Monday, September 21, 2020

15 साल पुराने बिना रजिस्ट्रेशन वाहनों पर 5000 जुर्माना, ऐसे करें बचाव

महाराजगंज बीएसए का हुआ तबादला, देखे नई तैनाती…

देवरिया में डायट प्रवक्ता के पद पर तैनात रहे ओपी यादव शासन द्वारा बेसिक विभाग में बड़ा फेरबदल किया...

आमिर हुसैन के नेतृत्व सपा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, एसडीएम को ज्ञापन सौंपा…

महाराजगंज। कोरोना काल में हुए भ्रष्टाचार तथा पुलिसिया उत्पीड़न व किसान बिल के विरोध में आज जनपद...

डिजिटल लेन-देन से देश की आर्थिक व्यवस्था को मजबूती मिलेगी-चेयरमैन नौतनवां

महराजगंज आज के समय मे शहर हो या गाँव हर तरफ डिजिटल इण्डिया मुहिम की धूम है लोगों की आवश्यकताओं व सुविधाओं...

गोरखपुर से सटे जिले आजमगढ़ में विमान हादसा,देश ने खोया युवा पायलट

अमेठी का प्रशिक्षू विमान क्रैश ! पायलट की मौत ।मीनाक्षी मिश्रा की अमेठी से रिपोर्ट

गोरखपुर में बदमाशों ने फिल्मी अंदाज में बरसाई ताबड़तोड़ गोलियां, एक शख्स हुआ घायल….

गोरखपुर गोरखपुर जिले में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। यहां सोमवार को कैंट इलाके के सिंघाड़िया से लेकर...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

ऐसे वाहनों की संख्या लखनऊ में पांच लाख 32 हजार है तो प्रदेश में 46 लाख के पार बताई जा रही है। ये आकड़ा एक अगस्त 2020 तक का है। इनमें 50 फीसदी वाहन सड़क पर चलने का दावा किया जा रहा है। जोकि इनके चलने से शहर में प्रदूषण का स्तर बढ़ने का खतरा मंडरा रहा है। एआरटीओ (प्रशासन) अंकिता शुक्ला ने कहा कि बगैर पंजीकृत वाहन अपराध के श्रेणी में आते है। बावजूद गाड़ी मालिक लापरवाह बने हुए है। अब ऐसे वाहनों के पुन: पंजीयन नहीं कराने पर चेकिंग में पकड़े गए तो पांच हजार रुपये तक जुर्माना लगना तय है। 

ये भी पढ़े :  यूपी: खाद की कालाबाजारी पर सीएम योगी सख्त, दिए एनएसए लगाने के आदेश

लखनऊ, कानपुर व वाराणसी में सबसे ज्यादा वाहनप्रदेश के 76 जिलो से मुख्यालय पहुंचा बिना पंजीकृत वाहनों की सूची चौकाने वाली निकली। सबसे ज्यादा बगैर पंजीकृत वाहन लखनऊ में पाए गए। जबकि दूसरे नंबर पर कानपुर व तीसरे पर वाराणसी रहा। इन तीनों शहरों में वाहनों से निकलने वाला सबसे ज्यादा प्रदूषण लोगों को बिमार कर रहा है। 
गाड़ी मालिकों को ये काम करना होगा15 साल उम्र पूरी कर चुके दो व चार पहिया वाहनों के प्रदूषण जांच के बाद गाड़ी मालिक को परिवहन विभाग के वेबसाइट पर जाकर आवेदन के साथ फीस जमा करना पड़ेगा। जिसका प्रिंट आउट लेकर संबंधित आरटीओ कार्यालय जाना पड़ेगा। वहां गाड़ी का ब्यौरा दर्ज करके पुन: पंजीयन का प्रमाण पत्र मिलेगा। वहीं जिन्होंने गाड़ी कबाड़ में बेच दिया है या गाड़ी चलने लायक नहीं है और घर में खड़ी है तो इस आशय का प्रार्थना पत्र आरटीओ कार्यालय में जमा करना पड़ेगा। 

ये भी पढ़े :  योगी सरकार में अब तक मारे गए 124 अपराधी, ढेर होने वालों में 47 अल्पसंख्यक, 11 ब्राह्मण, 8 यादव

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

योगी सरकार एक और बड़ा फैसला, सरकारी नौकरियों में बढ़ा आरक्षण का कोटा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश में सरकारी नौकरियों में आरक्षण का कोटा बढ़ा दिया...

डीजीपी मुख्यालय के आदेश के बाद जिलों में शुरू हुई 50 कि उम्र पार कर रहे पुलिस कर्मियों की जांच

उत्तर प्रदेश पुलिस से बहुत बड़ी ख़बर  सामने आ  रही है। डीजीपी मुख्यालय के आदेश के बाद...

योगी सरकार की बडी कार्यवाही पशुपालन घोटाले में एक और बड़ी गिरफ्तारी

%d bloggers like this: