- Advertisement -
n
n
Friday, May 29, 2020

संन्यास की अटकलों के बीच दो महीने के लिए सियाचिन में हो सकती है लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी की पोस्टिंग!

Views
Gorakhpur Times | गोरखपुर टाइम्स

वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में भारतीय टीम की विदाई के बाद पूर्व कप्तान महेंद्र ‌सिंह धोनी के संन्यास की अटकलों का बाजार गर्म है. कुछ खबरें ऐसी भी हैं कि महेंद्र सिंह धोनी अगले साल आईपीएल खेलने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह सकते हैं. हालांकि वर्ल्ड कप में धोनी का प्रदर्शन उतना खराब भी नहीं रहा था. धोनी ने सेमीफाइनल में 72 गेंदों पर 50 रनों की पारी खेली थी, लेकिन वे 49वें ओवर की तीसरी गेंद पर रन आउट हो गए थे. इसके बाद ही भारतीय टीम की जीत की उम्मीदें भी चकनाचूर हो गई.

अब चर्चा ये है कि महेंद्र सिंह धोनी वेस्टइंडीज दौरे पर नहीं जा रहे हैं. इस दौरे के लिए विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह को आराम देने का फैसला किया गया है. हालांकि खबरें ये भी हैं कि विराट कोहली आराम का फैसला छोड़कर विंडीज दौरे पर जाने के लिए हामी भर सकते हैं.

NOTE:  गोरखपुर टाइम्स का एप्प जरुर डाउनलोड करें  और बने रहे ख़बरों के साथ << Click

Subscribe Gorakhpur Times "YOUTUBE" channel !

The Photo Bank | अच्छे फोटो के मिलते है पैसे, देर किस बात की आज ही DOWNLOAD करें और दिखाए अपना हुनर!

 

ये भी पढ़े :  IPL 2019: चेन्नई ने 8वीं बार फाइनल में बनाई जगह, दिल्ली को दिखाया बाहर का रास्ता

जहां तक बात महेंद्र सिंह धोनी की है तो उनके संन्यास पर स्थिति जब साफ होगी तब होगी, फिलहाल तो माना जा रहा है कि धोनी अगले दो महीनों तक इंडियन टेरिटोरियल आर्मी में जा सकते हैं. धोनी को 2011 में लेफ्टिनेंट कर्नल का रैंक दिया गया था. वैसे भी धोनी का आर्मी प्रेम किसी से छिपा नहीं है.

दरअसल, हाल ही में महेंद्र सिंह धोनी के एक करीबी दोस्त ने ये जानकारी दी थी कि धोनी भविष्य में कुछ भी कर सकते हैं. यह भी हो सकता है कि टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी कुछ महीनों के लिए सियाचिन में पोस्टिंग करते नजर आएं. धोनी वैसे ही देश की सेवा करना चाहते हैं, जैसे देश के जवान करते हैं. इसके लिए जल्द ही वह आर्मी के संबंधित अधिकारियों से बात कर उन्हें अपनी इच्छा से अवगत कराना चाहते हैं.

बचपन से ही फौजी बनना चाहते थे धोनी

महेंद्र सिंह धोनी ने टीम इंडिया को क्रिकेट के हर फॉरमेट में बुलंदियों तक पहुंचाया. लेकिन रांची का ये लड़का क्रिकेटर नहीं, कुछ और बनना चाहता था. धोनी ने एक इंटरव्‍यू में कहा था कि वह बचपन से ही फौजी बनना चाहते थे. वो रांची के कैंट एरिया में अक्सर घूमने चले जाते थे, लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था. यही वजह रही कि वो फौज के अफसर नहीं बन पाए और क्रिकेटर बन गए.

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: