Sunday, July 25, 2021

मरकज और जमातियों के बैंक अकाउंट से जुड़ा बड़ा खुलासा, विदेश से इस तरह आता था बेशुमार पैसा

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

नई दिल्ली: मौलाना साद (Maulana Saad) और उसके बेटों समेत मरकज के 11 बैंक अकाउंट समेत 125 संदिग्ध बैंक अकाउंट क्राइम ब्रांच की रडार पर आ गए हैं. जांच के दौरान एजेंसियों को पता चला कि ये वो जमाती हैं, जिनके बैंक अकाउंट में जनवरी से मार्च के महीने में काफी पैसा आया था.

बाद में ये पैसा दूसरे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर हो गया. क्राइम ब्रांच ने ऐसे ही 125 बैंक अकाउंट की लिस्ट बनाई है. जिसमें कुछ विदेशों से आए जमाती भी हैं. करीब 2041 जमाती मरकज से जुड़े हुए हैं. क्राइम ब्रांच को शक है कि इतने ज्यादा बैंक अकाउंट के जरिए विदेशों से मिलने वाली विदेशी करेंसी को हवाला के जरिए भारतीय करेंसी में बदलकर छोटी-छोटी रकम के तौर पर डाल दी जाती होगी, ताकि बैंक की गाइडलाइंस के मुताबिक किसी को कोई शक भी नहीं होगा.

ये भी पढ़े :  चीन कोरोना की वैक्सीन बनाने में हुआ सफल, मनुष्‍यों पर ट्रायल के आए बड़े पॉजिटिव रिजल्‍ट

उसके बाद उन पैसों को कहीं दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है. क्राइम ब्रांच अब इन 125 अकाउंट होल्डर की पहचान करने में जुटी है. क्राइम ब्रांच को अभी तक अपनी जांच में पता चला है कि सबसे ज्यादा पैसे सऊदी अरब और मिडल ईस्ट के देशों से मरकज को हवाला के जरिए मिलता था.

ये भी पढ़े :  शाहीन बाग की शेरनी सफूरा जरगर बिना ब्याह हो गई गर्भवती?, सोशल मीडिया पर लोग बना रहे मजाक....

पैसों को जमातियों के रहने-खाने और धर्म के प्रचार के लिए लिया जाता था. विदेशों के आर्थिक रूप से सम्पन्न तबलीगी जमात के लोगों से एक दिन में 1000 जमातियों के रहने-खाने और पीने के खर्चे के तौर पर अगर 50,000 का खर्चा आता है और इस 50 हजार को 365 दिन यानी एक साल के हिसाब से गुणा करें, तो ये बहुत बड़ा अमाउंट हो जाता है. ऐसी मोटी रकम लगातार मरकज को मिलती रहती थी, जिसको अलग-अलग बैंक अकाउंट में डाल दिया जाता था.

सूत्रों के मुताबिक अपने धर्म के प्रचार के लिए मरकज से अलग-अलग टुकड़ियां बाहर जाती थीं, किस टुकड़ी में कितने लोग हैं और उनके आने-जाने, रहने और खाने पीने पर कितना खर्च आएगा, इस पर बहुत सी चीजें तय होती थीं. किस टुकड़ी में कौन-कौन जाएगा, इसका फैसला भी मौलाना साद करता था.

टुकड़ी में जाने वाले लोगों की आर्थिक स्थिति भी देखी जाती थी, हर टुकड़ी में कुछ विदेशी भी होते थे. हर एक टुकड़ी का एक लीडर बना दिया जाता था, और हर टुकड़ी से पैसा जमा करा लिया जाता था. जमा कराया पैसा टुकड़ी के लीडर को दे दिया जाता था. उस लीडर के पास ही उस पैसों को खर्च करने का अधिकार होता था.

ये भी पढ़े :  कोरोना का डर / सेंसेक्स में 2552 अंक लुढ़का , इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट ; यूरोप पर अमेरिकी प्रतिबंध से डाउ जोंस भी 1464 अंक फिसला

सूत्रों का कहना है कि जमात की टुकड़ी जिन इलाकों में जाती थी, अमूमन वहां पर यह लोग मस्जिदों में रहते थे. साथ ही स्थानीय लोगों के घरों में खाते पीते थे. ऐसे में इन लोगों का खर्च बेहद कम होता था. पूछताछ के दौरान इस तरह के तथ्य सामने आए हैं कि जो पैसा बच जाता था वह जमात के निजामुद्दीन मुख्यालय का मान लिया जाता था.

ये भी पढ़े :  ब्रेकिंग:- क्या हो गया है गोरखपुर को आये दिन हत्याएँ, सहजनवा में युवक की खून से लतपथ मिली लाश... हत्या की आशंका

पूछताछ के दौरान यह भी पता चला है कि पैसों का लेन देन अलग-अलग लोग करते थे, लेकिन पैसों वाले खातों का हिसाब मौलाना साद के तीन बेटों मोहम्मद यूसुफ, मोहम्मद सईद और मोहम्मद इलियास के साथ-साथ मौलाना साद के भांजे ओवैस के पास रहता था.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: