Friday, January 15, 2021

बाहुबली MLA विजय मिश्र ने आखिर भदोही को ही क्यों बनाया अपनी सियासत का गढ़…

गोरखपुर:भव्य राममंदिर निर्माण हेतु श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान का हुआ शुभारम्भ….

आयोध्या में भगवान श्रीराम के जन्मभूमि पर बनने वाले भव्य मंदिर के निर्माण हेतु चलाए जा रहे श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान...

शहीद के बेटे नीतीश 26 जनवरी को अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी किलिमंजारो पर फहराएंगे तिरंगा,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सौपा तिरंगा…

गोरखपुरःगोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 26 जनवरी को अफ्रीका महाद्वीप की सबसे...

Norway: परेशान करने वाली खबर: फाइजर कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद 13 लोगों की हुई मौत, 29 में दिखे साइड इफेक्ट।

ओस्‍लो (नॉर्वे): कोरोना वायरस के खिलाफ दुनियाभर के कई देशों में लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है, लेकिन इस बीच फाइजर वैक्सीन...

Top News: पूर्व आईएएस एके शर्मा का विधान परिषद जाना तय, देखे पूरी लिस्ट, Gorakhpur Times की खबर सच।

भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति ने उत्तर प्रदेश में आगामी विधान परिषद चुनाव के लिए 4 नामों की घोषणा कर...

मायावती का अपने जन्मदिन पर ऐलान, यूपी-उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी बसपा।

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने अपने 65वें जन्मदिन पर कहा कि बसपा, उत्तर प्रदेश के साथ ही उत्तराखंड में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

  • वर्ष 2002 शुरू हुआ विधानसभा चुुनाव में जीत का सिलसिला, चार बार से हैं विधायक
  • साल 2017 में मोदी सुुनामी के विपरीत हासिल की जीत, भाजपा प्रत्याशी रहे दूसरे स्थान पर  

कहते हैं सियासत और जिंदगी में कभी कुछ समान नहीं रहता है। आपका एक छोटा सा कदम कब आपको नफा से नुकसान करा देगा इस बारे में तो बड़े से बड़े सियासी पंडित का गणित फेल हो जाता है। ऐसा ही सियासी सफरनामा इन दिनों बेहद चर्चित यूपी और पूर्वांचल के बाहुबली ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र का है।  

पड़ोसी जनपद प्रयागराज के खकटीहां गांव के निवासी और कारोबारी विधायक विजय मिश्र ने चुना पूर्वांचल के सर्वाधिक ब्राह्मण आबादी वाले जिलों मे से एक भदोही को।  भदोही को अपनी राजनीति का केंद्र बनाने के पीछे बाहुबली विधायक विजय मिश्र की सोच ब्राह्मण वोट बैंक को साधने की रही। जिसमें सफलता भी मिली। शुरुआत हुई सन 80 के दशक में जब ब्लॉक प्रमुख की किस्मत प्रधान तय किया करते थे।

ये भी पढ़े :  भदोही: बाहुबली विधायक विजय मिश्र के मकान को योगी सरकार के बुल्डोजर ने किया ध्वस्त

भदोही जिले की ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र के डीघ विकास खंड के प्रमुख की कुर्सी अभयराज सिंह के कब्जे मेें थी। 70 फीसद ब्राह्मण मतों वाले इस कुर्सी पर आखिर कैसे अभयराज सिंह लगातार दो बार काबिज हुए। इस चक्रव्यूह को समझा और तोड़ा जिले की राजनीति में पर्दापण कर चुुके विजय मिश्र ने।

ये भी पढ़े :  बाहुबली विधायक विजय मिश्र का भदोही के एसपी और आईजी पर गंभीर आरोप, कहा- कभी भी पलट सकती है गाड़ी

फिर क्या था जातीय वोट बैंक को साधने के लिए मौके की तलाश शुरू हो गई। जल्द मौका भी मिल गया, जगह थी डीघ क्षेत्र की एक साधारण सी बाजार कोइरौना। यहां पर वर्ष 1986 में किसी बात पर क्षत्रियों के पक्ष में जो नारेबाजी हुई उसने विजय मिश्र को मुफीद मौका दे दिया। 

पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज कांग्रेसी नेता पंडित कमलापति त्रिपाठी का विजय मिश्र को पहले से ही साथ था। बस फिर क्या था जिले के कांग्रेसी नेता रामश्रृंगार चौबे और वंशनारायण मिश्र ने विजय मिश्र को ब्लॉक प्रमुख पद का प्रत्याशी चुन लिया। दोनों नेताओं ने जैसे ही खुलेआम समर्थन किया, तो विजयश्री भी मिल गई।

फिर तो सियासत में शुरू हो गया फर्श से अर्श का सफर और ब्लॉक प्रमुख विजय मिश्र ने जिले के बहुसंख्यक ब्राह्मणों को अपना बनाने की मुहिम शुरू कर दी और शुरुआत में धुर क्षत्रिय विरोधी और कट्टर ब्राह्मण नेता की छवि अख्तियार की। हालांकि ये बात और है कि कारोबार और निजी जीवन में ये लागू नहीं किया।  

शुरुआत में पूर्वांचल के गांधी कहे जाने वाले, विकास पुरुष और पूर्व केंद्रीय मंत्री श्यामधर मिश्र, भाजपा नेता व पूर्व सांंसद गोरखनाथ पांडेय आदि ने हर कदम पर विजय का साथ दिया और ब्राह्मण कार्ड खेला गया। कहते हैं सियासत में आपका कोई स्थाई दोस्त और दुश्मन नहीं होता। यही विजय मिश्र के साथ भी हुआ और सपा का दामन थामने के साथ ही पुुरानों का साथ छूटता गया और नए हमराह बन गए।

ये भी पढ़े :  भदोही: बाहुबली विधायक विजय मिश्र के मकान को योगी सरकार के बुल्डोजर ने किया ध्वस्त

इन्हीं के बूते ज्ञानपुर सीट से वर्ष 2002, 2007 और 2012 में विधानसभा चुनाव समाजवादी पार्टी के टिकट से जीता। कहा तो ये भी जाता है कि सपा सरकार में मंत्री न होते हुए भी विजय मिश्र का रुतबा जिले में किसी मंत्री से कम नहीं रहा। फिर आया साल 2017 का विधानसभा चुनाव।

ये भी पढ़े :  पानी पूरी वाले ने मशाले में मिलाया शौचालय का पानी फिर पब्लिक ने...

बाहुबली विधायक विजय मिश्र के लिए ये चुनाव चुनौतीभरा था, क्योंकि एक तरफ मोदी सुुनामी थी, तो दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की नाराजगी। हुआ भी वही सपा ने टिकट काट दिया, फिर भी 40 फीसद ब्राह्मण वोटरों के सहारे विजय मिश्र ने जीत का स्वाद चखा।

इसके बाद तो विजय मिश्र ने खुुद को ब्राह्मण राजनीति का चाणक्य मानकर पूर्वांचल के जौनपुर, गाजीपुर, वाराणसी सहित अन्य जिलों में ब्राह्मण एकता का नारा बुलंद किया। हालांकि हाल-फिलहाल उनका ये दांव तो काम नहीं आया, आगे देखते हैं। 

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

दिल्ली के चाँदनी चौंक सैंकड़ो साल पुराना मंदिर तोड़ने पर बवाल,VHP का प्रदर्शन AAP सरकार पर सवाल

नई दिल्ली। दिल्ली के चांदनी चौक में स्थित एक हनुमान मंदिर जोकि सैंकड़ों साल पुराना था उसे...

यूपी: योगी सरकार की बड़ी कार्यवाही लापरवाही करने वाले सात पुलिसकर्मियों पे गिरी गाज…यह रहा पूरा मामला

ज्ञानपुर: अपर पुलिस अधीक्षक प्रोटोकॉल जनपद वाराणसी के अनुराग दर्शन की जांच आख्या के आधार पर शनिवार को...

शर्मनाक सुहागरात से पहले बहू को बाथरूम ले गई सास, वहां जाकर किया रोंगटे खड़े कर देने वाले काम…

नई दिल्ली: इंदौर के द्वारकापुरी थाने के अंतर्गत एक सास ने अपनी बहू की वर्जिनटी चेक करने के...
%d bloggers like this: