Saturday, August 15, 2020

भाषा और संस्कार के ‘बीज’ से पनपेगी ‘नर्सरी’…

ड्यूटी के दौरान गोरखपुर के जवान की हुई मौत, 20 साल पहले सिपाही पद पर हुआ था भर्ती

रामसेवक गौड़ की फाइल फोटो।  उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्र के बड़हलगंज...

विधायक विजय मिश्र ने मुख्तार और बृजेश के खेमे से दूर रह कर बनाया अलग मुकाम

विधायक विजय मिश्र बीते तीन दशक से ज्यादा समय से पूर्वांचल में अपराध और स्थानीय...

सीओ प्रवीण सिंह ने कार्यालय पर किया झंडारोहण,दिलाई राष्ट्रीय एकता का संकल्प….

क्षेत्राधिकारी गोरखनाथ प्रवीण कुमार सिंह ने स्वतंत्रता दिवस के पावन अवसर पर अपने कार्यालय पर झंडारोहण किया।सभी ने राष्ट्रगान गाया।।सोशल डिस्टेंसिंग का...

यूपी पुलिस के जज्बे को सलाम घुटने भर पानी में खड़े हो किया ध्वजारोहण, जय हिंद के नारों से गूंजा गगन….

घुटनों भर पानी में खड़े होकर यूपी पुलिस ने किया ध्वजारोहण, जय हिंद    आज संपूर्ण राष्ट्र 74 वां...

आजमगढ़ कांड: सीएम योगी ने किया मुआवजे का ऐलान, दोषियों पर लगेगा गैंगस्टर और एनएसए, संपत्ति होगी जब्त

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के तरवां थाना क्षेत्र में शुक्रवार रात हुई घटना का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

भाषा और संस्कार के ‘बीज’ से पनपेगी ‘नर्सरी’विवेक सिंह
गोरखपुर। नई शिक्षा नीति के माध्यम से स्कूली शिक्षा की आधारभूत संरचना में बड़ा बदलाव करने की तैयारी है। इसके तहत नर्सरी से कक्षा-12 तक की पढ़ाई को चार हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में नर्सरी से कक्षा दो की शिक्षा को रखा गया है। इसमें बच्चों को केवल भाषा और संस्कारों की पढ़ाई कराई जाएगी। न्यू एजुकेशन पॉलिसी का ये मसौदा जिले के सीबीएसई, आईसीएसई और यूपी बोर्ड से संचालित स्कूल प्रबंधनों को भेज दिया गया है।
कक्षा तीन से पांच तक ज्यादा ध्यान एक्टिविटी बेस्ड पढ़ाई पर दिया जाएगा। बच्चों को खेल-खेल में रोचक तरीके से पढ़ाया जाएगा। साथ ही भाषा भी कोर्स में शामिल होगा। विषय की पढ़ाई कक्षा छह से आठ तक कराई जाएगी। बच्चों पर अचानक इसका दबाव न हो, इसलिए इनकी संख्या भी काफी कम होगी। कक्षा 9-12 तक की शिक्षा को पूरी तरह से एनसीईआरटीई पर आधारित बनाया जाएगा। इनमें विषयों की प्रधानता तो होगी ही प्रैक्टिकल भी होंगे।
सभी जगह कक्षा 3,5,8 के पेपर एक जैसे होंगे
नई व्यवस्था के अंतर्गत कक्षा तीन, पांच और आठ के पेपर भी बोर्ड परीक्षाओं की ही तरह एक जैसे होंगे। यानी दसवीं में पहली बार बोर्ड परीक्षा से पहले तीन बार वैसी ही पढ़ाई के तौर तरीकों से विद्यार्थियों को गुजरना होगा। इनकी परीक्षाएं भी एक साथ होंगी।
एनसीईआरटीई की किताबें ही होंगी लागू
कक्षा 9-12 तक आईसीएसई, सीबीएसई और यूपी बोर्ड से संचालित विद्यालयों में अनिवार्य रूप से एनसीईआरटीई की किताबें ही लागू होंगी। 2022-23 तक इसे लागू किया जाएगा। ऐसे में विद्यार्थी देश में कहीं भी जाएं, उनका सिलेबस एक जैसा होगा।
कोट
न्यू एजुकेशन पॉलिसी के मसौदा का अध्ययन किया जा रहा है। निश्चित रूप से शिक्षा के स्वरूप में बदलाव होगा। चार हिस्सों में सिलेबस को बांटा गया है। नर्सरी में भाषा के साथ संस्कार की शिक्षा दी जाएगी। – अजय शाही, अध्यक्ष गोरखपुर पब्लिक स्कूल एसोसिएशन

ये भी पढ़े :  सोशल मीडिया पर अलका लांबा और योगेश्वर दत्त की भिड़ंत, बात नाजायज औलाद और मां तक पहुंची

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर के इस बेटे का आईएएस में हुआ चयन, कहा- सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं

जिंदगी में कुछ सार्थक करने के लिए सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं। शुरुआती...

समधी-समधन के बाद अब जेठ-देवरानी घर से भागे, जेठानी बोली- बच्चों को कैसे पालूंगी….

यहां समधी-समधन के प्यार में घर से भाग जाने के बाद अब एक शादीशुदा शख्स अपने ही छोटे भाई की पत्नी के साथ भाग...

Related Articles

केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक भी कोरोना पॉजिटिव, कहा- मेरे संपर्क में आए लोग करा लें जांच….

केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद वाई नाइक (Shripad Y Naik) कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। उन्‍होंने खुद ट्वीट कर यह...

अयोध्या: बाबर के नाम पर नहीं बनेगी मस्जिद, नींव रखने के लिए योगी को मिलेगा न्योता…

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने साफ किया है कि अयोध्या में दी गई जमीन पर बनने वाली मस्जिद का नाम बाबरी मस्जिद...

महाराजगंज:शराब ठेके पर मारपीट के बाद चौकी इंचार्ज पर तानी लाठी,चौकी छावनी में तब्दील…

बृजमनगंज थाना क्षेत्र के एक मयखाने पर शौकीन युवक का मूड इस कदर खराब हुआ कि फरेंदा सर्किल के सभी चार थानों...
%d bloggers like this: