Sunday, August 1, 2021

वैज्ञानिकों का दावा, सौरमंडल के बाहर चंद्रमाओं में हो सकते हैं एलियन….

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

एलियन होने और न होने की बारे में अभी तक वैज्ञानिक नहीं बता पाए हैं। हालांकि, इस पर बहस होती रहती है। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने यह जरूर दावा किया है कि हमारे सौर मंडल के बाहर के ग्रहों (एक्सोप्लैनेट) के चंद्रमा (एक्सोमून) में एलियन हो सकते हैं। वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में बताया कि इन एक्सोमून में मौजूद तरल पानी वहां जीवन की संभावनाएं जताता है।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर के छात्रों ने बनाया एक ऐसा प्लेटफॉर्म जिस पर आप कुछ भी बेचने व खरीदने के साथ ही कर सकते है और भी बहुत कुछ....

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ लिंकन के शोधार्थियों के मुताबिक अभी तक चार हजार एक्सोप्लैनेट की खोज की जा चुकी है। इनमें से बहुत कम ग्रह ऐसे हैं जहां जीवन संभव हो सकता है। हालांकि, इनके चंद्रमाओं में पानी होने की आशा लगाई जा रही है। यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर फिल जे सटन ने बताया कि एक्सोप्लैनेट का चक्कर लगाने वाले एक्सोमून उस ग्रह के गुरुत्वीय खिंचाव के कारण अंदर से गर्म हो जाते हैं और इससे उनकी सतह के भीतर का पानी खिंचाव से ऊपरी सतह पर आ जाता है, जिससे जीवन की संभावना पनपती है। उन्होंने कहा कि हम लगातार पृथ्वी जैसा ग्रह खोजने की कोशिश कर रहे हैं।

ये भी पढ़े :  Come and Knock on Our Door We've Been Waiting for You

रॉयल स्ट्रोलनॉमिकल सोसायटी की मासिक पत्रिका में प्रकाशित शोध में बताया गया है कि वैज्ञानिकों ने एक्सोप्लेनेट जे1407 बी की परिक्रमा कर रहे चंद्रमा के मौसम का विश्लेषण कर यह संभावना जताई है।

एक्सोमून का पता लगाना है बहुत मुश्किल

अपने आकार और पृथ्वी से दूरी के कारण इन एक्सोमून का पता लगाना बहुत मुश्किल काम होता है। सौरमंडल के बाहर के ग्रह अधिकतर गैसों के होते हैं। जिनके आसपास शनि ग्रह के जैसे ही वलय होते हैं। वैज्ञानिकों ने एक्सोप्लेनेट जे1407 बी का कंप्यूटर सिमुलेशन के माध्यम से अध्ययन किया तो पाया कि इसका वलय शनि के वलय से 200 गुना बड़ा है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganjबृजमनगंज क्षेत्र में नेटवर्क की समस्या से उपभोक्ता परेशान, जिम्मेदार मौन।।

महराजगंज. नगर पंचायत बृजमनगंज में उपभोक्ताओं को खराब नेटवर्क व्यवस्था के कारण काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। शिकायत दर्ज कराने...

गुड न्यूज: 1 अगस्त से सस्ता हो जाएगा नई कार और बाइक खरीदना….

अगर आप गाड़ी या बाइक खरीदने का सोच रहे हैं तो ये खबर आपके लिए खुशखबरी से कम नहीं है। 1 अगस्त...

iphone हो जाएंगे सस्ते, भारत में एप्पल स्मार्टफोन बनाने की हुई शुरुआत…

मेक-इन-इंडिया मुहिम को रफ्तार देते हुए स्मार्टफोन जगत की दिग्गज कंपनी एप्पल ने इंडिया में फोन की मैन्युफैक्चरिंग शुरू कर दी है।...
%d bloggers like this: