Friday, January 15, 2021

सरकार ने हटाई मुहर्रम से पाबंदी,

गोरखपुर:भव्य राममंदिर निर्माण हेतु श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान का हुआ शुभारम्भ….

आयोध्या में भगवान श्रीराम के जन्मभूमि पर बनने वाले भव्य मंदिर के निर्माण हेतु चलाए जा रहे श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान...

शहीद के बेटे नीतीश 26 जनवरी को अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर फहराएंगे तिरंगा,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सौपा तिरंगा…

गोरखपुरःगोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 26 जनवरी को अफ्रीका महाद्वीप की सबसे...

Norway: परेशान करने वाली खबर: फाइजर कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद 13 लोगों की हुई मौत, 29 में दिखे साइड इफेक्ट।

ओस्‍लो (नॉर्वे): कोरोना वायरस के खिलाफ दुनियाभर के कई देशों में लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है, लेकिन इस बीच फाइजर वैक्सीन...

Top News: पूर्व आईएएस एके शर्मा का विधान परिषद जाना तय, देखे पूरी लिस्ट, Gorakhpur Times की खबर सच।

भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति ने उत्तर प्रदेश में आगामी विधान परिषद चुनाव के लिए 4 नामों की घोषणा कर...

मायावती का अपने जन्मदिन पर ऐलान, यूपी-उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी बसपा।

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने अपने 65वें जन्मदिन पर कहा कि बसपा, उत्तर प्रदेश के साथ ही उत्तराखंड में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पत्रकारों से मुखातिब मौलाना जवाद

मुहर्रम में घर पर ताजिया रखकर अजादारी करने की शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद नकवी की मांग को प्रदेश सरकार ने शनिवार देर रात मान लिया। हालांकि, मजलिस में पांच लोग ही शामिल हो सकेंगे। इसकी जानकारी के बाद मौलाना ने देर रात धरना समाप्त कर दिया। मालूम हो कि कोरोना के चलते मुहर्रम में अजादारी पर पाबंदी के विरोध में आसिफी मस्जिद के इमामे जुमा मौलाना कल्बे जवाद की अगुवाई में शिया धर्म गुरुओं ने अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया था।

मौलाना के प्रतिनिधि शमील शम्शी ने बताया कि सरकार ने राजधानी समेत पूरे प्रदेश में अजादारी करने की पाबंदी को हटा दिया है। घर में ताजिया रखने पर हुई एफआईआर को भी वापस करने का आश्वासन दिया है। मजलिस मेें अभी पांच लोग ही मौजूद रहेंगे। इसके अलावा सड़क और चौक पर ताजिये नहीं रखे जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि यौमे आशूर में ताजियों के दफनाने को लेकर बाद में फैसला लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि परेशानी होने पर जिले के पुलिस विभाग के मुखिया से शिकायत कर सकते हैं। निगरानी के लिए सचिव गृह को नियुक्त किया है। शमील ने बताया कि उनकी ग्रह सचिव से वार्ता हुई है।

ये भी पढ़े :  हाथरस केस- नकली भाभी बनकर पीड़िता के घर रह रही थी नक्सली महिला, नये खुलासे से मचा हड़कंप!
ये भी पढ़े :  अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान हमारी सरकार बनी तो CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर दर्ज मुकदमे होंगे वापस

इससे पहले अजादारी पर पाबंदी के विरोध में मौलाना कल्बे जवाद की अगुवाई में शिया धर्म गुरुओं ने अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया था। मौलाना ने आरोप लगाया था कि पुलिस घरों में भी ताजिया नहीं रखने दे रही है। कहा था कि इस तरह का अत्याचार बंद न हुआ तो गिरफ्तारी देंगे। इस दौरान पश्चिम डीसीपी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी भी कल्बे जवाद से मिलने पहुंचे थे।

पत्रकारों से हुए थे मुखातिब
धरने से पहले मौलाना कल्बे जवाद चौक स्थित इमामबाड़ा गुफरानमआब में पत्रकारों से मुखातिब हुए थे। मौलाना ने सरकार पर जुल्म करने का आरोप लगाते हुए कहा था कि सरकार ने शिया समुदाय के लिए एक नई गाइडलाइन जारी की है जो डब्ल्यूएचओ और केंद्र सरकार की कोविड गाइडलाइन के खिलाफ है। मौलाना ने कहा कि हमने सरकार से 40 से 50 लोगों के साथ मजलिस करने की इजाजत मांगी थी, लेकिन सिर्फ पांच लोगों को मजलिस में शामिल होने की इजाजत दी गई। उन्होंने कहा कि इमामबाड़ा में काफी जगह होती है। इसमें सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मजलिस हो सकती है।

धारा 144 घरों के अंदर और इमामबाड़ा परिसर में लागू नहीं होती
उनका आरोप था कि कोरोना में हर तरह की पाबंदी सिर्फ पुराने लखनऊ के लिए है। नए लखनऊ में पूरी छूट दी जा रही है। मौलाना ने बताया कि बदायूं में घर में ताजिया रखने को लेकर पुलिस मुकदमे लिखने की बात कह रही है। इस तरह की खबरें पूरे प्रदेश से आ रही हैं। मौलाना ने सरकार से मांग रखी कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मजलिसों को पढ़ने और ताजियों को रखने की इजाजत दे। धरने में मुख्य रूप से मौलाना फिरोज हैदर, मौलाना रजा हुसैन, मौलाना अब्बास नासिर सईद, मौलाना हबीब हैदर शामिल हुए। धरने को समर्थन देने मौलाना मीसम जैदी भी गुफरानमआब इमामबाड़ा पहुंचे थे।

ये भी पढ़े :  CM योगी ने हाथरस पीड़ित परिवार से वीडियो कॉलिंग से बात की,हर संभव मदद के निर्देश दिए।
ये भी पढ़े :  ‘मुख्तार अंसारी की जान को खतरा, रची जा रही है हत्या की साजिश’

मौलाना सैफ अब्बास ने किया था समर्थन
मौलाना मौलाना सैफ अब्बास ने धरने का समर्थन किया था। उनका कहना था कि कोविड गाइडलाइन को हर कोई मान रहा है, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के नाम पर उत्पीड़न न किया जाए। इमामबाड़ों की क्षमता के हिसाब से मजलिस की अनुमति दी जाए। ताजिया से लोगों का रोजगार भी जुड़ा है, मुहर्रम के दस दिन की कमाई से कई लोगों का कई महीने का खर्च भी निकलता है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Top News: पूर्व आईएएस एके शर्मा का विधान परिषद जाना तय, देखे पूरी लिस्ट, Gorakhpur Times की खबर सच।

भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति ने उत्तर प्रदेश में आगामी विधान परिषद चुनाव के लिए 4 नामों की घोषणा कर...

मायावती का अपने जन्मदिन पर ऐलान, यूपी-उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी बसपा।

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने अपने 65वें जन्मदिन पर कहा कि बसपा, उत्तर प्रदेश के साथ ही उत्तराखंड में...

प्रधान नहीं सिर्फ जिला पंचायत चुनाव लड़ेगी भाजपा, लेकिन प्रधानी के चुनाव पर रखें नज़र: सीएम योगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भाजपा आज देश ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे बड़ा राजनीतिक दल है। संगठन में कार्यकर्ता...
%d bloggers like this: