Wednesday, August 4, 2021

साल 1480 से पहले तक भारत – श्रीलंका के बीच लोग श्रीरामसेतु का इस्तेमाल करते थे!

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, श्रीराम सेतु का निर्माण वानर सेना की मदद से भगवान राम ने कराया था। जब उन्हें मां सीता को बचाने के लिए लंका पहुंचना था। ऐसा कहा जाता है कि रामायण (5000 ईसा पूर्व) का समय और पुल वास्तव में अस्तित्व में था। कुछ पुरातत्वविदों का मानना है कि राम सेतु रामायण का एकमात्र पुरातात्विक और ऐतिहासिक सबूत है। विज्ञान के अनुसार, यह स्वाभाविक रूप से बनाया गया मार्ग है जो पंबन द्वीप से मन्नार द्वीप को जोड़ता है। हालांकि, पुल अब मौजूद नहीं है और इसके बारे में बहुत बहस हो चुकी है।

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि “पद्म पुराण” के अनुसार – यदि भगवान राम ने राम सेतु का निर्माण किया, तो उन्होंने इसे नष्ट भी कर दिया।

सेतुसमुद्रम मामला जो सुप्रीम कोर्ट में लंबित है उसमें आये तर्कों पर अगर गौर करें तो यह सच लगता है कि पुल था और उसका इस्तेमाल भी होता था

एक बार केंद्र की यूपीए सरकार ने सेतु समुद्रम मामले में सर्वोच्च न्यायालय में एक बयान में कहा – तो सेतु कहां है? हम किसी पुल को नष्ट नहीं कर रहे हैं। कोई पुल नहीं है। एक मानव निर्मित संरचना नहीं थी। यह किसी सुपरमैन ने बनाया और उसने ही इसे नष्ट कर दिया था। यही कारण है कि सदी के लिए इसके बारे में कुछ भी नहीं बताया जा सका। सीनियर एडवोकेट फली ए नरीमन ने कहा था- शास्त्रों का कहना है कि राम-रावण युद्ध के बाद भगवान राम ने खुद ही इसे कई टुकड़ो में तोड़ दिया था। यदि ऐसा है, तो यह पहले से ही प्राचीन समय से टूट चुका है और इसलिए यह अब पूजा की जगह नहीं हो सकता है।

इतिहासकार और पुरातत्वविद प्रोफ़ेसर माखनलाल ने एक बार BBC से कहा था – इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कोरल और सिलिका पत्थर जब गरम होता है तो उसमें हवा कैद हो जाती है जिससे वो हल्का हो जाता है और तैरने लगता है। ऐसे पत्थर को चुनकर ये पुल बनाया गया।

वो बताते हैं – साल 1480 में आए एक तूफ़ान में ये पुल काफ़ी टूट गया. उससे पहले तक भारत और श्रीलंका के बीच लोग पैदल और पहियों के ज़रिये इस पुल का इस्तेमाल करते रहे थे। अगर इसे राम ने नहीं बनाया तो किसने बनाया।

लेकिन उन दावों का क्या जो कहते हैं कि रामायण और इसके पात्र कल्पना मात्र हैं? वो कहते हैं – क्या रामायण अपने आपको मिथिकल कहता है? ये हम, आप और अंग्रेज़ों ने कहा है। दुनिया में ओरल ट्रैडिशन भी होती हैं। अगर आप हर चीज़ का लिखित प्रमाण मानेंगे तो उनका क्या होगा जो लिखते पढ़ते नहीं थे। सवाल ये भी है कि इतने विवाद के बाद क्या भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने आज तक कभी इसकी तहकीकात की है। एके राय साल 2008 से 2013 तक – डायरेक्टर मॉन्युमेंट्स के पद से रिटायर होने से पहले – सेतुसमुंद्रम मामले में सुप्रीम कोर्ट में नोडल अफ़सर थे। उन्होंने कहा था – विवाद के बाद इस मामले में कोई भी हाथ नहीं डालना चाहेगा क्योंकि मामला सुप्रीम कोर्ट में है जब तक सुप्रीम कोर्ट निर्देश नहीं देता, कुछ नहीं होगा।

ये भी पढ़े :  दुःखद::-बस्ती में छह, गोरखपुर में एक नया कोरोना पॉजिटिव मिला, लॉकडाउन की छूट क्या खत्म होगी
श्रीराम सेतु के भव्य निर्माण का चित्र

और ये मामला लोगों की भावनाओं और परंपराओं से जुड़ा है। क्या एएसआई रामसेतु पर कुछ भी ठोस तरीके से कह सकती है? एके राय कहते हैं – एएसआई ने कभी इस मामले की जांच की कोशिश नहीं की। ऐसे सुबूत भी नहीं हैं जिसके आधार पर हम कह सकते हैं कि ये मानव निर्मित है। ऐसा करने के लिए नई एजेंसियों का शामिल होना ज़रूरी है। हमारे पास हां या ना कहने का आधार नहीं है। अगर आप रामेश्वरम जाएं तो वहां ढेर सारे कुंड हैं। वहीं आपको लोग मिलेंगे जो आपको पानी में तैरने वाले पत्थर दिखाएंगे।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: