Thursday, December 9, 2021

सीएम योगी बोले- यूपी से बाहर के लोगों को घर भेजने में देंगे पूरी मदद….

PM मोदी ने गोरखपुर समेत पूर्वांचल को दी बड़ी सौगात,लाखों लोग रहे मौजूद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरखपुर खाद कारखाने का किया लोकार्पण गोरखपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों फर्टिलाइजर कैंपस में...

गोरखपुर पहुँचे खेल मंत्री ने केशरिया ध्वजारोहण कर CM योगी सहित ग्रहण किया गार्ड ऑफ ऑनर,देखें मनमोहक शोभायात्रा की तश्वीरें

केंद्रीय मंत्री ने शोभायात्रा को सलामी दिया,भब्य संस्थापक सप्ताह शोभायात्रा निकाली गयी गोरखपुर। 89...

PM मोदी के गोरखपुर आगमन को लेकर भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने कार्यकर्ताओं के साथ कि बैठक

गोरखपुर। सात अक्टूबर को गोरखपुर के फर्टिलाइजर स्थित खाद कारखाने का उद्घाटन करने आ रहे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम...

गोरखपुर:- प्रधानमंत्री की रैली के लिए भाजपाइयों ने कसी कमर

प्रधानमंत्री की रैली के लिए भाजपाइयों ने कसी कमर पिपरौली 7 दिसंबर को गोरखपुर खाद कारखाना...

संदिग्ध परिस्थिति में मिला एएनएम की शव

घुघली/महराजगंज: जनपद के घुघली थाना क्षेत्र के ग्राम सभा रामपुर बाल्डीहा में एएनएम पद पर कार्यरत खुशबू यादव की संदिग्ध परिस्थितियों बुधवार...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना आपदा और लॉकडाउन के कारण उत्तर प्रदेश में फंसे अन्य राज्यों के लोगों को वापस भेजने में योगी सरकार पूरा सहयोगी करेगी। बुधवार को मुख्यमंत्री Yogi Adityanath ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि अगर अन्य राज्यों के लोगों को उनके गृह राज्य की सरकार वापस बुलाने का निर्णय लेगी तो प्रदेश सरकार न सिर्फ इसकी अनुमति देगी बल्कि उन्हें वापस भेजने में मदद भी करेगी। मुख्यमंत्री के इस फैसले से सबसे ज्यादा फायदा बिहार के प्रवासी मजदूरों को हो सकता है जो हजारों की संख्या में नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, कानपुर आगरा आदि जगहों पर फंसे हुए हैं।

इससे पहले योगी राजस्थान के कोटा में फंसे यूपी के छात्रों की प्रदेश वापसी करा चुके हैं। योगी के अलावा मंगलवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी अपने प्रदेश में फंसे प्रवासी मजदूरों को घर वापस भेजे जाने की बात कही थी। उन्होंने इस बाबत केंद्र सरकार से अपील की थी कि इन मजदूरों को घर वापस भेजने के लिए स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएं। सीएम कार्यालय की ओर से कहा गया कि मुश्किल समय में अपने परिवार और घर से दूर रहना इन मजदूरों के लिए यातना जैसा है। इसलिए केंद्र सरकार को इन्‍हें घर पहुंचाने पर गंभीरता से विचार करने की जरूरत है।
उद्धव के बाद योगी आदित्यनाथ ने प्रवासियों की घर वापसी के लिए कदम उठाने के संकेत दिये हैं। योगी ने बुधवार को एक हाई लेवल मीटिंग में अपनी यह मंशा जाहिर की। उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकारें चाहेंगी तो वह यूपी में फंसे उनके प्रदेश के लोगों को घर जाने की अनुमति दे देंगे। साथ ही घर पहुंचाने में उनकी मदद भी करेंगे।

ये भी पढ़े :  सीएम योगी ने कहा हमे सौप दे अयोध्या मामला,24 घंटे के अंदर सुलझा देंगे...
ये भी पढ़े :  आज का पंचांग (Gorakhpur Tims Media)

मीटिंग में सीएम ने इसके अलावा रमजान महीने को लेकर अधिकारियों को खास सतर्क रहने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा – रमजान का महीना प्रारम्भ हो रहा है। इस अवधि में विशेष सावधानी बरती जाये। यह सुनिश्चित किया जाये कि सहरी और इफ्तार के समय किसी भी प्रकार से भीड़ एकत्र न होने पाये।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वह स्वयं कोटा से प्रदेश वापस आए बच्चों से बात कर उनका हालचाल लेंगे। सीएम ने सचिवालय कर्मियों को एक-एक छोटा सैनिटाइजर उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए। योगी ने कहा – लॉकडाउन का मतलब पूर्ण लॉकडाउन है इसलिए इसका सख्ती से शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने समस्त गतिविधियों में हर हाल में सामाजिक दूरी का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने एक उच्चस्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि लॉकडाउन अवधि में आवश्यक सामग्री की सुचारु आपूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए।

योगी ने कहा कि प्रत्येक मण्डल मुख्यालय पर एक टेस्टिंग (जांच) प्रयोगशाला स्थापित की जाए जिससे अधिक संख्या में टेस्टिंग सम्भव हो सके। उन्होंने कहा कि अलीगढ़, सहारनपुर तथा मुरादाबाद संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील हैं इसलिए इनके मण्डलीय चिकित्सालय में टेस्टिंग प्रयोगशाला स्थापित की जाए। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि अभी तक संक्रमण प्रभावित 10 जिले कोरोना वायरस से मुक्त हो चुके हैं जबकि 22 जिले पहले से ही कोरोना वायरस से मुक्त हैं।
इस प्रकार वर्तमान में प्रदेश के कुल 32 जिले कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हैं। योगी ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त जिलों में भी पूरी सतर्कता एवं सभी सावधानियां बरतना आवश्यक है। यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी दशा में सुरक्षा चक्र टूटने न पाए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों तथा शासन के नियमों का पालन करते हुए उन जिलों में औद्योगिक इकाइयों का संचालन कराया जाए जो कोरोना वायरस से प्रभावित नहीं है। परियोजनाओं के लिए इस्तेमाल होने वाली विभिन्न प्रकार की निर्माण सामग्री के आवागमन की अनुमति दी जाए। इसके तहत भट्ठों से ईंट तथा बालू, मोरंग तथा सरिया लाने की अनुमति दी जाए। बाद में अपर मुख्य सचिव, गृह एवं सूचना, अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में 12 हजार ईंट भट्ठों में 12 से 15 लाख श्रमिक कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि सात हजार औद्योगिक इकाइयों में लगभग 1.25 लाख लोग काम कर रहे हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

स्वर्णकार समाज ने लोकसभा , विधानसभा में अपने प्रतिनिधित्व के लिए भरी हुँकार,जल्द प्रदेश व्यापी होगी सभा

स्वर्णकार समाज का स्वर लोकसभा एवं विधानसभाओं में मुखरित हो प्रतिनिधित्व सभी पंचायतों में हो इस विचार के साथ स्वर्णकार समाज...

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...
%d bloggers like this: