Thursday, February 27, 2020
BaharichBreaking NewsUttar Pradesh

विष मुक्त खेती जहर मुक्त खाद्यान और नशा मुक्त गाँव विषय पर गोष्ठी का आयोजन सम्पन्न हुवा।

बहराइच जनपद मे मिहिपुरवा विकास खण्ड अन्तर्गत महामना मालवीय मिशन बहराइच अवध की ओर से आयोजित भारत नेपाल सीमावर्ती गांव सरदार कृषि फार्म रायबोझा मिहींपुरवा में आयोजित विश मुक्त खेती जहर मुक्त खाद्यान और नशा मुक्त गांव विषयक की विशाल किसान गोष्ठी का आयोजन हुवा। गोष्ठी मे मुख्य अतिथि के रूप मे पधारे नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौधोगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या के कुलपति प्रोफेसर जे एस संधू ने कहा किसानो को हर सम्भव वैज्ञानि तरीके से खेती करने के तरीके सिखाए जाएंगे और आगे यह भी बताया की फसल अवशेषो को खेतो मे जलाना अत्यंत घातक है और इससे हर वर्ष लगभग 2 लाख करोड़ का नुकसान होता है।

मुख्य अतिथि ने गोष्ठी आयोजक संजीव श्रीवास्तव एडवोकेट पत्रकार अध्यक्ष- महामना मालवीय मिशन अपर स्थाई शासकीय अधिवक्ता भारत सरकार को नशा उन्मूलन एवं पर्यावरण संरक्षण आंदोलन चलाने के लिए अंगवस्त्रम भेंट कर सम्मानित किया व कार्यक्रम से जुड़ने की बात कही ।

बहराइच जनपत मे जमीन उपलब्धता के आधार पर कृषि महाविद्यालय खोले जाने मांग की। गोष्ठी की अध्यक्षता उत्तर प्रदेश सिक्ख समाज के अध्यक्ष जसवीर सिंह ने की।

गोष्ठी का शुभारम्भ मुख्य अतिथि और सभी सम्मानित विशिष्ट अतिथि द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।इस अवसर पर प्रमुख रूप से उप जिलाधिकारी मिहींपुरवा ने लोगो को विष मुक्त खेती के लिये प्रेरित किया और आगमी लोक सभा चुनाव मे शत प्रतिशत मतदान करे। इस गोष्ठी मे निदेशक प्रसार डाक्टर ए पी राव , क्षेत्राधिकारी नानपारा अरुण कुमार, समाजसेवी डाक्टर देवेश श्रीवास्तव, एसएसबी के उच्चाधिकारी मनीष,केवीके बहराइच व नानपारा के प्रभारी वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक प्रभारी आदि ने अपना संबोधन प्रस्तुत किया।

गोष्ठी मे मिहिपुरवा के शून्य लागत प्राकृतिक खेती कृषक अमरेन्द्र वर्मा ने किसानो को बताया की कैसे एक देसी गाय के गौव मूत्र और गोबर से एक से तीस एकड़ तक खेती की जा सकती है और फसल अवशेषो से आच्छादन कर के नब्बे प्रतिशत तक पानी भी बचाया जा सकता है।

किसान परिषद के महासचिव सरदार गुरनाम सिंह ने अन्त मे सभी सम्मानित आंगतुको के प्रति आभार ज्ञापित किया। अंत मे कुलपति प्रसार निदेशक व अन्य सम्मानित लोगो ने वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। गोष्ठी मे सुरेश वर्मा, राजकुमार चौधरी, मनीष सिंह , सतेन्द्र वर्मा, दिलीप कुमार और सैकडो किसान उपस्थित रहे।

Advertisements
%d bloggers like this: