Saturday, July 24, 2021

सपा राज में अनारक्षित पदों पर हुई थी ओबीसी की भर्ती,(एपीसी) की जांच में हुआ खुलासा….

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

सपा शासनकाल में चकबंदी लेखपाल के अनारक्षित अभ्यर्थियों के हिस्से के करीब 1,000 पदों पर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की भर्ती कर दी गई थी। यह खुलासा कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) की जांच में हुआ है। मुख्यमंत्री ने इस मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं। इन गड़बड़ियों को दबाने के जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी। सपा शासनकाल में 2831 पदों पर चकबंदी लेखपाल की भर्ती हुई थी। शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एपीसी की जांच में सामने आया है कि इसमें अनारक्षित वर्ग के करीब 1000 पदों पर ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों की भर्ती कर दी गई। यह मामला तब सामने आया जब योगी सरकार में यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) ने 1364 पदों के लिए चकबंदी लेखपाल की भर्ती शुरू की। इसमें अनारक्षित श्रेणी के 1,002 और एससी श्रेणी के 362 पद शामिल किए गए थे। विज्ञापन जारी होते ही ओबीसी के पद नहीं होने पर सवाल उठाए जाने लगे। मामला मुख्यमंत्री तक पहुंचा तो उन्होंने भर्ती प्रक्रिया निरस्त कर कृषि उत्पादन आयुक्त को जांच के आदेश दे दिए थे। अब एपीसी ने अपनी जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी है। मुख्यमंत्री ने एपीसी की जांच को कार्रवाई के लिए राजस्व व नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग को भेज दिया है। दरअसल नई सरकार आने पर मुख्यमंत्री ने समस्त विभागों को रिक्त पदों पर तेजी से भर्ती के निर्देश दिए थे। इसके बाद चकबंदी आयुक्त ने पिछली भर्ती में अनारक्षित कोटे के पदों पर ओबीसी अभ्यर्थियों की भर्ती पदों का संज्ञान लेकर भर्ती प्रस्ताव तैयार कराया। इसमें पिछली सरकार में हुए खेल पर पर्दा डालने की कोशिश करते हुए ओबीसी के पद नहीं रखे गए और अनारक्षित पदों की पुरानी संख्या शामिल कर भर्ती प्रस्ताव भेज दिया गया। आयोग ने आयुक्त के प्रस्ताव के आधार पर ही भर्ती के आवेदन मांग लिए। आयोग ने भी इसकी ठीक से पड़ताल नहीं की। खास बात ये रही कि चकबंदी आयुक्त ने पूर्व में नियमों को नजरंदाज कर की गई भर्ती के बारे में शासन को जानकारी तक नहीं दी। प्रारंभिक जांच में चकबंदी आयुक्त हो चुकी हैं निलंबित कृषि उत्पादन आयुक्त की प्रारंभिक जांच के आधार पर नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग ने चकबंदी आयुक्त शारदा सिंह को निलंबित कर दिया था। प्रांरभिक जांच में भर्ती प्रस्ताव भेजने में आयुक्त के स्तर पर गड़बड़ियों को छिपाने और गंभीर अनियमितता व लापरवाही बरतने की बात कही गई थी। अब आयुक्त सहित जांच में जिम्मेदार ठहराए गए अन्य अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई हो सकती है। केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया ने की थी शिकायत केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने भर्ती में ओबीसी कोटे के पद न होने पर सवाल उठाया था और मुख्यमंत्री से जांच की मांग की थी। मुख्यमंत्री ने अनुप्रिया की शिकायत पर ही जांच के आदेश दिए थे। अब इस नए खुलासे के बाद तमाम अफसर कार्रवाई के दायरे में आ गए हैं।

ये भी पढ़े :  128 फीट ऊंचा भव्य मंदिर बनाने की योजना, जानें- पूरा ब्योरा.....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: