Monday, June 21, 2021

सतयुग में विश्वकर्मा ने ही किया था स्वर्ग का निर्माण।

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

भदोही। देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा को निर्माण और सृजन का देवता माना जाता है, उन्हें दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन कारोबारी और व्यवसायी लोग भगवान विश्वकर्मा की पूजा करते है और उन्हें तरक्की मिलती है। बताया जाता है कि वास्तुकला के आचार्य भगवान विश्वकर्मा वास्तुदेव तथा माता अंगिरसी के पुत्र हैं। इनके जन्म के विषय मे अनेक मतभेद है। किसी विद्वान की यह मान्यता है कि अश्विन मास की प्रतिपदा को विश्वकर्मा जी का जन्म हुआ था, लेकिन अगर हम अन्य मान्यताओं की बात करे लगभग सभी मान्यताओं के अनुसार यही एक ऐसा पूजन है जो सूर्य के पारगमन के आधार पर तय होता है। इस लिए प्रत्येक वर्ष यह 17 सितम्बर को मनाया जाता है।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर:RSS लगातार गरीबो तक पहुंचा रहा राशन,एक भी व्यक्ति भूखा ना सोये लिया है संकल्प.....

भगवान विश्वकर्मा की पूजा हर व्यक्ति को करनी चाहिए। सहज भाषा में कहा जाए कि सम्पूर्ण सृष्टि में जो भी कर्म सृजनात्मक है, जिन कर्मों से जीव का जीवन संचालित होता है। उन सभी के मूल में विश्वकर्मा हैं। अत: उनका पूजन जहां प्रत्येक व्यक्ति को प्राकृतिक ऊर्जा देता है वहीं कार्य में आने वाली सभी अड़चनों को खत्म करता है। बताया जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही उन्होंने सतयुग में स्वर्गलोक, त्रेतायुग में सोने की लंका, द्वापर में द्वारिका और कलियुग में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र एवं सुभद्रा की विशाल मूर्तियों का निर्माण करने के साथ ही यमपुरी, वरुणपुरी, पांडवपुरी, कुबेरपुरी, शिवमंडलपुरी तथा सुदामापुरी आदि का निर्माण किया। ऋगवेद में इनके महत्व का वर्णन 11 ऋचाएं लिखकर किया गया है।

ये भी पढ़े :  चाहते हैं देश और मजबूत हो तो मोदी को एक मौका फिर दें : अमित शाह...

इनके पूजन के सम्बंध में बताया जाता है की5 विश्वकर्मा जयंती पर शुभ मुहूर्त में किया गया पूजन कारोबार में इजाफा करने के साथ ही धनवान भी बना सकता है। भगवान विश्वकर्मा की पूजा विधि-विधान से करने पर विशेष फल प्रदान करती है। सबसे पहले पूजा के लिए जरूरी सामग्री जैसे अक्षत, फूल, चंदन, धूप, अगरबत्ती, दही, रोली, सुपारी, रक्षा सूत्र, मिठाई, फल आदि की व्यवस्था कर लें। इसके बाद फैक्टरी, वर्कशॉप, ऑफिस, दुकान आदि के स्वामी को स्नान करके सपत्नीक पूजा के आसन पर बैठना चाहिए। इसके बाद कलश को स्थापित करें और फिर विधि-विधान से क्रमानुसार पूजा करें। इनके बारे में बताया जाता है कि स्कंद पुराण के अंतर्गत विश्वकर्मा भगवान का परिचय ‘बृहस्पते भगिनी भुवना ब्रह्मवादिनी। प्रभासस्य तस्य भार्या बसूनामष्टमस्य च। विश्वकर्मा सुतस्तस्यशिल्पकर्ता प्रजापति’ श्लोक के जरिए मिलता है। इस श्लोक का अर्थ है महर्षि अंगिरा के ज्येष्ठ पुत्र बृहस्पति की बहन भुवना ब्रह्मविद्या की जानकार थीं। उनका विवाह आठवें वसु महर्षि प्रभास के साथ संपन्न हुआ था। विश्वकर्मा इन दोनों की ही संतान थे। विश्वकर्मा भगवान को सभी शिल्पकारों और रचनाकारों का भी ईष्ट देव माना जाता है।

ये भी पढ़े :  वाहन चालक को चाकू से वार कर किया घायल 8 हजार रुपए व गाड़ी की चाबी छीनकर भागे
ये भी पढ़े :  आज का राशफल

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

शहीद नवीन सिंह के परिवार को पवन सिंह ने दिया सहयोग।

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए गोरखपुर निवासी...
%d bloggers like this: