Monday, September 20, 2021

कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद पर हुई ई-चर्चा,पैनलिस्टो ने बताई उनकी खूबियां,जीवनी व लेखनी को किया रेखांकित…

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कलम के सिपाही कथा सम्राट मुँशी प्रेमचंद की जयंती के पूर्व जागरूक गोरखपुर (जागो) संस्था ने डिजिटल ई-संवाद परिचर्चा कार्यक्रम के तहत अपने अपने प्रेमचंद से जुड़े मुँशी प्रेमचंद की जीवनी और लेखनी में समानताये व अंतर विषय पर सोशल मीडिया के माध्यम से सार्थक परिचर्चा करते हुए पैनल में उपस्थित नाट्यकर्मी मुमताज खान ने प्रेमचंद के जीवन और संघर्षो को रेखांकित करते हुए बताया कि उनकी नौकरी, सामाजिक और साहित्यिक जीवन का बहुत महत्वपूर्ण समय गोरखपुर में बीते। उन्होने प्रेमचंद की व्यक्तित्व और कृतित्व को प्रतिरोध का प्रतिबिम्ब बताते हुए उनकी कृति – ‘हज्ज-ए-अकबर’ के कथानक को बताते हुए संदेश दिया की सबसे बडा धर्म मानवता है।प्रेमचंद के नाटक उनके उपन्यास और कहानियो के बीच कही गुम हो गये सवाल का जवाब देते हुए उन्होने कहा की उस काल के नाटकार उनकी कहानियो और उपन्यास से ज्यादा प्रभावित रहे इस वजह से उनके नाटको की बजाय उनकी कहानियो पर ज्यादा नाटक हुए।।

ये भी पढ़े :  ब्रेकिंग:कुशीनगर के हेतिमपुर में फाइटर प्लेन हुआ क्रैश,धु-धु कर जल गया प्लेन,पायलट पैराशूट लेकर कूदे....


प्रेमचंद अध्येता विजय कुमार शुक्ल ने प्रेमचंद के साहित्य की उपलब्धि आम आदमी नायक के रूप में स्थापित होना बताया। उन्होने कफ़न कहानी के माध्यम से खत्म होती मानवता पर चर्चा की। उन्होने होरी के माध्यम से किसानो की दुर्द्शा पर बात करते हुए कहा की आज भी उनकी स्थिति वैसी ही है। प्रेमचंद ने साम्प्रदायिकता का एक तरफा विरोध नही किया बल्की मुखरता से सभी प्रकार की साम्प्रदायिकता को धिक्कारा लेकिन आज यह खांचो में बंट गया है पर अपनी बात रखते हुए कहा की वास्तव में प्रेमचंद ने अपनी बाते बिना लाग-लपेट के रखा और हमें उसे आज भी उसी तरह देखना ही होगा।।

ये भी पढ़े :  बड़ी ख़बर:-गोरखपुर एसएसपी द्वारा किए गए सभी तबादले निरस्त, कोई नहीं हटे गा अपनी जगह से


संस्कृतिकर्मी रोशन एहतेशाम ने कहा की प्रेमचंद के साहित्य से हमें आदर्शो और संघर्षो के अलग-अलग रंग मिलेंगे। उन्होने उनके जीवन की चर्चा करते हुए कहा की प्रेमचंद साहित्य उनकी-हमारी ‘जिंदगी की किताब’ ही है। स्वतंत्रता आंदोलन में उन्होने अपने साहित्य से एक जान डाल दिया। उन्होने स्त्री, किसान, वंचितो से लेकर सभी वर्ग को अपने कथानक में शामिल किया और उनके मुद्दो को बहुत ही बेबाकी से रखा। कथा सम्राट से लेकर कलम के सिपाही तक के सफर पर अपने विचार रखते हुए कहा की उनके विचार समाज के लिये लाईट हाउस है।

युवा रंकर्मी एनएसडी प्रशिक्षित दिक्षा तिवारी ने किसी भी काहनी के लिये लेखक का उसे अनुभव करने को आवश्यक कहा। दीक्षा ने कहा की उनके कथानक में उनके जीवन के रंगो की झलक मिलती है। प्रेमचंद के साहित्य को बहुत ही सहज बताते हुए कहा की इसी वजह से उनके साहित्य से कोई भी गैर साहित्यकार आम आदमी भी जुड जाता है उसे यह लगता है यह तो उसी की कहानी है।

ये भी पढ़े :  कड़ी मेहनत कर रहे पुलिसकर्मियों को फल देकर युवा नेता ने किया सम्मान


नाट्य लेख़क आनंद पांडेय ने मुँशी प्रेमचंद को आज की जरूरत बताते हुए उनके जीवनी और उपन्यासों पर अनेक बिंदु प्रस्तुत किये, साथ है सोशल मीडिया के माध्यम से बहुत से दर्शकों ने अपने अपने सवालों को वक्ताओं से पूछा और जवाब भी लेना चाहा, ऐसे डिजिटल ई संवाद परिचर्चा कार्यक्रम लगातार होने की शुभकामना भी दी।

ये भी पढ़े :  ये है आज सब्जियों का रेट,कोई ले ज्यादा तो प्रशासन को करे सूचना....


साथ ही सभी वक्ताओ ने प्रेमचंद से प्रेरित होते हुए साहित्यकारो से अपनी बातो को मुखरता और बिना लाग लपेट के कहने की अपील की।कार्यक्रम का संचालन अमित सिंह पटेल ने किया व आयोजन जागरूक गोरखपुर (जागो) संस्था ने की।।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...
%d bloggers like this: