Thursday, August 22, 2019
Gorakhpur

राष्ट्रपति से मिलकर अभिभूत हो गए डा.सत्येन्द्र, बोले-अविस्मरणीय था वो पल….

गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के संस्थापक सप्ताह समारोह में भाग लेने गोरखपुर आए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के मुह से निकले चार शब्‍दों से इस समय भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर क्षेत्र के उपाध्‍यक्ष डा. सत्‍येन्‍द्र सिन्‍हा चर्चा में हैं। रविवार को गोरखपुर आने के बाद सर्किट हाउस में अपने कुछ परिचितों से मुलाकात के समय राष्‍ट्रपति से मिलने गए केंद्रीय वित्‍त राज्‍यमंत्री शिव प्रताप शुक्‍ल से राष्‍ट्रपति ने पूछा था कि ‘सत्‍येन्‍द्र सिन्‍हा कहां हैं आजकल’।
दरअसल, 2011 में भाजपा के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता रहते हुए रामनाथ कोविंद गोरखपुर आए थे तो डा. सत्‍येन्‍द्र सिन्‍हा दो दिन तक उनके साथ थे और डा. सत्‍येन्‍द्र सिन्‍हा ने उन्‍हें यहां लोगों से रूबरू कराया था। डा. सिन्‍हा उस समय भाजपा के क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी थे। मृदभाषी डा. सिन्‍हा से रामनाथ कोविंद काफी प्रभावित हुए थे। उसके बाद भाजपा की एक रैली में भाग लेने के लिए रामनाथ कोविंद गोरखपुर आए तब भी डा. सिन्‍हा उनके सहयोग में थे। इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद रामनाथ कोविंद गोरखपुर आए तो एक होटल में काफी देर तक डा. सिन्‍हा से संगठन के बारे में चर्चा हुई थी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भाजपा के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष डा.सत्येन्द्र सिन्हा की मुलाकात आखिरकार सोमवार को हो गई। राष्ट्रपति ने रविवार शाम सर्किट हाउस में केंद्रीय मंत्री शिवप्रताप शुक्ल से मुलाकात के दौरान डा.सिन्हा को याद किया था और अगले दिन मंदिर लेकर आने को कहा था।

सोमवार को सुबह नौ बजे डा.सिन्हा गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। वहां उन्होंने केंद्रीय मंत्री के भतीजे भाजपा नेता अष्टभुजा शुक्ल से सम्पर्क किया। राष्ट्रपति से उनकी भेंट कराने के लिए उन्हें मुख्य मंदिर के सामने ले जाया गया। वहां वह केंद्रीय मंत्री शिवप्रताप शुक्ल और महराणा प्रताप शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रो.यू.पी.सिंह के साथ खड़े हो गए। ठीक सुबह साढ़े नौ बजे राष्ट्रपति की फ्लीट ने मुख्य द्वार से प्रवेश किया। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मुख्य मंदिर में पूजन-अर्चन के लिए राष्ट्रपति आगे बढ़े। साथ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी थे। मंदिर के सामने मुलाकात होते ही केंद्रीय मंत्री ने राष्ट्रपति से कहा, ‘डा.सिन्हा आ गए हैं…। डा.सिन्हा ने भी अपना नाम लेकर परिचय दिया। राष्ट्रपति उन्हें देखकर मुस्कुराए और पूछा, ‘कैसे हो आप? डा.सिन्हा ने जवाब दिया, ‘अच्छा हूं। कल आपने मुझे याद किया तो मुझमें नई उर्जा का संचार हो गया। आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा।

इस पर राष्ट्रपति ने भी कहा, ‘आपसे मिलकर मुझे भी अच्छा लगा। करीब एक मिनट की इस मुलाकात के बाद राष्ट्रपति मुख्य मंदिर में पूजन के लिए आगे बढ़ गए। डा.सिन्हा भी महंत दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में आयोजित कार्यक्रम में दर्शकों के बीच जाकर बैठ गए। बाद में डा.सिन्हा ने कहा, ‘वो पल अविस्मरणीय था। रविवार को राष्ट्रपति ने मुझे याद किया यह जानने के बाद रात भर मुझे उनसे मुलाकात का इंतजार रहा। सोमवार को मुलाकात के बाद सोचने लगा कि मुझ जैसे साधारण कार्यकर्ता को इतने बड़े पद पर पहुंचकर भी वह नहीं भूले, यह कितनी बड़ी बात है।

Advertisements
%d bloggers like this: