Thursday, October 21, 2021

माउंट लिटेरा गोरखपुर::- लॉकडाउन के बीच स्कूल से निकाले गए आधा दर्ज़न शिक्षक-शिक्षिकाएं,कहाँ जायें यह

Mrj: अधिकरियो के रहमो-करम पर दबंगों द्वारा चकनाले की जमीन पर बिना मान्यता प्राप्त विद्यालय का किया जा रहा है संचालन, बच्चों का भविष्य...

Maharajganj/Dhani: युवा समाजसेवी अजय कुमार का कहना है कि धानी ब्लाक के अन्तर्गत एक विद्यालय साधु शरण गंगोत्री देवी लेदवा रोड बंगला...

साष्टांग प्रणाम यात्रा पे निकला बांसी से लेहड़ा मंदिर – भक्त रामशब्द लोधी

Maharajganj/ SiddharthNagar: बांसी क्षेत्र के अंतर्गत राम गोहार गाँव से रामशब्द लोधी ने लगातार तेरह वर्षों से नवमी में सष्टांग प्रणाम यात्रा...

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

लॉकडाउन के बीच स्कूल से निकाले गए आधा दर्ज़न शिक्षक-शिक्षिकाएं

प्रधानमंत्री की अपील के बाद भी नौकरी से निकाला, आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत दर्ज होगा केस

लॉकडाउन में नौकरी से न निकालने के शासन के आदेश की स्कूल प्रबंधन ने उड़ाई धज्जियां

कुसम्ही बाजार स्थित माउंट लिट्रा जी स्कूल का मामला_गोरखपुर। कोरोना वायरस के खतरे के बीच पूरे देश में चल रहे लॉकडाउन के दौरान एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नियोक्ताओं से अपील कर रहे हैं कि किसी को नौकरी से न हटाया जाए, वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर में कुसम्ही बाज़ार स्थित सीबीएसई माध्यम से संचालित माउंट लिट्रा जी स्कूल ( सम्बद्धता कोड 2131573) में एक साथ 6 शिक्षक-शिक्षिकाओं को अचानक मैसेज भेजकर नौकरी से हटा दिया गया है।जबकि स्पष्ट आदेश है कि;लॉकडाउन के दौरान किसी भी स्थिति में कर्मचारियों की सेवा समाप्ति नहीं की जानी है।यह कृत्य शासकीय आदेशों के प्रति घोर लापरवाही एवं उदासीनता को दर्शाता है।_

बिना किसी कारण निकाले गये शिक्षक व शिक्षिकायें इसकी शिकायत शासन – प्रशासन व मुख्यमंत्री कार्यालय में करने के साथ पुलिस को शिकायत पत्र प्रस्तुत कर धारा 188, 269, 270, 51 व 58आपदा प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज कराने की बात कह रहे है।

ये भी पढ़े :  दिल्ली से एक सैलाब आ रहा आपके गाँव में ट्रकों में,क्या यही है व्यवस्था....
ये भी पढ़े :  भारत को चीन के विरुद्ध वैश्‍विक स्तर पर उत्पन्न जनक्षोभ का लाभ उठाना चाहिए ! - आर.एस.एन. सिंह, ‘रॉ’ के पूर्व अधिकारी


कानून के जानकारों के अनुसार, मुकदमा की सुनवाई के दौरान आरोप सही साबित होने पर आरोपित को लंबे समय तक कारावास का प्रावधान है। गौरतलब है कि पूरा देश अभी कोरोना महामारी से लड़ रहा है। इसके रोकथाम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 24 मार्च को पहले 21 दिनों का लॉकडाउन लगाया था, जिसे 14 अप्रैल को बढ़ाकर तीन मई तक कर दिया है। वहीं, प्रधानमंत्री ने देश के नाम अपने संबोधन में स्पष्ट तौर पर कहा था कि लॉकडाउन के कारण कोई भी अपने यहां काम करने वाले को नौकरी से नहीं निकाले।

शिक्षिकाओं ने बातचीत के दौरान बताया कि स्कूल की प्रधानाचार्या की ओर से मौखिक रूप से शिक्षण ठीक नहीं होने की बात कहकर हटाया गया है। शिक्षकों का कहना है कि लाकडाउन के दौरान ही एक प्रतिष्ठित स्कूल को अपने शिक्षकों को परखने में तीन वर्ष से ज्यादा का समय कैसे लग गया।


इस समय  महामारी के चलते हर व्यक्ति किसी न किसी रूप में प्रभावित है। देश में लॉकडाउन चल रहा है। हर राज्य की सीमाएं सील है। हर व्यक्ति परिवार सहित घरों में बंद है। उसे सिर्फ रोजी-रोटी की चिंता सता रही है। इस बीच किसी की नौकरी चली जाए तो उसके परिवार पर संकट मंडराना शुरू हो जाएगा।
भूखों मरने की स्थिति उपत्पन्न हो जाएगी। इस परिस्थिति को देखते हुए सरकार ने सभी संस्थान के मालिकों सहित अन्य प्रतिष्ठान संचालकों से अपील की थी कि इस विपरित परिस्थिति में अपने किसी भी कर्मचारी को नौकरी से न निकालें ।

ये भी पढ़े :  अखिलेश से नाराज हुईं खजांची की मां, बोलीं जब तक अखिलेश गांव नहीं आते, वह दिए गए आवास में नहीं रहेगी....
ये भी पढ़े :  बड़ी खबर- कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण का पूरा खर्च उठाएगी मोदी सरकार


इसके बावजूद माउंट लिट्रा जी स्कूल कुसम्ही बाज़ार प्रबंधन द्वारा लाकडाउन में कई कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी गई। इस परिस्थिति में नौकरी से निकाल देने से इन पर रोजी-रोजी का संकट खड़ा हो गया है। लॉकडाउन के समय में पहले से रोजी-रोजी की समस्या से जूझ रहे ये कर्मचारी अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...
%d bloggers like this: