Saturday, July 24, 2021

पैर में गाेली लगने पर भी 3 पाक सैनिकाें काे मार गिराया,

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

बलिया जिले के दुधौला के रहने वाले सूबेदार मेजर शत्रुघ्न अभी वाराणसी एनसीसी में पदस्थापित हैं।

  • वीरचक्र से सम्मानित तत्कालीन नायक और वर्तमान में सूबेदार मेजर शत्रुघ्न सिंह ने बताई युद्ध क्षेत्र की कहानी

रविवार काे करगिल युद्ध में विजय की 21वीं वर्षगांठ है। 1999 में करगिल युद्ध के दौरान बिहार रेजिमेंट की पहली बटालियन ने अदम्य साहस और वीरता का परिचय दिया था। अतिदुर्गम परिस्थितियों में बटालिक सेक्टर में दुश्मनों के कब्जे से पोस्टों को मुक्त कराया, जो सामरिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण था। साथ ही प्वाइंट 4268 और जुबेर ओपी पर भी पुनः कब्जा जमाया। युद्ध के दौरान प्रथम बिहार के एक अधिकारी और आठ जवान शहीद हो गए। प्रथम बिहार को बैटल ऑनर बटालिक और थिएटर ऑनर करगिल का सम्मान दिया गया।

बर्फ और पत्थरों पर रेंगते हुए जख्मी हालत में किसी तरह चलता रहा और अपने साथियों के पास पहुंचा

करगिल युद्ध के दौरान अपनी रेजिमेंट के साथ लेह में तैनात था। 17 मई 1999 को छुट्टी लेकर घर जा रहा था। श्रीनगर पहुंचा ही था कि करगिल में पाक सैनिकों की घुसपैठ और यूनिट के लड़ाई में जाने की जानकारी मिली। छुट्टी रद्द होने पर वापस लौट आया। 21 मई को करगिल के बटालिक सेक्टर में पाक सैनिकों पर हमले और एक पोस्ट पर कब्जा करने का निर्देश मिला। मेजर एम सरवनन के नेतृत्व में गणेश प्रसाद यादव, सिपाही प्रमोद कुमार और ओमप्रकाश गुप्ता के साथ रेकी पर निकल गया। 27 मई की रात हमला करना था, लेकिन किसी कारण यह टल गया। 28 मई 1999 की रात अपने साथियों के साथ कूच कर गया।

ये भी पढ़े :  Lockdown Effect: फिर बंद हुई इन ट्रेनों की बुकिंग, अब 30 अप्रैल तक नहीं चलेंगी ये ट्रेनें
ये भी पढ़े :  अभिनेता अभिषेक बच्चन भी कोरोना की चपेट में,रिपोर्ट आई पॉजिटिव....

दुश्मन की तरफ से गोले बरसाए जा रहे थे। गोलियों की लगातार बौछार हो रही थी। दुश्मन की स्थिति का सही अंदाजा नहीं लग पा रहा था। लेकिन, साथियों पर देशभक्ति जुनून छाया था। जान की परवाह न कर गोलियों का सामना करते हुए सभी आगे बढ़ते गए। दुश्मन की गोलियों से मेजर सरवनन, नायक गणेश प्रसाद यादव, सिपाही प्रमोद कुमार और ओमप्रकाश गुप्ता शहीद हो गए पर हम बढ़ते रहे।

पोस्ट के करीब पहुंचे तो दुश्मन सामने दिखा। मैंने एक को मार गिराया। इसी बीच मेरे पैर में दुश्मन की गोली लगी और मैं गिर पड़ा। पर फिर उठा और दुश्मन के दो और जवानों को मार गिराया और उनका हथियार छीन लिया। पैर का जख्म असहनीय होता जा रहा था और बेहोशी-सी छा रही थी। कब बेहोश हो गया पता नहीं चला। होश आया तो खुद को भारतीय और पाकिस्तानी सेना के बीच बर्फ में फंसा पाया। पैर में लगी गोली को चाकू से निकाला और खून रोकने के लिए कपड़ा बांध दिया।

ये भी पढ़े :  8 करोड़ लोगों को फ्री गैस सिलेंडर देने के लिए सरकार ने उठाया एक और बड़ा कदम....

पास रहे किट बैग से ड्राई फ्रूट्स और चॉकलेट के सहारे भूख से लड़ता रहा। प्यास लगी तो कपड़े को बर्फ से भीगा दिया और उसे चूसकर गला तर किया। तीन दिन बीत गए। अचानक देखा कि पाक सैनिक करीब पहुंच गए हैं। उन्हें देख अपनी मशीनगन से गोलियों की बौछार कर दी और पाकिस्तानी सैनिक अब्दुल्ला अयूब को मार गिराया। थोड़ी हिम्मत बढ़ी तो वापस अपने कैंप में लौटने के बारे में सोचने लगा। बर्फ और पत्थरों पर रेंगते हुए 11 दिन तक जख्मी हालत में किसी तरह चलता रहा। हिम्मत जवाब देने लगा था। पर किसी तरह चार किलोमीटर की दूरी तय की और आखिर में अपने साथियों के पास पहुंच गया। साथी मुझे शहीद मान चुके के थे।

ये भी पढ़े :  महराजगंज के इस सड़क का नाम पुलवामा आतंकी हमले में शहीद पंकज कुमार त्रिपाठी के नाम से जाना जायेगा...

शहीदों की पहली सूची में मेरे नाम की घोषणा कर दी गई थी। अचानक सामने देख मेरे सभी साथी उछल पड़े। उन्हें सहसा यकीन ही नहीं हो रहा था। मेरे लौट आने पर सभी के चेहरों पर थोड़ी खुशी दिखी पर अधिकारी और अन्य साथियों को खो देने का गम उससे कहीं ज्यादा था। साथियों ने बताया कि पोस्ट को दुश्मन के कब्जे से मुक्त करा लिया गया था। मुझे हेलीकाप्टर से अस्पताल पहुंचाया गया।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: