Saturday, January 23, 2021

सीबीआई’ की असफलता अथवा राष्ट्रवादी की गलत जांच का परिणाम – श्री. चेतन राजहंस ; सनातन संस्था।

ट्रैक्टर मार्च: किसानों की तरफ से पेश किए गए शख्स का दावा- चार किसान नेताओं को गोली मारने की रची गई थी साजिश

आज सिंघु बार्डर पर किसान यूनियन की तरफ से एक शख्स को पेश किया गया, जिसनें दावा किया कि 26 जनवरी को...

गोरखपुर महोत्सव को सफल बनाने हेतु पीसीएस प्रतिमा त्रिपाठी को कमिश्नर ने किया सम्मानित

गोरखपुर महोत्सव को सफल बनाने हेतु पीसीएस प्रतिमा त्रिपाठी को कमिश्नर ने किया सम्मानित गोरखपुर की पहचान बन कर...

मृतक के स्पर्म पर पिता या उसकी विधवा पत्नी का अधिकार? कलकत्ता हाईकोर्ट ने सुनाया फैसला

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने एक पिता द्वारा अपने मृत बेटे के जमा किए हुए स्पर्म पर पेश की दावेदारी...

भजन सम्राट और जगराता में माता के भजन गाने के लिए मशहूर नरेंद्र चंचल का दिल्ली में आज निधन हो गया

भजन सम्राट और जगराता में माता के भजन गाने के लिए मशहूर नरेंद्र चंचल का दिल्ली का आज निधन हो गया. अपोलो...

आज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र फरेन्दा में कोविड-19 की पहली डोज डॉ सी वी पांडेय को लगाया गया

Maharajganj: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फरेंदा में महराजगंज के डीएम डॉ उज्जवल कुमार एवँ सीएमओ डॉ ए के श्रीवास्तव की मौजूदगी में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

सुशांतसिंह राजपूत की मृत्यु के प्रकरण में सर्वोच्च न्यायालय ने मुंबई पुलिस से जांच की प्रक्रिया लेकर वह सीबीआई को सौंपने के कारण हुई अपकीर्ति के कारण राष्ट्रवादी के नेता सीबीआई को लक्ष्य बनाकर वक्तव्य कर रहे हैं; परंतु दाभोलकर प्रकरण में उन्हीं के गृहमंत्रालय द्वारा की गई गलत जांच का परिणाम सनातन संस्था को भुगतना पड रहा है । वर्ष २०१३ में डॉ. दाभोलकर की हत्या हुई, उस समय राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेता और राज्य के तत्कालीन गृहमंत्री आर.आर. पाटिल के मार्गदर्शन में पुलिस ने तत्परता से जांच करते हुए मनीष नागोरी और विकास खंडेलवाल नामक दो शस्त्र तस्करों को बंदी बनाया था । उनके पास मिली पिस्तौल से ही दाभोलकर की हत्या हुई है तथा इससे संबंधित प्रमाण स्वरूप उन्होंने ‘फॉरेन्सिक ब्यौरा’ भी न्यायालय में प्रस्तुत किया था । इसके पश्‍चात जांच पर असंतुष्ट दाभोलकर परिवार ने उच्च न्यायालय में याचिका देकर जांच ‘सीबीआई’ को सौंपने की मांग की । उसके अनुसार ‘सीबीआई’ ने जांच प्रारंभ की तथा वह भी माननीय न्यायालय के निरीक्षण के अंतर्गत चल रही है । ऐसा होते हुए भी यदि राष्ट्रवादी के नेता और दाभोलकर परिवार आज ‘सीबीआई’ को ही असफल कह रहे हों, तो वह उनकी ही असफलता है । ‘सीबीआई’ की असफलता के संबंध में बोलना हो, तो आर.आर. पाटिल के समय हुई जांच पर भी प्रश्‍नचिन्ह उत्पन्न होता है । यदि इन दो शस्त्र तस्करों का अपराध ‘फॉरेन्सिक ब्यौरे’ से सिद्ध होता है, तो इन दोनों को ‘क्लीनचिट’ कैसे मिली ? इस संबंध में न दाभोलकर परिवार, न ही तत्कालीन राज्य सरकार कोई कुछ नहीं बोलता, ऐसे प्रश्‍न सनातन संस्था के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस ने उपस्थित किए हैं ।

वर्ष २०१३ में दाभोलकर की हत्या हुई । तब कांग्रेस-राष्ट्रवादी सरकार के कार्यकाल में दाभोलकर परिवार ने भ्रमित करनेवाले वक्तव्य किए । कालांतर से जांच सीबीआई को सौंपी गई, तत्पश्‍चात राज्य में भी सत्ता परिवर्तन भी हुआ । इस प्रकरण में कुछ हिन्दुत्वनिष्ठ कार्यकर्ताआें की नाहक गिरफ्तारी हुई । तब भी कोई परिणाम नहीं निकला, इसलिए दाभोलकर परिवार चिल्लाता रहा । अब तो शिवसेना-राष्ट्रवादी-कांग्रेस इन तीन पक्षों की ‘महाविकास आघाडी’ सरकार सत्ता पर आई, तब भी अभी तक जांच पर और सरकार पर प्रश्‍नचिन्ह उपस्थित किए जा रहे हैं । इस घटनाक्रम से एक बात प्रमुख रूप से सामने आती है, वह यह कि सरकार किसी भी दल की हो, जांच तंत्र कोई भी हो; ‘दाभोलकर का खरा हत्यारा कौन है’, इसकी अपेक्षा दाभोलकर परिवार को जिसे हत्यारा सिद्ध करना है, वे हत्यारे अभी तक पकडे नहीं गए हैं, इसलिए निरर्थक बातें चल रही हैं । अन्य समय लोकतंत्र के तत्वों के नाम से चिल्लानेवाले दाभोलकर परिवार का क्या वास्तव में लोकतंत्र प्रक्रिया पर विश्‍वास है ? सभी अन्वेषण संस्थाआें द्वारा जांच करने के पश्‍चात भी कुछ नहीं मिला’, यह कहते हुए अब विदेश की ‘एफ.बी.आई.’ अथवा ‘स्कॉटलैंड यार्ड’ को जांच सौंपने की मांग दाभोलकर परिवार करनेवाला है क्या ?

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में भव्य आगाज़ हुआ अभ्युदय का,छात्रों ने खूब की मस्ती...

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर महोत्सव को सफल बनाने हेतु पीसीएस प्रतिमा त्रिपाठी को कमिश्नर ने किया सम्मानित

यूपी: गोरखपुर सर्राफा लूटकांड लुटेरे दरोगा सहित 3 पुलिसकर्मी बर्खास्त, एसपी ने किया पूरा थाना सस्पेंड…

बस्ती: गोरखपुर में सर्राफा व्यवसाई से 19 लाख नगद, 12 लाख के सोने व 4 लाख की चांदी...

गोरखपुर पुलिस महकमे में बड़ा परिवर्तन बांसगांव थानाध्यक्ष भेजे गए रामगढ़ थाने पर और ….

डीआईजी/एसएसपी जोगिंदर कुमार ने कानून व्यवस्था चुस्त दुरुस्त बनाये रखने हेतु 6 निरीक्षक और 4 उप निरीक्षक के कार्यक्षेत्र में किया बदलाव
%d bloggers like this: