Saturday, September 19, 2020

यूपी: इस गांव में एक अनूठी परंपरा, मौत के बाद पड़ोस के लोग करते हैं ये काम

सीएम योगी की मानवीय पहल आईआईटी के छात्र को ब्लड कैंसर की इलाज के लिये खुद दिये 10 लाख की मदद

सोशल मीडिया से मिली आईआईटी के शोध छात्र के ब्लड कैंसर की बीमारी की खबर, सीएम योगी...

सीएम योगी का बड़ा एक्शन, एक हफ्ते में 31661 सहायक अध्यापकों की भर्ती पूरी करने के निर्देश

लखनऊ. रोजगार के मुद्दे को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ा एक्शन लिया...

डीएम ,एसएसपी पीपीगंज थाने पर फरियादियों की सुनी समस्या…

गोरखपुर। कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले 6 महीने से बंद चल रहे थाना दिवस शुरू होने से...

कैन्ट थाने पर सिटी मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में हुआ समाधान दिवस….

गोरखपुर। लॉकडाउन के बाद से पहली बार थाने पर समाधान दिवस का आयोजन हुआ । समाधान दिवस की...

अभी-अभी मुख्यमंत्री के शहर गोरखपुर में युवक को मारी गोली …..

गोरखपुर। चिलुआताल थाना क्षेत्र के मजनू चौकी अंतर्गत ग्राम ताजडीह में पुरानी रंजिश के वजह चली गोली एक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

demo pic

हिंदू समाज में यह सामान्य परंपरा है कि किसी के निधन पर आस-पड़ोस के लोग शव के लिए कफन जरुर देते हैं। इसे सामाजिक जुड़ाव और प्रभाव से भी जोड़कर देखा जाता है। शव के लिए आसपास के लोगों से कफन न मिलने पर कई पुरानी धारणाएं और कहावतें भी प्रचतिल हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में कुछ गांव ऐसे हैं, जहां लोग शव को कफन नहीं देते।
पुरानी परंपराओं और धारणाओं को तोड़ते हुए यहां के लोग समाज को एक नया संदेश दे रहे हैं। खास बात यह कि यह गांव उन लोगों के हैं, जहां लोग कम पढ़े-लिखे हैं, मगर उनकी सोच उन्हें शिक्षित लोगों से भी अलग कर रही है।

ये भी पढ़े :  अजब संयोग:2019 में 5 अगस्त को कश्मीर से हटा था अनुच्छेद 370, 2020 में इसी दिन हो रहा अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास, घर-घर में दिवाली मनाने की तैयारी

केराकत तहसील क्षेत्र के ग्राम हुरहुरी, चौकिया, डेड़ुवाना, बरौटी, बिशुनपुर लेवरुवा, अइलिया, अमिलिया, मुरखा, कनौरा आदि गांवों की अनुसूचित जाति के लोगों में यह परंपरा सामान्य हो चुकी है। बस्ती के कुछ जागरुक व शिक्षित लोगों ने इसकी पहल की और फिर हर कोई इसे स्वीकार कर चुका है।

ये भी पढ़े :  सिर्फ तस्वीर ही नही इनकी प्रेम कहानी भी आपके दिल को छू जाएगी ।

गांव में किसी भी परिवार में निधन होने पर कफन देने की बजाए लोग उन्हें आर्थिक मदद करते हैं। इससे यह होता है कि पीड़ित की आर्थिक मदद हो जाती है। वह उन पैसों को अन्य जरूरी काम में खर्च कर लेता है।

चौकियां गांव निवासी साहब लाल जायस बताते हैं कि इन गांवों में ज्यादातर लोग गरीब मजदूर हैं। मजदूरी के जरिए ही जीवन-यापन करते हैं। ऐसे में अचानक से किसी के निधन पर पैसे की व्यवस्था कर पाना मुश्किल होता है।

कई बार ऐसे परिवार देखे गए, जिनके पास शव को घाट तक ले जाने और लकड़ियां खरीदने के पैसे नहीं थे। इसके बाद सभी लोगों ने मिलकर यह फैसला लिया। पिछले एक वर्ष से यह परंपरा चल रही है। पप्पू कुमार भारती बताते हैं कि शव के लिए एक ही कफन पर्याप्त है।

आस-पड़ोस के लोगों, रिश्तेदारों या समाज के अन्य लोगों की ओर से दिए जाने वाले कफन को श्मशान घाट पर उतारकर फेंक दिया जाता है या जला दिया जाता है। इससे किसी का लाभ नहीं होता, सिर्फ पैसे बर्बादी होती है। लिहाजा हम लोग आर्थिक मदद कर देते हैं।

ये भी पढ़े :  रोड टैक्स माफी सहित अन्य मांगों के साथ BTTA ने निकाला जुलूस,

विशुनपुर लेवरुवा के आनंद कुमार, डेडुवाना के शिक्षक करमदेव राम आदि भी अपने गांवों में इस परपंरा का निर्वहन करा रहे हैं। उनका कहना है कि कफन से न तो मृतक को लाभ होता है और न ही उसके परिवार को। उसके बदले दी जाने वाली राशि अंतिम संस्कार में काफी मददगार होती है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

इस बेटी ने ऑनलाइन पढ़ाई करके UPPCS 11 वीं रैंक हासिल की जज्बे को सलाम है

बलिया डेस्क : यूपी पीसीएस 2018 का रिज़ल्ट घोषित हो चुका है और हर बार की तरफ...

पूरे देश में थी सिर्फ 5 सीट, इस बेटी ने अपनी मेहनत से हासिल कर ली कामयाबी

बलिया डेस्क : अभी हाल ही में यूपी पीसीएस का रिज़ल्ट आया जिसमे बलिया के नौजवानों ने...

क्‍या मर गयी है इंसानि‍यत, दो दि‍न से कब्र की आस में पेड़ के नीचे पड़ी रही बंजारन की लाश

वाराणसी। कहतें हैं इंसान के साथ कितने लोग हैं यह बात उसकी मौत पर पता चलता है।...
%d bloggers like this: