Wednesday, June 23, 2021

विश्व कल्याण का मार्ग भारत से होकर ही निकलेगा – भय्याजी जोशी

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

भोजपुरी एक्टर खेसारीलाल यादव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात, फोटो ट्वीट कर लिखी ये बड़ी बात

खेसारीलाल कई मौकों पर बीजेपी का विरोध कर चुके हैं. फिर चाहे वह किसान आंदोलन हो या अन्य मुद्दे. उन्होंने खुलकर केंद्र...

महाराजगंज में दो मासूम बच्‍चों की गड्ढे में डूबने से मौत, खेलने के दौरान हुआ हादसा

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के बृजमनगंज नगर पंचायत क्षेत्र सहजनवां बाबू रोड पर मंगलवार को एक गड्ढे में डूबने से दो बच्चों मौत...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

हिन्दू एक होने की बात करता है, एक जैसा होने की नहीं

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि देश के विकास में आज सबसे बड़ी बाधा हीनता का भाव है. लोग दूसरे देशों या संस्कृति से खुद को हीन समझने लगे हैं. भारत को जापान, चीन अमेरिका जैसे दूसरे देशों का अनुकरण करने के बजाय भारत को भारत रहने की आवश्यकता है. देश के युवाओं में हीनता को छोड़कर संस्कृति, भाषा, विचार आदि के लिए जागरूक करने का संकल्प लेना होगा. युवा पीढ़ी को समझना होगा कि विश्व कल्याण का मार्ग भारत से होकर ही निकलेगा.

सरकार्यवाह जी शनिवार को मानसरोवर स्थित संस्कृति कॉलेज सभागार में आयोजित प्रबुद्ध जन संगोष्ठी में संबोधित कर रहे थे. संगोष्ठी में विभिन्न क्षेत्रों सेना से सेवानिवृत्त अधिकारी, न्यायिक, प्रशासनिक, सामाजिक, शैक्षिक व व्यवसायिक आदि का नेतृत्व करने वाले प्रबुद्ध जन उपस्थित थे. सरकार्यवाह जी ने कहा कि देश में आज हीनभावना से ग्रस्त होने की चुनौती को दूर करने के लिए परिवार, संगठनों के साथ सभी को प्रयास करने होंगे. दुनिया में ईश्वर के रूप भिन्न हैं, लेकिन ईश्वर एक है. आज दुनिया ईश्वर के रूपों को लेकर ही संघर्ष कर रही है. जबकि हिन्दू जीवन शैली कहती है कि आपस में संघर्ष की जरूरत नहीं है, हम एक होकर चलेंगे. यही विश्व कल्याण का मार्ग है. हमारी संस्कृति में किसी प्रकार का दुराग्रह नहीं है. शास्त्रीय मान्यता है कि संसार में जो भी बना है, वह पंचमहाभूतों से निर्मित हुआ है और उसी में विलीन हो जाएगा. पंचभूतों के बिना दुनिया में कोई भी शक्ति नहीं चल सकती है. ऐसे में इनके मूल में पूजा का भाव रहता है, न कि संघर्ष का. दुनिया ने मानव व प्रकृति को अलग अलग मानकर समस्याओं को न्यौता दिया है. भारतीय संस्कृति प्रकृति के साथ तालमेल रखते हुए चलना सिखाती है.

ये भी पढ़े :  फिल्मों का विलन बना रियल जिंदगी का हीरो,मजदूर ने लगाई मदद के लिये गुहार तो अभिनेता सोनू सूद ने कहा:"पैदल क्यों जाओगे दोस्त,कल तुम अपने घर रहोगे…."
ये भी पढ़े :  फिल्मों का विलन बना रियल जिंदगी का हीरो,मजदूर ने लगाई मदद के लिये गुहार तो अभिनेता सोनू सूद ने कहा:"पैदल क्यों जाओगे दोस्त,कल तुम अपने घर रहोगे…."

भय्याजी जोशी ने कहा कि संबंध कानून से नहीं, बल्कि भावनात्मक लगाव के कारण चलते हैं. भारतीय समाज का चिंतन है कि मानव की जीवन शैली परस्पर संबंधों के आधार पर विकसित हुई. शरीर साधन है, कोई स्थायी वस्तु नहीं है. शरीर नश्वर है, लेकिन आत्मा अविनाशी है. यह मानने वाला हिन्दू है. इस धारणा से हटने पर विनाश के अलावा कुछ नहीं है. भारत की जवीन शैली सकारात्मक सोच वाली है, जो अच्छाई के लिए प्रेरित करती है.

उन्होंने कहा कि हम दुनिया से कहते हैं कि मानव के संबंध अधिकार सुरक्षित रखने से चलते हैं. आपसी संबंधों में सहज भाव है, हमारे यहां किसी को किसी के प्रति अन्याय करने का अधिकार नहीं दिया है, यह प्रमाणिकता मनुष्य के स्वभाव व आचरण में है. हम विचार के साथ बदलने वाले नहीं हैं.

एक प्रश्न का उत्तर देते हुए भय्याजी ने कहा कि भारत में नारी को पुरुषों के समान अवसर प्राप्त है. हर क्षेत्र में महिलाएं आगे है. हिन्दू समाज में कुछ विकृति आ गई थी, जिसका कारण अपने जीवन मूल्यों से दूर होना रहा. जब-जब हिन्दू समाज अपने मूल भाव से दूर हुआ, तब-तब उसको पराभव देखना पड़ा है.

ये भी पढ़े :  सड़क हादसे में 11 लोगों की मौत, 19 घायल
ये भी पढ़े :  हाई कोर्ट का बड़ा फैसला देनी होगी ट्यूशन फीस,स्कूल जिनकी फीस माफ करें उनकी करे छानबीन:-आय प्रमाण पत्र भी जरूरी

इन विकृतियों को दूर करने के लिए समाज,परिवार, संस्था, आदि सभी को संकल्प लेना होगा. मन की दुर्बलताओं को दूरकर संस्कारवान बनाना होगा.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...

दिल्ली सरकार ने बताया पलायन रोकने का प्लान, कहा- मजदूरों को देंगे 5-5 हजार रुपये

मंगलवार को दिल्ली सरकार की ओर से हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल किया गया और कहा कि दिल्ली सरकार प्रवासी, दिहाड़ी और निर्माण...
%d bloggers like this: