Friday, June 18, 2021

भारत की पीठ में छुरा घोंपना पड़ेगा भारी, अब चीन हर साल खोएगा 40 बिलियन डॉलर

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

15 जून की रात को चीन ने लद्दाख में भारत की पीठ में छुरा घोंपा था। चीन के सैनिकों ने लोहे की कील लगे डंडों के साथ भारतीय सैनिकों पर धावा बोला था, जिसमें भारत के 17 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे। उस हमले के जवाब में भारत ने भी चीन के 43 सैनिकों को निपटाया था, लेकिन भारत अब शांत बैठने वाला नहीं है। भारत के PM पहले ही कह चुके हैं कि भारत चीन को जोरदार जवाब देगा। सरकार चीन पर Economic Strike करने के लिए तैयारी भी कर चुकी है। Economic Strike बालाकोट स्ट्राइक और किसी सर्जिकल स्ट्राइक से भी भयंकर होगी, क्योंकि चीन को इस स्ट्राइक का नुकसान आने वाले कई दशकों तक उठाना पड़ेगा। दरअसल, अब भारत चीन से आयात होने वाले कई सामानों पर प्रतिबंध लगाने वाला है। ऐसे में भारत के इस कदम से चीन की साँसे फूलना तय है।

Business Standard की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार बच्चों के खिलौनों से लेकर स्पोर्ट्स के सामान तक, अथवा फ़र्निचर से लेकर प्लास्टिक के अन्य सामानों तक, कुल 371 चीजों के आयात पर अधिक इम्पोर्ट ड्यूटि और कड़े नियम लागू करने वाली है। इन 371 चीजों का बड़ा हिस्सा भारत China से ही इम्पोर्ट करता है। अभी हर साल भारत इन्हें खरीदने के लिए 127 बिलियन डॉलर खर्च करता है। अगर चीन की बात करें तो भारत हर साल China से लगभग 51 बिलयन डॉलर का सामान आयात करता है। ऐसे में अगर भारत आने वाले कुछ सालों में इस आयात का बड़ा हिस्सा रोक पाने में सक्षम हो पाता है तो China को 40 से 50 बिलियन डॉलर का तगड़ा झटका लगना तय है।

ये भी पढ़े :  राष्ट्र के विकास में न्याय की सरल भाषा व मातृभाषा का अहम योगदान:शिव प्रताप शुक्ला
ये भी पढ़े :  योगी सरकार के 3 वर्ष पूरे होने पर सांसद रवि किशन ने दी बधाई,गोरखपुर को भोजपुरी फिल्मों का हब बनाने का लिया संकल्प.....

China news | India news: How India can solve the Chinese puzzle ...

चीन को नुकसान सिर्फ व्यापार में ही नहीं होने वाला है, बल्कि चीनी कंपनियों द्वारा भारत में सेवा प्रदान करने पर भी रोक लगाई जा रही है। उदाहरण के तौर पर सरकार ने सभी सरकारी टेलिकॉम कंपनियों के साथ-साथ सभी प्राइवेट कंपनियों को निर्देश देकर कहा है कि वे अपनी 4G या 5G सेवाओं को प्रदान करने के लिए किसी भी चीनी कंपनी से कोई उपकरण नहीं खरीदेंगे। इसके साथ ही सरकारी कंपनी BSNL ने मौजूदा टेंडर को रद्द कर नए टेंडर जारी करने की तैयारी कर ली है, जिसमें किसी भी चीनी कंपनी को शामिल होने की इजाजत नहीं दी जाएगी। माना जा रहा है कि इससे हुवावे और ZTE जैसी चीनी कंपनियों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। हुवावे का तो वैसे भी दुनियाभर में भारी विरोध हो रहा है। ऐसे में चीन के खिलाफ भारत सरकार के इस कदम से हुवावे की कमर टूटना तय है।

Why Trump's Huawei ban could cripple the company - Tech

इसके साथ ही भारतीय रेलवे भी चीनी ठेकेदारों से काम छीनना शुरू कर चुकी है। वर्ष 2016 में भारतीय रेलवे ने चीन की कंपनी China Railway Signal and Communication को 400 किमी लंबे Eastern Dedicated Freight Corridor पर सिग्नल सिस्टम को इन्स्टाल करने का ठेका दिया गया था, अब रेलवे ने इस ठेके को रद्द कर दिया है।

ये भी पढ़े :  दो एकड़ में विकसित होगी गोरखपुर का नक्षत्रशाला में विज्ञान वाटिका...

सरकार ने इसके साथ ही China की सॉफ्टवेयर कंपनियों के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। भारत सरकार से जुड़ी खूफिया एजेंसियों ने देशवासियों से चीन की 52 एप्स इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। सरकारी एजेंसियो ने कहा है कि ShareIt, Clean master, UC browser, Xender, TikTok और Zoom जैसी चीनी एप्स लोगों का डेटा आसानी से चीन पहुंचा सकती हैं, ऐसे में इन्हें ब्लॉक करने में ही फायदा है।

ये भी पढ़े :  एक फोन पर घर बैठे मंगाए फल,सब्जी,किराना व ब्रेकरी का समान,गोरखपुर के छात्रों की पहल.....

कोरोना के बाद सरकार पहले ही “वोकल फॉर लोकल” और “आत्मनिर्भर भारत” जैसे अभियान चला रही है। ऐसे में चीन की आक्रामकता ने भारत सरकार को खुलकर चीन का विरोध करने का अच्छा मौका प्रदान किया है। अब चीन को उसके किए की सज़ा हर साल मिलेगी। अब हर साल उसे भारत से मिलने वाले 40 बिलियन डॉलर से हाथ धोना पड़ेगा।

यह लेख भारत की पीठ में छुरा घोंपना पड़ेगा भारी, अब चीन हर साल खोएगा 40 बिलियन डॉलर सर्वप्रथम TFIPOST पर प्रकाशित हुआ है

शेष TFI पर पढ़े …

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

शहीद नवीन सिंह के परिवार को पवन सिंह ने दिया सहयोग।

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए गोरखपुर निवासी...
%d bloggers like this: