Thursday, December 5, 2019
Gorakhpur

सुरियावां का अनरशा है बहुत प्रसिद्ध

भदोही

सुरियावां। सैकड़ो वर्ष से सुरियावां में अनरशा रंग रंग का बनता है। सुरियावां नगर के फाटकगली में दर्जनों परिवारों की रोजी रोटी अनरशा से चलती है। रमाशंकर गुप्ता बताते है कि मेरे पूर्वजो के समय से अनरशा बनाया जाता है। जिसकी डिमांड मुम्बई, दिल्ली, कलकत्ता आदि बड़े दूर दराज देश के शहरों में लोग खरीदकर ले जाते है। यह बढ़ मासी मिलता है, सावन में इसकी खपत, खिचड़ी आदि पर्व पर लोग ख़रीद करते है ।पहले के समय साधन न रहने पर लोग ऊंट घोड़ा से मेला हाट में भी अनरशा ले जाकर बेचते रहे आज भी लोग साधन से ले जाते है। अनरशा के साथ गट्टा भी बनता है। महेंद्र हलवाई, मंचल, , शैलेश, शीतला प्रसाद, बलई हलवाई, रमेश चंद्र, राजेश हलवाई, राजेन्द्र हलवाई आदि दर्जनों की संख्या में परिवार रात दिन मेहनत करके अनरशा बनाते है। यहां का अनरशा पूरे देश मे विख्यात है। गुड़ चावल तेल व चीनी चावल तेल से दो प्रकार का कई रंग विरंगा सुंदर कलर में बनता है। खाने स्वादिष्ट भी रहता है

Advertisements
%d bloggers like this: