Thursday, August 5, 2021

सीएम योगी के शहर ‘गोरखपुर’ का 8 से अधिक बार बदला गया नाम, जानें क्यों….

Maharajganj: पत्रकारों के ऊपर हमले और मुकदमे की धमकियां बढ़ गई हैं, इसी तरह का घटना गोरखपुर टाइम्स के एक पत्रकार के साथ हों...

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय कमनाहा (पुरंदरपुर) विकास खण्ड धानी, जनपद महाराजगंज में ऑपरेशन कायाकल्प योजना से हो रहे मरम्मत कार्य को घटिया तरीके...

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

इलाहाबाद का नाम प्रयागराज के बाद फैजाबाद का नाम अयाेध्‍या किए जाने को लेकर प्रदेश में बहस छिड़ी हुई है. लेकिन सबसे खास बात यह है कि गोरखपुर का ही नाम पिछले 2600 साल में आठ बार से अधिक बार बदला गया. गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर गोरखपुर का मौजूदा नाम 217 साल पुराना है. बता दें कि गोरखपुर के सांसद रहते हुए योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर के कई मोहल्लों का नाम बदल दिया था. इसी के तहत अलीनगर को आर्यनगर, उर्दू बाजार को हिन्दी बाजार, हुमायूंपुर को हनुमानपुर कहा जाने लगा.

8 बार से अधिक बार बदला गया नाम

गोरखपुर विवि के प्राचीन इतिहास विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो.राजवंत राव ने न्यूज18 से खास बातचीत में दावा करते हुए कहा,” गोरखपुर शहर का नाम 8 बार से अधिक बार बदला गया है. प्रो.राजवंत राव कहते हैं कि पूर्व मध्यकाल में इस शहर का नाम सरयूपार था.” क्योकि अभिलेखों में सरयूपार नाम दर्ज हैं. वहीं मुगलकाल में गोरखपुर सरकार के नाम से जाना जाता था. तो कभी मोअज्जमाबाद और अख्तनगर के नाम से. अंत में अंग्रेजों ने 1801 में इसका नाम ‘गोरखपुर’ कर दिया जो नौवीं शताब्दी के ‘गोरक्षपुर’ और गुरु गोरक्षनाथ पर आधारित है.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर का एक गाँव जहाँ पगडंडियों के सहारे होता है आवागमन,क्या यही है विकास??
ये भी पढ़े :  दंगा नियंत्रण के लिए गोरखपुर पुलिस ने किया अभ्यास.......

2600 साल पहले ‘रामग्राम’ था नाम

प्रो.राव कहते हैं कि छठवीं शताब्दी यानी 2600 साल पहले गोरखपुर शहर का ‘रामग्राम’ हुआ करता था. इसकी वजह रामगढ़झील का इतिहास है. भौगोलिक आपदा के चलते रामग्राम धंसकर झील में बदल गया. जिसे आज हम रामगढताल के नाम से जानते है. उन्होंने बताया कि चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल में इस क्षेत्र को पिप्पलिवन के नाम से भी जाना जाता था. लेकिन गुरु गोरक्षनाथ के बढ़ते प्रभाव के चलते नौवीं शताब्दी में सबसे लोकप्रिय नाम गोरखपुर हुआ. वहीं इतिहास में शासकों ने बार-बार दूसरे नाम थोपने की कोशिश की लेकिन लोगों के अंदर बाबा गुरु गोरक्षनाथ की अपार आस्था के चलते ऐसा होने नहीं दिया.

अलग-अलग ग्रुपों पर शहर का कब्जा

गोरखपुर विश्वविद्यालय के प्राचीन इतिहास विभाग के प्रो.हिमांशु चतुर्वेदी ने बताया कि साहित्यकार डा.वेदप्रकाश पांडेय द्वारा सम्पादित किताब ‘शहरनामा’ में बहुत सारे साक्ष्य से हम सहमत नहीं है. लेकिन इतना जरुर कह सकता हुं कि 7वीं शताब्दी के पहले किसी ग्रुप ने शहर पर कब्जा कर लिया. तो उन्होंने शहर का नाम बदल था. इस तरह अलग-अलग ग्रुपों के द्वारा शहर का नाम बदलता रहा.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर पहुँचा देश का सबसे ताकतवर रेल इंजन,मेक इन इंडिया के तहत तैयार है यह इंजन....

1801 के बाद नहीं बदला गोरखपुर का नाम

प्रो.हिमांशु चतुर्वेदी बताते हैं कि रेवेन्यू रिकॉर्ड में सन् 1801 और 1802 के मुगल राज्य में गोरखपुर का नाम दर्ज है. वहीं 1772 में अवध के नवाब का एक फरमान है कि जिसमें लैंड ग्रैंड दी गई थी गोरखनाथ मंदिर और इमामबाड़ा को. उसमें भी नाम गोरखपुर ही दर्ज हैं. लेकिन 1772 के पहले का कोई रिकॉर्ड मेरे संज्ञान में नहीं हैं. अगर हम सन् 1801 के रेवेन्यू रिकॉर्ड पर गौर फरमाये तो गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर गोरखपुर का मौजूदा नाम 217 साल पुराना है.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...
%d bloggers like this: