Sunday, April 18, 2021

भाषा और संस्कार के ‘बीज’ से पनपेगी ‘नर्सरी’…

UP: पंचायत चुनाव में पैसा बांट रहे थे BJP के पूर्व MLA के भाई, रंगे हाथ पकड़े गए

पूर्व भाजपा विधायक अवनीन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ महंत दूबे के छोटे भाई व पूर्व प्रधान सत्येन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ राजू द्विवेदी को...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर दी...

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव          

गोरखपुर टाइम्स ब्रेकिंग :-    अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव               अभी-अभी मेरी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मैंने...

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट          गोरखपुर : महापौर सीताराम जायसवाल ने...

गोरखपुर :- आरपीएम के छात्र प्रवीण ने बढ़ाया ज़िले का मान,SDM बनकर करेंगें प्रदेश की सेवा

प्रदेश की सर्वश्रेष्ठ परीक्षाओं में से एक उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग 2020 की परीक्षा का परिणाम लोक सेवा आयोग के द्वारा...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

भाषा और संस्कार के ‘बीज’ से पनपेगी ‘नर्सरी’विवेक सिंह
गोरखपुर। नई शिक्षा नीति के माध्यम से स्कूली शिक्षा की आधारभूत संरचना में बड़ा बदलाव करने की तैयारी है। इसके तहत नर्सरी से कक्षा-12 तक की पढ़ाई को चार हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में नर्सरी से कक्षा दो की शिक्षा को रखा गया है। इसमें बच्चों को केवल भाषा और संस्कारों की पढ़ाई कराई जाएगी। न्यू एजुकेशन पॉलिसी का ये मसौदा जिले के सीबीएसई, आईसीएसई और यूपी बोर्ड से संचालित स्कूल प्रबंधनों को भेज दिया गया है।
कक्षा तीन से पांच तक ज्यादा ध्यान एक्टिविटी बेस्ड पढ़ाई पर दिया जाएगा। बच्चों को खेल-खेल में रोचक तरीके से पढ़ाया जाएगा। साथ ही भाषा भी कोर्स में शामिल होगा। विषय की पढ़ाई कक्षा छह से आठ तक कराई जाएगी। बच्चों पर अचानक इसका दबाव न हो, इसलिए इनकी संख्या भी काफी कम होगी। कक्षा 9-12 तक की शिक्षा को पूरी तरह से एनसीईआरटीई पर आधारित बनाया जाएगा। इनमें विषयों की प्रधानता तो होगी ही प्रैक्टिकल भी होंगे।
सभी जगह कक्षा 3,5,8 के पेपर एक जैसे होंगे
नई व्यवस्था के अंतर्गत कक्षा तीन, पांच और आठ के पेपर भी बोर्ड परीक्षाओं की ही तरह एक जैसे होंगे। यानी दसवीं में पहली बार बोर्ड परीक्षा से पहले तीन बार वैसी ही पढ़ाई के तौर तरीकों से विद्यार्थियों को गुजरना होगा। इनकी परीक्षाएं भी एक साथ होंगी।
एनसीईआरटीई की किताबें ही होंगी लागू
कक्षा 9-12 तक आईसीएसई, सीबीएसई और यूपी बोर्ड से संचालित विद्यालयों में अनिवार्य रूप से एनसीईआरटीई की किताबें ही लागू होंगी। 2022-23 तक इसे लागू किया जाएगा। ऐसे में विद्यार्थी देश में कहीं भी जाएं, उनका सिलेबस एक जैसा होगा।
कोट
न्यू एजुकेशन पॉलिसी के मसौदा का अध्ययन किया जा रहा है। निश्चित रूप से शिक्षा के स्वरूप में बदलाव होगा। चार हिस्सों में सिलेबस को बांटा गया है। नर्सरी में भाषा के साथ संस्कार की शिक्षा दी जाएगी। – अजय शाही, अध्यक्ष गोरखपुर पब्लिक स्कूल एसोसिएशन

ये भी पढ़े :  चीन को मुंहतोड़ जबाब देने को तैयार कौड़ीराम के युवा,लिया संकल्प अपनाएंगे लोकल

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

UP: पंचायत चुनाव में पैसा बांट रहे थे BJP के पूर्व MLA के भाई, रंगे हाथ पकड़े गए

पूर्व भाजपा विधायक अवनीन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ महंत दूबे के छोटे भाई व पूर्व प्रधान सत्येन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ राजू द्विवेदी को...

यूपी बोर्ड 2021: हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं आठ मई से, स्कीम जारी

बुजुर्ग माता-पिता की सेवा नहीं की तो संपत्ति से होंगे बेदखल

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब बुजुर्ग माता-पिता के हित में नया कानून लाने की तैयारी में है। योगी सरकार अब...
%d bloggers like this: