Thursday, April 9, 2020

लोकतंत्र की मजबूती और जनता की बेहतरी के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नई “संविधान सभा”का शीघ्र गठन करें:- डॉ के सी पांडेय

गोरखपुर। देश मे लोकतंत्र की मजबूती और जनता की बेहतरी के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नई “संविधान सभा”का शीघ्र गठन करें, क्योकि आज की चुनौतियों और वर्तमान परिस्थितियों में आज का संविधान अब धीरे धीरे अप्रासंगिक हो गया है।

यह विचार उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व राज्यमन्त्री डॉ के सी पाण्डेय ने व्यक्त किया। डॉ पाण्डेय आज संविधान दिवस पर ब्राह्मण महासभा द्वारा” वर्तमान संविधान और लोकतन्त्र”विषय पर आयोजित संगोष्ठी को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रहे थे। गोष्ठी का विषय परिवर्तन करते हुए “परशुराम सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनूप पाण्डेय ने कहा कि वर्तमान संविधान में बड़ा लोचा है इसीलिए लोकतन्त्र के कुछ कथित पहरुए संविधान का दुरुपयोग सत्ता हथियाने और सत्ताको बेचने का कार्य करतेहै ।

ब्राह्मण महासभा के शाही मार्किट गोलघर स्थित जनसम्पर्क कार्यालय पर आयोजित संगोष्ठी में कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश शुक्ला, कृष गोपाल पाण्डेय, एडवोकेट, अभिमन्यु पाण्डेय एडवोकेट, परशुराम सेना के प्रदेश अध्यक्ष अवनीश पाण्डेय, सवर्ण एकता परिषद के राष्ट्रीय संयोजक अंकित मिश्रा, मनोज शुक्ला मंतोष, प्रशान्त पाण्डेय, पंकज चतुर्वेदी, आचार्य बंशीधर पाण्डेय, त्रिभुवन नाथ चतुर्वेदी, अहमद राजा खान, ओम प्रकाश उपाध्याय, जय प्रकाश उपाध्याय, सन्तोष उपाध्याय, अजय दूबे, आदित्य दूबे , राजन दूबे आदि ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि संविधान में आमूल चूल परिवर्तन आवयशयक है ।

ये भी पढ़े :  शिव राष्ट्र सेना ने किया निःशुल्क स्वास्थ शिविर का आयोजन….
Advertisements
%d bloggers like this: