Friday, July 23, 2021

शिष्यों की उन्नति के लिए हाथ जोड़कर प्रेरणा देने वाले एक अनोखे शिक्षक की कहानी….

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

बच्चों के अधिकारों के प्रति बढ़ती जागरूकता के बीच जहाँ स्कूलों में शिक्षकों को बच्चों को मारने या डांटने की भी मनाही आप शहरों में देख सकते हैं, वहीं ऐसे में कुछ समय पहले ऐसी तस्वीर सामने आई थी जिसमें स्कूल के हेडमास्टर, शिष्‍य के आगे घुटनों के बल हाथ जोड़ कर बैठे थे। ऐसे में निश्चित तौर पर लोगों को आश्चर्य होगा। चेन्नई के तमिलनाडु में यह तस्वीर आजकल देखी जा रही है। विल्लुपुरम के सरकारी स्कूल के हेडमास्टर, बालू अपने शिष्य के सामने हाथ जोड़े बैठे हैं। इसके पीछे की कहानी भी बड़ी भाव-विभोर कर देने वाली है।

यह स्कूल छठी कक्षा से 12 वीं कक्षा तक का है। तकरीबन 1000 बच्चे यहां पढ़ते हैं, जो अत्यंत गरीब और पिछड़े परिवारों से आते हैं। इनके माता-पिता खेतीहर मजदूर या श्रमिक हैं। इनके परिवारों में पढ़ाई के लिए कोई विशेष स्थान ना होने के कारण स्कूल आना या ना आना इन बच्चों के लिए कोई महत्व नहीं रखता। बच्चों की उन्नति के लिए चिंतित बालू विशेष तौर पर 12 वीं कक्षा के छात्रों से प्रतिदिन हाथ जोड़कर उनके भविष्य के लिए प्रार्थना करते हैं कि वह स्कूल में अवश्य आएं। इतना ही नहीं स्कूल में नहीं आने वाले बच्चों के घरों पर जाकर भी वह इसी तरह हाथ जोड़कर उनके सामने स्कूल आने की प्रार्थना करते हैं। जिस युग में आज हम हैं वहां तो मनुष्य अपनों के लिए भी झुकने को तैयार नहीं होता। लेकिन बालू का बच्चों के भविष्य के प्रति उनके लिए विनम्र निवेदन उनकी सोच एवं सहनशीलता के गुण को दर्शाता है। अपनी छुट्टी के दिन भी बालू बच्चों के घरों पर जाकर उन्हें शिक्षा का महत्व समझाते हैं और स्कूल आने के लिए प्रेरित करते हैं।

ये भी पढ़े :  निर्भया की बरसी आज, मां बोलीं- दूसरी बच्चियों के इंसाफ के लिए लड़ते रहेंगे।।
ये भी पढ़े :  मास्क पहनना हुआ जरूरी तो सड़क पर केवल वही पहनकर निकला शख्स...

465zrycmckp4xscyenyf4cdvbkbyzf7u.jpeg

डांटने, मारने या प्रताड़ित करने से अच्छा वह विनम्रता को मानते हैं क्योंकि यह बच्चे जिस परिवेश में पलते हैं वहां जीवन की आधारभूत जरूरतों को पूरा करना शिक्षा से ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, ऐसे में उन्हें यह समझाना नितांत आवश्यक है कि शिक्षा के द्वारा वह अपनी जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकते हैं और अपने मां-बाप सहित अच्छी जिंदगी गुजार सकते हैं। इतना ही नहीं बालू बच्चों का मार्गदर्शन भी यह बताकर करते हैं कि बोर्ड के पेपरों के लिए उन्हें कैसी तैयारी करनी है और कॉलेज में कैसे आवेदन करना है।

बालू की विनम्रता से शिष्य पहले शरमाते या हिचकिचाते हैं लेकिन ज्यादातर बच्चे उनकी बात मान लेते हैं। क्योंकि बालू स्वयं गरीब परिवार से हैं और सरकारी स्कूल में पढ़े हैं इसलिए उनका मानना है कि शिक्षक का प्रेम पूर्ण व्यवहार ही बच्चों एवं माता पिता का विश्वास जीत सकता है। हालांकि वह अपने द्वारा किए जा रहे कार्य को प्रत्येक शिक्षक द्वारा अपनाना जरूरी नहीं समझते लेकिन शिक्षक लेकिन शिक्षक का अहम बच्चों के साथ मधुर रिश्ते रखने के लिए आगे नहीं आना चाहिए, ऐसा उनका मानना है।

ये भी पढ़े :  किसानों के लिए योगी सरकार की तीन बड़ी सौगातें

तमिलनाडु के स्कूलों में बढ़ रही बच्चों की आत्महत्या की घटनाओं ने बालू को मानो झकझोर दिया। 3 साल पहले उन्होंने यह तरीका बच्चों पर अपनाने का निश्चय किया। ऐसा करने से बच्चों ने स्कूल आने के साथ-साथ पढ़ाई में भी मन लगाना शुरु किया है हालांकि इस तरीके की सफलता कितने समय तक बनी रहेगी यह बालू भी नहीं जानते।

ये भी पढ़े :  आधुनिक भारत: तांत्रिक बोला- लड़की के साथ रेप करने से धनलाभ होगा..., राखी बंधवाने वाला..

wrvdbd5sbw7cruuwnhk6vvqukldcabjb.jpeg

तमिलनाडु ही नहीं पूरे देश में स्कूली बच्चे आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं जिसमें मुख्य भूमिका मानसिक तनाव होती है, जिसके कारण घरेलू या अन्य भी हो सकते हैं। ऐसे में एक सच्चे शिक्षक को समस्या की जड़ तक जाने के लिए बच्चे के व्यक्तिगत व्यवहार को समझना चाहिए, जो कि प्यार से ही संभव है। बालू एक शिक्षक होने के नाते इस कर्तव्य को बहुत अच्छी तरह से निभा कर अन्य शिक्षकों के लिए एक मिसाल भी पेश कर रहे हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और सफाई के अभाव में सड़क पर भर रहा है गन्दा पानी, बीमारियां फैलने का बढ़ रहा है खतरा,...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...
%d bloggers like this: