Saturday, July 24, 2021

राम का असली वंशज कौन…..??पूर्व टीवी पत्रकार अमित त्रिपाठी के कलम से…

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

रामायण देख रहे ढेरों लोगों के मन में ये प्रश्न हैै। वो जो सवाल पूछते हैं और वो जो नहीं पूछते– जवाब दोनों को चाहिये। लेकिन जवाब ढूंढने से पहले एक बार खुद से पूछिए — राम को आप क्यों चाहते हैं? इसलिए कि वो किसी खास कुल में जन्मे थे? इसलिए कि वो दशरथ के पुत्र थे? इसलिए कि वो अयोध्या के राजा थे? या इसलिये कि बचपन में मास्टर साहब ने बताया था कि इनको देख के प्रणाम करना है – तो आज तक किये जा रहे हैं?

आप जानते हैं– शक्ति बहुतों के पास थी, राजा-अजेय योद्धा बहुत हुए, खास कुल या जाति का घमंड पालने वाले, पूरी दुनिया को अपनी ताकत से रौंद देने वाले, अथाह संपत्ति से सुख का चरम भोगने वाले कुबेर भी अनगिनत हुए, लेकिन राम सिर्फ एक हैं।

ये भी पढ़े :  पत्नी पंखुड़ी पाठक पर विवादित टिप्पणी से आहत पूर्व सपा प्रवक्ता अनिल यादव ने छोड़ी समाजवादी पार्टी

महर्षि वाल्मीकि के रामायण और तुलसीदास कृत श्रीरामचरितमानस के माध्यम से हमारे सामने जो राम प्रकट होते हैं वो किसी एक परिवार, एक कुल, एक जाति या एक राज्य के हो ही नहीं सकते। इसीलिये भारत की सीमाओं के बाहर भी राम पूज्य हैं, प्रिय हैं, प्रेरक हैं। आज लौकिक रूप से दृश्यमान न होने पर भी राम को देखा जाता है- पिता पुत्र में, भाई भाई में, मित्र मित्र में व प्रजा अपने राजा में राम के दर्शन करना चाहती है, करती है। पूरी दुनिया में उनके उपासक हैं, विभिन्न भाषाओं में अनुवादित उनके जीवन प्रसंग को विश्व के कोने-कोने में पढ़ा–सुना-कहा जाता है, वहां भी जहां हिंदू बहुत कम संख्या में हैं।

ये भी पढ़े :  कुछ इस तरह की होगी संसद भवन की नई बिल्डिंग, 10 दिसंबर को पीएम मोदी करेंगे भूमि पूजन।

आज राजा राम हमारे सम्मुख नहीं,लेकिन जनता के दिलों पर तो अब भी उनका राज है। ये सिर्फ किसी प्रदेश का शासक होने, प्रतापी होने, अजेय धनुर्धर होने से संभव नहीं हो सकता था।

राम तो गुणों का समुच्चय हैं, मानवता के रक्षक हैं, मर्यादा के पालक हैं, आदर्शों के वाहक हैं, धर्म ध्वजा के धारक हैं, शोषितों के उद्धारक हैं, प्रजा वत्सल हैं, पुरुषों में उत्तम हैं, राजाओं में सर्वोत्तम हैं, संवेदना के पुंज हैं, परम् प्रतापी मगर कोमल भावनाओं वाले हैं। राम सबको मान देने वाले, सबको साथ लेकर चलने वाले, प्रजा हित के लिए व्यक्तिगत हितों की आहुति दे देने वाले और लोक कल्याण के लिए सदैव अपने जीवन को दांव पर लगाने को तैयार हैं। वो वन में बिन राजमुकुट भी राजा हैं और महल में तमाम विलासिताओं के बीच भी वनवासी। जिस राम को हम जानते हैं वो अपने कुल से नहीं, कर्मों की वजह से राम हैं, व्यवहार में अतुल्य हैं, इसलिए अमर हैं।

ये भी पढ़े :  पत्नी पंखुड़ी पाठक पर विवादित टिप्पणी से आहत पूर्व सपा प्रवक्ता अनिल यादव ने छोड़ी समाजवादी पार्टी

अतः राम का वंशज कहलाने का अधिकार सिर्फ उसे है जो इन समस्त गुणों को धारण करता हो फिर चाहे वो किसी भी कुल में जन्मा हो। इसीलिए राम और कृष्ण दोनों को एक ही ईश्वरीय सत्ता का अंश माना गया, जबकि दोनों अलग काल में अलग कुल में पैदा हुए। ईश्वर के विभिन्न अवतारों को देखिए, वो एक ही कुल या परिवार में जन्म नहीं लेते, न लेंगे।

ये भी पढ़े :  69000 शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़े का मास्टरमाइंड भाजपा नेता चन्द्रमा सिंह यादव गिरफ्तार...

अतः कुल-खानदान-परिवार को मत खोजिये, परिवार की पूजा से देश व समाज का भला नहीं होता।

यह लेख असिस्टेंट प्रोफेसर व पूर्व टीवी पत्रकार अमित त्रिपाठी की है।।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: