Tuesday, August 3, 2021

लॉकडाउन बढ़ाने से पहले इन बातों का ध्यान रखना जरूरी….

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

देश में कोविड-19 के नौ हजार से ज्यादा संक्रमण और सवा तीन सौ मौतों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लॉकडाउन को आगे बढ़ा सकते हैं. स्वास्थ्य सेवाओं की कमी और वायरस की विभीषिका को देखते हुए एकमात्र रास्ता भी यही है. चंद मामलों का छोड़ दें तो देश के 130 करोड़ लोगों ने लॉकडाउन को अभूतपूर्व समर्थन भी दिया ही है. इस एकजुटता के बीच अब लॉकडाउन बढ़ाने से पहले कुछ बातों का ख्याल जरूर करना चाहिए.

खाद्य सुरक्षा का सवाल

इसमें सबसे बड़ी चीज है खाद्य सुरक्षा. भोजन का अधिकार. दो वक्त की रोटी. प्रधानमंत्री ने देश के निर्धनतम लोगों के लिए इसका बंदोबस्त किया भी है. केन्द्रीय खाद्य सुरक्षा एवं आपूर्ति मंत्री रामबिलास पासवान ने देश बताया कि देश के भंडारगृहों में नौ महीने के खाने लायक अनाज है. यह राहत की बात है.

केन्द्र सरकार ने अप्रैल से जून तक तीन माह के लिए हर राशनकार्डधारी परिवार को प्रतिव्यक्ति 5 किलो अनाज की एक महत्वपूर्ण घोषणा है. एक किलो दाल है. यह नियमित मिलने वाले राशन के अतिरिक्त होगा. उज्जवला योजना के तहत इन्हीं तीन माह में तीन सिलेंडर निशुल्क दिए जाएंगे. लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने घरों में कैद लोगों के लिए यह बहुत बड़ी राहत है.

लॉकडाउन कुछ ऐसी जल्दी में हुआ है कि प्रशासन को भी तैयारियों के लिए वक्त नहीं मिल पाया. दहशत के बीच काम करते कर्मचारियों ने कोशिशें कीं, लेकिन जमीनी खबरें यह हैं कि राशन ठीक तरह से सभी लोगों तक नहीं पहुंच सका है. गेहूं, चावल, शक्कर मिल भी गई तो मसालों, तेल और नमक की भी मारामारी है. पिछले 18 दिनों के बाद अब लोगों के पास जो कुछ भी था वह खाया जा चुका है. इन परिस्थितियों में यदि लॉकडाउन को सप्ताह—दो सप्ताह तक बढ़ाया जाना तय किया गया है, तो उसकी सबसे बड़ी शर्त सबसे गरीब, सबसे वंचित और दूरदराज वाले उन लोगों तक राशन पहुंचाना ही होगा, जिनका काम—काज एकदम ठप्प पड़ गया है. लॉकडाउन की वजह से वह घर नहीं जा पा रहे हैं.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर:- कोरोना वार में मदद को उतरा कसौधन परिवार,51 हजार की सहायता प्रदान की...
ये भी पढ़े :  यूपी में 73 के आकड़े तक नहीं पहुंच रही भाजपा, पार्टी में कई 'बड़ों' का भविष्य तय करेंगे नतीजे...

किसानों की फसल कटाई और उपार्जन

यह रबी फसल का सबसे अंतिम चरण है. कई इलाकों में गेहूं, चना की फसल कट रही है. जिन संपन्न इलाकों में हारवेस्टर मशीनें उपलब्ध हैं वहां पर फसल जैसे—तैसे कट भी गई, लेकिन जहां मजदूर ही कटाई का माध्यम थे वहां पर किसान अब भी मुश्किल में हैं. केन्द्र और राज्य सरकारों ने कृषि कार्य करने के लिए थोड़ी शिथिलता भी दी, लेकिन व्यावहारिक दिक्कत खड़ी हो गई मजदूरों की.

ज्यादातर इलाकों में मजदूरों का संकट वैसे भी बरकरार है, और दूर—दराज के इलाकों से फसल कटवाने के लिए मजदूरों को लाया जाता है. लॉकडाउन में या तो मजदूर आए ही नहीं, या जो आए थे वो वापस हो लिए, जो गांव में अटक गए उन्होंने इस भय के माहौल में फसल कटाई से ही इंकार कर दिया. हालात यह हैं कि कई इलाकों में नमी खत्म होने से गेहूं की बाली में से दाने खेत में ही बिखरने की खबर आ रही है. ऐसे में किसानों की फसल कटाई पर नजर रखने और उचित मदद पहुंचाने की जरूरत है.

ये भी पढ़े :  हम जागरूक होंगे तो रूकेगा भ्रष्टाचार- मुख्यमंत्री

दूसरा संकट समर्थन मूल्य पर फसल उपार्जन का है. यही वह वक्त है जब फसल बेचकर किसान अपने सारे कर्ज आदि चुकाता है और अन्य तैयारी करता है. कई किसान तो ऐसे हैं जिनके पास अनाज के भंडारण के लिए समुचित ऐसी जगह नहीं होती जहां वह अधिक समय तक उसे रख सकें जहां वह विपरीत मौसम से बच जाए. इसलिए किसानों के आंगन से मंडी तक पहुंचाने के लिए जितना कम वक्त लिया जाए उतना अच्छा है. कई राज्यों ने इसकी शुरूआत कर दी है, पर इसका एक्शन प्लान अभी तक सामने नहीं आया है. एक साथ खरीदी करने पर भीड़ को कैसे नियंत्रित किया जाएगा, यह देखना भी बहुत जरूरी होगा, और पुलिस के किसानों के प्रति व्यवहार को भी देखना ही होगा.

ये भी पढ़े :  मुलायम के करीबी प्रेमदास के घर में ठनी सियासी रार! पति के सामने पत्नी ने ठोकी ताल....

बच्चों का स्वास्थ्य, शिक्षा और पोषण

देश में बच्चों के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े बेहद खराब हैं. देश का हर तीसरा बच्चा किसी न किसी तरह के कुपोषण का शिकार है. कुपोषित बच्चों में किसी भी तरह के संक्रमण को झेलने की क्षमता पहले से ही कमजोर होती है. कोरोना की इस त्रासदी से बच्चों को बचाना है तो उनके पोषण पर भरपूर ध्यान देने की जरूरत होगी. स्कूल बंद होने से मध्याह्न भोजन बंद हो गया है, और उसकी जगह प्रतिपूर्ति भत्ते से की जा रही है. आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए रेडी टू ईट फूड का प्रावधान किया गया है. पर यहां भी सवाल पोषण की उपलब्धता का है.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: