Monday, August 2, 2021

मजदूरों ने कहा- अब मन लग गया तो जाने को कह रहे,15 से बंद हो जाएंगे क्वारेंटाइन सेंटर…

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

चकाचक लुंगी, गंजी और गमछा। तीन टाइम का खाना। जेनेरेटर से रात भर बिजली। सोने के लिए बिस्तर और मच्छरदानी। गांव –देहात में इन छोटी-छोटी चीजों से ही बड़ी खुशियां मिल जाती हैं। दूसरे राज्यों में फजीहत झेलने के बाद जब मजदूरों को बिहार के क्वारेंटाइन सेंटर में ऐसे इंतजाम मिले तो उन्हें ऐसा लगा जैसे किसी ने जख्मों पर मरहम लगा दिया। बेगूसराय के एक ऐसे ही क्वारेंटाइन सेंटर पर मजदूर आवभगत से गदगद थे। जब 14 दिन रहने की मियाद पूरी हो गयी तो वे केन्द्र से जाना ही नहीं चाहते थे। मजदूरों ने केन्द्र प्रभारी से कहा, पहले तो हम यहां रहना नहीं चाहते थे और अब जब रहना चाहते हैं तो जाने के लिए कह रहे हैं। बहुत समझाने-बुझाने पर वे जाने को तैयार हुए। कई क्वारेंटाइन सेंटर में बदइंतजामी रही। कई मजदूर भागे भी। लेकिन बाद में बिहार सरकार ने प्रवासी मजदूरों को सुविधा मुहैया कराने के लिए पूरा जोर लगाया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कई जिलों में मजदूरों बात की। नीतीश का नुस्खा काम कर गया। अब जब मजदूर कोरोना के भय से मुक्त हो कर घर लौट रहे हैं तो उनके चेहरों पर खुशियां हैं।

15 जून से बंद हो जाएंगे क्वारेंटाइन सेंटर…

बाहर से आने वाले मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में वेलकम किट दिया गया जिसे बिहार सरकार ने डिगनिटी किट का नाम दिया। डिगनिटी किट में पुरुषों के लिए लुंगी, गंजी ,गमछा, दरी, थाली, कटोरा, ऐनक, कंघी, साबुन, टूथब्रश, टूथ पेस्ट, बाल्टी और मग था। महिलाओं के लिए साड़ी, ब्लाउज पेटीकोट और दूसरे सामान थे। बच्चों को पैंट और गंजी दिया गया। रात में सोने के लिए मच्छरदानी भी मिली थी। महिलाओं के लिए अलग से अस्थायी शौचालय और स्नानघर बनाये गये थे। जहां केन्द्र प्रभारी और अधिकारी सजग थे वहां बेहतर इंतजाम किये गये। बिहार में बाहर से लौटने वाले मजदूरों के अंतिम जत्थे की क्वारेंटाइन अवधि 15 जून तक पूरी हो जाएगा। 15 जून के बाद सभी क्वारेंटाइन सेंटर बंद कर दिये जाएंगे। चूंकि अधिकतर क्वारेंटाइन सेंटर स्कूलों में बनाये गये थे इसलिए सरकार अब इनको खाली कराने की तरफ कदम बढ़ा रही है। पढ़ाई शुरू करने से पहले स्कूलों को पहले की स्थिति में लाना है। उनको कई बार सेनिटाइज करना है। चूंकि अब कुछ शर्तों के साथ आवाजाही शुरू हो गयी है इसलिए क्वारेंटाइन का रजिस्ट्रेशन बंद कर दिया गया है।

ये भी पढ़े :  नोएडा से गांव आए संक्रमित युवक ने अपने परिवार के पांच लोगों को दिया कोरोना, सब अस्पताल में भर्ती...
ये भी पढ़े :  राजधानी लखनऊ तक पहुँचे टिड्डी दल,मुस्तैद है कृषि विभाग

कुछ अच्छे इंतजाम…

सरकार ने क्वारेंटाउन सेंटर में रहने वाले हर मजदूर के भोजन और नास्ते के लिए एक सौ पच्चीस रुपये निर्धारित किये थे। उन्हें दिन में दो टाइम का खाना और एक बार नाश्ता दिया जाता था। इसके अलावे हर मजदूर को डिगनिटी किट दिया गया। बिहार में कुछ ऐसे भी जिलाधिकारी रहे जिन्होंने मजदूरों की देखभाल के लिए खूब मेहनत की। खगड़िया के डीएम आलोक रंजन घोष ने क्वारेंटाउन सेंटर के इंतजामों पर खुद नजर रखी। एक दिन वे मानसी प्रखंड के अकनिया गांव पहुंच गये। वहां के क्वारेंटाइन सेंटर पर बने भोजन को उन्होंने खुद खा कर उसकी गुणवत्ता परखी। मजदूरों ने बातचीत में जिलाधिकारी को बताया कि वे रोज दाल-भात का कर ऊब गये हैं। मेनू को अगर बदल दिया जाए तो मेहरबानी होगी। तब जिलाधिकारी ने मजदूरों की एक टीम बना कर उन्हें खुद मेनू तय करने का अधिकार दे दिया। फिरतब केन्द्र प्रभारी ने इस टीम की सलाह पर कभी खीर, कभी वेज बिरयानी तो कभी सत्तू पूड़ी खाने में परोसा।

ये भी पढ़े :  राज्यसभा में शपथ ग्रहण:ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत 61 सांसद आज शपथ लेंगे,

अब तो आने वाले जाने भी लगे…

क्वारेंटाइन सेंटर से घर लौट रहे मजदूरों के पास अभी कुछ दिनों का अनाज है। सेंटर से विदाई के समय उन्हें अनाज और तेल मसाला मिला है। नये राशन कार्ड पर भी चावल गेहूं मिल रहा है। कुछ दिनों का तो दाना-पानी है, लेकिन आगे क्या होगा, कुछ पता नहीं। बाहर से लौटने वाले स्किल्ड लेबर गांव में खेती या मनरेगा में मिट्टी काटने का काम कैसे करेंगे ? इसके लेकर उनमें चिंता बनी हुई है। सरकार ने वैसे तो सभी प्रवासी मजदूरों को अब बिहार में ही रहने का सुझाव दिया है, लेकिन लौटने वालों पर कोई बंदिश भी नहीं है। पंजाब में अब धान की खेती शुरू होने वाली है। वहां धान की खेती एक हद तक बिहारी मजदूरों पर निर्भर है। पंजाब के किसान बिहारी श्रमिकों के नहीं रहने से परेशान हैं। अब तो ऐसी स्थिति आ गयी है कि मजदूरों को पंजाब ले जाने के लिए वहां के किसान खुद बस लेकर बिहार पहुंचने लगे हैं। शिवहर जिले के तरियानी प्रखंड से करीब दो सौ मजदूर पंजाब पहुंच भी गये हैं। मजदूरों के हाथ खाली हैं। वे जल्द से जल्द कुछ पैसा कमाना चाहते हैं। पंजाब से आये किसानों ने उनको एक विकल्प दे दिया है। हालांकि स्थानीय प्रशासन मजदूरों के पलायन को रोकना चाहता है लेकिन मजदूर उनकी एक नहीं सुन रहे। अब बिहार सरकार पर यह दबाव है कि वे दूसरे राज्यों से आये लाखों मजदूरों को कैसे रोजगार देती है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: