Tuesday, October 19, 2021

विशेषज्ञों की राय, जोखिम भरा होगा रेलवे का निजी हाथों में जाना….

Mrj: अधिकरियो के रहमो-करम पर दबंगों द्वारा चकनाले की जमीन पर बिना मान्यता प्राप्त विद्यालय का किया जा रहा है संचालन, बच्चों का भविष्य...

Maharajganj/Dhani: युवा समाजसेवी अजय कुमार का कहना है कि धानी ब्लाक के अन्तर्गत एक विद्यालय साधु शरण गंगोत्री देवी लेदवा रोड बंगला...

साष्टांग प्रणाम यात्रा पे निकला बांसी से लेहड़ा मंदिर – भक्त रामशब्द लोधी

Maharajganj/ SiddharthNagar: बांसी क्षेत्र के अंतर्गत राम गोहार गाँव से रामशब्द लोधी ने लगातार तेरह वर्षों से नवमी में सष्टांग प्रणाम यात्रा...

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पूर्वोत्तर रेलवे के विशेषज्ञों ने कहा है कि रेलवे यदि निजी हाथों में जाएगा तो जोखिमभरा निर्णय होगा। इसके लिए सतर्कता जरूरी है।

पूर्वोत्तर रेलवे के पूर्व मुख्य परिचालन प्रबंधक राकेश त्रिपाठी का कहना है कि यह बजट महत्वाकांक्षी प्रतीत होता है। जहा तक पीपीपी मॉडल के जरिये रेलवे के विकास एवं आधुनिकीकरण का विषय है इसमें भी अत्यधिक सतर्कता बरतनी होगी। जहा तक रेलवे से संबंधित व्यापारिक एवं वाणिज्यिक कार्यकलापों का प्रश्न है, इनको निजी हाथों में सौंपने में भले बहुत ज्यादा परेशानी न हो, परंतु पीएसयू सहित रेलवे के ऑपरेशन एवं संरक्षा संबंधी विषयों (जिनमें गहन अनुभव और प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है) को निजी हाथों में सौंपना रिस्की भी साबित हो सकता है।

ये भी पढ़े :  जय श्री राम:- कुशीनगर के 8 जगहों से 8 कलश में जाएगी पवित्र मिट्टी प्रभु राम के घर में....

वित्त मंत्री ने स्वच्छ, सुरक्षित एवं समयबद्ध ट्रेन संचलन को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए अपने भाषण में कहा कि हमारा लक्ष्य रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रासफॉर्म का है। उन्होंने एलान किया कि सरकार रेलवे में निजी भागीदारी को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है और इसी उद्देश्य को दृष्टिगत रखते हुए रेलवे के विकास के लिए पीपीपी मॉडल को लागू किया जाएगा।

ये भी पढ़े :  कुँए में गिरी भैस को सकुशल निकाला गया बाहर

इतनी पड़ेगी आवश्यकता

अगले 12 वषरें में 2030 तक रेल ढंाचे के विकास के लिए 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की आवश्यकता पड़ेगी, जिसे पीपीपी मॉडल से ही संचित करने की योजना है। वित्तमंत्री ने बताया कि डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का कार्य पूरा हो जाएगा, लेकिन जब तक एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए समुचित टर्मिनल का विकास नहीं होगा तबतक समयबद्ध संचलन दुरुस्त करना संभव नहीं है।

पीपीपी मॉडल के लिए निजी क्षेत्र की वित्तीय विवशता जनहित में, तालमेल जरूरी

पूर्वोत्तर रेलवे के पूर्व वित्त सलाहकार एवं मुख्य लेखाधिकारी डॉ. राम चंद्र राय का कहना है कि वर्ष 2019-20 के केंद्रीय बजट में विभिन्न अवस्थापना संबंधी परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने पर जोर है। भारतीय रेलवे भी इसका अपवाद नही है। इसकी मुख्य परियोजनाओं को पीपीपी यानी निजी-सार्वजनिक भागीदारी से धन की व्यवस्था करने की स्वीकृति प्रदान की गई है। दुर्भाग्यवश भारतीय रेलवे पिछले 10 वर्ष से इस मॉडल को लागू करने का प्रयास कर रहीं है, लेकिन अभी तक इसका समुचित उपयोग नहीं कर पाया है। इसका पेशेवर उपयोग करके मालगाड़ियों के लिए अलग मार्ग, तीब्र गति से चलने वाली गाड़ियों के लिए अलग मार्ग, कोच, डिब्बा तथा इंजन बनाने के फैक्ट्रियों को बनाने के साथ साथ ट्रेनों का परिचालन कर सकता है और कुछ महत्वपूर्ण सेवाएं निजी क्षेत्र एक प्रतिस्पर्धी वातावरण में और कम मूल्य पर प्रदान कर सकता है। समस्या रेल अधिकारियों के सोच एवं पेशेवर समझ में फलदायक परिवर्तन न हो पाना है। अभी भी संबंधित अधिकारी पीपीपी प्रस्तावों को नौकरशाही अंदाज में देखते हैं। अगर हम निजी क्षेत्र की वित्तीय विवशता एवं जनहित में तालमेल बैठा सकें और पारदर्शी करार करके उसका प्रबंधन कर सके तो पीपीपी मॉडल द्वारा भारतीय रेलवे का कायाकल्प सम्भव है।

ये भी पढ़े :  जिला अस्पताल में दो गुटों में मारपीट, मची अफरा-तफरी
ये भी पढ़े :  कुँए में गिरी भैस को सकुशल निकाला गया बाहर

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...

पालघर में नौसेना के नाविक को अगवा कर जिंदा जलाया,मौत…

तमिलनाडु: चेन्नई से 30 जनवरी को अगवा किए गए नौसेना के 26 वर्षीय नाविक को महाराष्ट्र के पालघर...

यूपी: पंचायत चुनावों का बजा बिगुल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने किया तारीखों का ऐलान जाने कब होगा पंचायत चुनाव…

हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि 17 मार्च तक आरक्षण का कार्य पूरा कर...
%d bloggers like this: