Sunday, August 1, 2021

सम्पन्न हुआ हैप्पीनेस चौपाल का दूसरा चौपाल,”क्या हम अपनी आवश्यकताओं को पहचानते हैं?”विषय पर विशेषज्ञों ने रखी अपनी राय….

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)


गोरखपुर में “अभ्युदय” संस्था द्वारा आज हैप्पीनेस चौपाल श्रृंखला के द्वितीय चौपाल का आयोजन किया गया । इसका विषय विषय – “क्या हम अपनी आवश्यकताओं को पहचानते हैं?” रखा गया था
इसमें निम्नलिखित मुद्दों पर चर्चा हुयी-
हैप्पीनेस करिकुलम दिल्ली के मुख्य रचनाकार श्री श्रवण कुमार शुक्ल ने चर्चा कि शुरुवात करते हुए कहा कि क्या हम अपनी आवश्यकताओं को स्पष्टतः पहचान पाते है? इसका जवाब देते हुए दिल्ली शिक्षा विभाग की हैप्पीनेस मेंटर श्रीमती आशा गाबा ने कहा कि केवल भौतिक आवश्यकताओं को हम पहचान पाते हैं और उसके लिए ही अपना तन मन धन लगाते हैं। आहार आवास और कपड़ों को ही हमने आवश्यकताओं के रूप में पहचाना हुआ है जबकि विश्वास सम्मान सुख इत्यादि भी हमारी आवश्यकताएं हैं। श्रवण कुमार शुक्ल ने जब यह कहा कि इसका मतलब हमारी अव्स्श्यक्ताएं दो तरह की हैं एक भौतिक दूसरी भावात्मक तो दिल्ली हैप्पीनेस कमिटी के सदस्य श्री अनिल कुमार सिंह ने कहा की बिलकुल दो तरह की हमारी आवश्यकताएं हैं और दोनों पूरी होने पर ही हमें संतुष्टि मिलती है।

ये भी पढ़े :  बाबा राम देव पर F.I.R. दर्ज ।


पूर्व माध्यमिक विद्यालय मीठाबेल ब्रह्मपुर में सहायक अध्यापिका श्रीमती मृदुला वैश्य ने कहा कि लॉकडाउन में हमें संबंधों में जीने का अवसर मिला तो पता चला कि भावात्मक आवश्यकताओं का पूरा होना कितना आवश्यक है। इसमें सभी की पूरी समझ होगी तभी तालमेल पूर्वक जीना बनेगा।
अपने दैनिक जीवन में हम सामान की ज़रूरतों के लिए ज़्यादा समय देते हैं या मन की ज़रूरतों के लिए? इसा विन्दु पर सभी ने अपने विचार रखते हुए कहा कि हम शरीर की जरूरतें पूरी होने के लिए ही ज्यादे समय देते हैं इसीलिये भौतिक सुविधाओं के क्षेत्र में हमने काफी प्रगति भी कर ली है जबकि भावात्मक क्षेत्र में हम अभी भी अधूरेपन के साथ जी रहे हैं।
इस चर्चा के कुछ निष्कर्ष इस प्रकार रहे :-
• “सुख” मन की आवश्यकता है जबकि “सुविधा” शरीर की आवश्यकता है।
• दोनों ही प्रकार के आवश्यकताओं के पूर्ति जरूरी है।
• “सुख” की पूर्ति “सुविधा” से नहीं हो सकती है।
• “सुविधा” की पूर्ति “सुख” से नहीं हो सकती है।
• सुविधाएं हमेशा सुख नहीं दे सकती हैं।
अगर देखें कि गलती कहाँ हो रही है :
• सुख और सुविधा में अंतर स्पष्ट नहीं है।
• ऐसा “मान” लिया है कि ज्यादा सुविधा से ज्यादा सुखी हो जायेंगे।
• इसलिए सुविधा को लक्ष्य “मान” लिया है।
• इसी के लिए ज़िन्दगी लगा दी है।
कार्यक्रम में अतिथियों का परिचय, धन्यवाद ज्ञापन और संचालन अभ्युदय संस्था के सचिव श्री उपेन्द्र प्रसाद द्विवेदी ने किया। यह चौपाल अपने प्रयोजन को प्राप्त करने के लिए कदम दर कदम आगे की और गतिमान है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...
%d bloggers like this: