Friday, July 30, 2021

हजारों करोड़ के ऐलान के बावजूद भी पूर्वांचल के किसानों में नहीं दिखी सरकार के प्रति ख़ुशी

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना संकट और लॉकडाउन की वजह से देश के किसानों की फल एवं सब्जियां बर्बाद हो गई है तो दूध और अन्य फसलों- गेहूं, चना, सरसों आदि को औने-पौने दाम पर बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा है. ऐसे में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत कृषि सेक्टर के लिए राहत पैकेज का ऐलान किया, लेकिन किसान सरकार से खुश नहीं हैं और जल्द ही सड़क पर उतने का मन बना रहे हैं. किसान संगठनों का कहना है कि राहत के नाम पर सरकार लोन बांट रही है, इससे किसान आत्म निर्भर नहीं बल्कि आत्महत्या के लिए मजबूर होगा.

देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान किया है. इसी के तहत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कृषि सेक्टर के लिए पैकेज की घोषणा करते हुए कहा कि 3 करोड़ छोटे और सीमांत किसानों को सस्ती दर पर 30 हजार करोड़ रुपए का अतिरिक्त लोन दिया जाएगा. 25 लाख नये किसान क्रेडिट कार्डधारकों में मछुआरों और पशुपालकों को शामिल किया गया है, जो 2 लाख तक लोन ले सकेंगे.

इसके अलावा वित्त मंत्री ने कहा कि 3 करोड़ किसानों को पहले ही 4 लाख करोड़ रुपये के ऋण से लाभान्वित किया जा चुका है. किसानों के कृषि लोन पर 3 महीने का मोरेटोरियम की सुविधा दी है, जिसे 1 मार्च से बढ़ाकर 31 मई कर दिया गया है. किसानों के फसलों की खरीदारी के लिए राज्य सरकारों की खरीद फर्मों को 6700 हजार करोड़ रुपये की सहायता प्रदान की गई है.

ये भी पढ़े :  लॉक डाउन व कोरोना संक्रमण के मद्देनजर पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा चिता मोबाइलों को किया गया ब्रीफ

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत कहते हैं कि किसानों के लिए घोषित आर्थिक पैकेज में कृषि ऋण को तीन माह के आगे बढ़ाने एवं नए किसान क्रेडिट कार्ड से लोन दिए जाने के अलावा नया क्या है? किसान पहले से बैंकों के कर्जदार हैं, ऐसे में नया ऋण लेकर कोई भी जोखिम उठाने की स्थिति में नहीं है. सरकार की इन घोषणाओं से किसान आत्मनिर्भरता की नहीं बल्कि आत्महत्या की तरफ रुख करेगा. उन्होंने कहा कि किसान ठगा महसूस कर रहा है. किसानों के नुकसान की भरपाई और ऋण माफी को लेकर भारतीय किसान यूनियन जल्द ही सड़क पर उतरकर आंदोलन करेगी.

ये भी पढ़े :  उन्नाव में शहीद की बेटी से प्रियंका गांधी बोलीं, तुम खूब पढ़ो, डॉक्टर बनाएंगे...

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के संयोजक सरदार वीएम सिंह ने कहा कि सरकार रेहड़ी-पटरी वालों को आर्थक मदद दे रही है अच्छी बात है, लेकिन यह रेहड़ी-पटरी वाले तो किसानों से फल-सब्जियां लाकर बेच रहे थे, उसे कोई मदद नहीं. लॉकडाउन में फसल पर लगाई किसान की पूंजी पूरी तरह से बर्बाद हो गई. ऐसे में किसान को नुकसान की भरपाई के लिए सरकार को आर्थिक मदद की जरूरत थी, लेकिन वित्त मंत्री ने तो न ही किसानों की फसल बर्बादी पर चर्चा की और न ही गन्ना किसानों के भुगतान की.

वीएम सिंह कहते हैं कि हमें उम्मीद थी कि गन्ना किसान साढ़े 12 हजार करोड़ रुपये का भुगतान को लेकर कोई बड़ा निर्णय करेगी. सरकार राहत पैकेज से गन्ना किसान का भुगतान कर देती और दो तीन महीने के बाद चीनी मालिकों से इसे वसूल कर लेती. इससे कम से कम 40 लाख किसान परिवार के घर का खाना-पीना तो चालू हो जाता. वित्त मंत्री ने कहा कि किसान के पुराने लोन को सरकार कह रही है कि 31 मई तक दे देना. किसान 18 मई को खेत में जाएगा, 12 दिन में कौन सी फसल तैयार कर लेगा, जिससे बकाये का भुगतान कर देगा. किसान को सिर्फ और सिर्फ लोन देकर उसे कर्जदार बनाया जा रहा है.

ये भी पढ़े :  आर्य समाज के जाने-माने नेता स्वामी अग्निवेश का आज निधन

कृषि मामलों के विशेषज्ञ देवेन्द्र शर्मा कहते हैं कि वित्त मंत्री ने जो घोषणाएं की है उससे किसानों को कोई राहत नहीं मिलने वाला है. मौजूदा समय में किसानों को डायरेक्ट इनकम सपोर्ट की जरूरत है, उसके खाते में पैसे में डालने की जरूरत है. कोरोना संकट और लॉकडाउन में जिस तरह से किसानों की फसल बर्बाद हुई है, ऐसे में एक किसान के खाते में 10 हजार रुपये तो सरकार को देना ही चाहिए. इस पर ढेड़ लाख करोड़ का खर्च आएगा.

ये भी पढ़े :  बड़ी खबर --कोरोना मरीज के सम्पर्क में आये लोगो को चेक करने गये डाक्टर व पुलिस कर्मी पर किया हमला...

वो कहते हैं कि केंद्र ने राज्यों को किसानों की फसल खरीद के लिए 6700 हजार करोड़ दिए हैं. इन पैसों से राज्य सरकार खुद किसान की फल-सब्जियां खरीद कर मार्केट में पहुंचाए. अमरिका ने इस संकट में 3 बिलियन डालर किसान की फसल खरीद पर खर्च किए हैं जबकि वो कृषि प्रधान देश नहीं है. गांव में किसान मनरेगा के तहत भी काम करता है, ऐसे में मनरेगा की कार्य को 100 दिन के बजाय 200 दिन करना चाहिए और न्यूनतम वेतन भी बढ़ाया जाना चाहिए. किसान आज सड़क पर नहीं है तो उसका दर्द भी कोई देखने वाला नहीं है. इस संकट में किसान ही देश के साथ मजबूती से खड़ा रहा है, इसके बाद भी सरकार उनके राहत के नाम सिर्फ लोन मेला लगा रही है.

22_05_2017-farmer_suicide_maharashtra_samruddhi_corridor

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: