लिए चिन्हित इस जमीन पर सोलर प्लांट लगाने की अपनी संस्तुति अतिरिक्त उर्जा स्रोत विभाग को भेज दी है। माना जा रहा है कि शासन की मंजूरी मिलते ही टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

महाल मंझरिया में एनटीपीसी की तापीय विद्युत परियोजना के लिए 15 सौ एकड़ भूमि चिन्हित की गई थी। सर्वे में तापीय परियोजना के अनुकूल भूमि नहीं होने से मामला अधर में लटक गया। 25 जनवरी को भारत सरकार के नवीनीकरण उर्जा मंत्रालय के सलाहकार दिलीप निगम ने जिला प्रशासन को पत्र भेज पूछा था कि क्या तापीय परियोजना के लिए चिन्हित यह जमीन सोलर उर्जा प्लांट के लिए आवंटित की जा सकती है। इस क्रम में डीएम के निर्देश पर एसडीएम सलेमपुर ने मामले की पूरी जांच कर अपनी रिपोर्ट दी।

रिपोर्ट में न सिर्फ सोलर प्लांट की संस्तुति की गई, बल्कि एसडीएम ने चुरिया के ग्राम प्रधान सुग्रीव सिंह समेत 199 किसानों का सहमति पत्र भी जिलाधिकारी को सौंप दिया। ये किसान ग्राम महाल मंझरिया तप्पा बलिया परगना सलेमपुर मझौली के दोआबा में स्थित अपनी जमीन परियोजना के लिए देने को तैयार हैं। एसडीएम की इस रिपोर्ट के आधार पर जिलाधिकारी अमित किशोर ने 4 फरवरी को विशेष सचिव उप्र शासन अतिरिक्त उर्जा स्रोत विभाग को अपनी संस्तुति भेज दी है। माना जा रहा है कि शासन से स्वीकृति मिलते ही सोलर प्लांट की स्थापना की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

बाढ़ खंड बनाएगा 17 किमी बंधा
सोलर प्लांट के लिए चिन्हित जमीन को घाघरा की बाढ़ से बचाने के लिए बाढ़ खंड यहां बंधा बनाएगा। अधिशासी अभियंता बाढ़ खंड ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यह स्थान घाघरा के किनारे पर्याप्त उंचाई पर है। उक्त स्थान घाघरा नदी स्पिल एवं मुख्य नदी के बीच में स्थापित है। 15 सौ एकड़ की इस जमीन में कोई अन्य स्पिल या बड़ा नाला नही है। प्रोजेक्ट की स्थापना हेतु करीब 17 किमी लंबा बंधा बनाकर बीच की 15 सौ एकड़ भूमि पर जल प्लावन रोका जा सकेगा। बंधे की उपरी चौंड़ाई घाघरा नदी के डिस्चार्ज को देखते 5.5 मीटर और दोनों तरफ साइड स्लेप निर्माण कराना होगा।

22 करोड़ खर्च कर टू लेन होगी सड़क
श्रीराम जानकी मार्ग के किमी 191 से मानिकपुर मायापुर होते हुए चुरिया शिव मंदिर से आगे सोलर प्लांट के लिए चिन्हित जमीन अवस्थित है। करीब सात किमी का यह मार्ग भी टू लेन बनाया जाएगा। जिससे की प्लांट के लिए जरूरी मशीनों को महाल मंझरिया तक पहुंचाने में दिक्कत न हो। इस रोड के बनाने पर 22 करोड़ 88 लाख रुपए खर्च होंगे। इसका प्रस्ताव पीडब्लूडी ने तैयार कर लिया है।

शासन ने सोलर प्लांट के लिए महाल मंझरिया में चिन्हित जमीन के संबंध में रिपोर्ट मांगी थी। क्षेत्र के किसान इसके लिए तैयार हैं। उन्होंने इस संबंध में अपनी लिखित सहमति भी दे दी है। ऐसे में इस जमीन पर सोलर प्लांट की स्थापना की जा सकती है। जिला प्रशासन ने शासन को अपनी रिपोर्ट भेज दी है।
अमित किशोर, डीएम

Advertisements
%d bloggers like this: