- Advertisement -
n
n
Tuesday, May 26, 2020

कोरोनावायरस पर बार-बार पूछे जा रहे हैं ये 15 सवाल, एक्सपर्ट से जानें जवाब

Views
Gorakhpur Times | गोरखपुर टाइम्स

भारत में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. मौतें 100 का आंकड़ा पार कर चुकी हैं वहीं 4067 लोग इसके संक्रमण के शिकार हैं. वहीं ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 232 है. इस बीच कोरोना वायरस से जुड़े बहुत से सवाल लोगों के दिमाग में उठ रहे हैं. इस बारे में हमने बात की बीएलके अस्पताल, द‍िल्‍ली में निदेशक और एचओडी (चेस्ट एंड रेस्पिरेटरी डिजीज) डॉ. संदीप नैयर से. चलि‍ए जानते हैं ऐसे ही 15 सवालों के जवाब जो इस समय लोग सबसे ज्यादा पूछ रहे हैं.

1. नोवल कोरोना वायरस से कैसे बचें? 

कोरोना वायरस से बचाव के लिए सामाजिक दूरी का पालन करें.

NOTE:  गोरखपुर टाइम्स का एप्प जरुर डाउनलोड करें  और बने रहे ख़बरों के साथ << Click

Subscribe Gorakhpur Times "YOUTUBE" channel !

The Photo Bank | अच्छे फोटो के मिलते है पैसे, देर किस बात की आज ही DOWNLOAD करें और दिखाए अपना हुनर!

 

– आपस में कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाकर रहें. 

– अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोते रहें.

– छींकत या खांसते वक्त मुंह पर ट‍िशू या रुमाल रखें. 

– अगर आप छींकने के लिए ट‍िशू का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसे बंद मुंह वाले डस्टबिन में डालें.

– सामाजिक आयोजनों का हिस्सा न बनें.

– अगर आप ऐसी जगह हैं जहां साबुन और पानी नहीं है, तो आप सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं. 

– सैन‍िटाइजर का इस्तेमाल करें जो कमस्कम 60 फीसदी एल्कोहॉल वाला हो. 

– हाथ को चेहरे पर न ले जाएं. आंख, नाक, मुंह को बार-बार न छुएं.

2. नोवल कोरोना वायरस का टेस्ट किसे कराना चाहिए? 

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा कोरोनावायरस पर दी जा रही जानकारी के अनुसार हर किसी को कोविड-19 का टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है. क्यों‍कि मुख्य रूप से यह उन्हीं लोगों में पाया जा रहा है जो कोव‍िड – 19 से प्रभाव‍ित देशों की यात्रा करके आए हों या किसी ऐसे ही व्यक्त‍ि के संपर्क में आए हों.

3. किन लोगों को जरूर कराना चाहिए टेस्ट? 

– जिन लोगों ने हाल ही में व‍िदेश यात्रा की हो. 
– जो किसी कोरोनावायरस संक्रमित के संपर्क में आए हों. 
– जो किसी कोरोनावायरस संक्रमित के साथ एक ही घर में रहे हों.
– जो स्वास्थ्य कर्मी हैं.
– अस्पतालों में भर्ती SARI, ILI के मरीज. 

– वह स्वास्थ्य कर्मी जिन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा प्रमाणि‍त सुरक्षा मानकों के बिना मरीज की जांच की हो.
– ज‍िनमें कोरोनावायर के लक्षण जैसे सूखी खांसी (Dry Cough) के साथ गले में दर्द, सांस लेने में तकलीफ (Shortness of Breath), बुखार, थकान और शरीर में दर्द हों. 
– विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस के लक्षणों पर जानकारी देते हुए यह भी बताया है कि बहुत कम लोगों में दस्त, उल्टी और नाक के बहने जैसे लक्षण नजर आए हैं.

ये भी पढ़े :  नीति आयोग के एक अधिकारी कोरोना पॉजिटिव, पूरा ऑफिस सील

4. मास्क किसे पहनना चाह‍िए? 

– मास्क तब पहनें जब आपको कोव‍िड 19 के लक्षण नजर आएं. 
– खांसी, जुकाम और बुखार जैसे लक्षण नजर आने पर मास्क पहनें और खुद को पृथक कर लें.
– अगर आप कोव‍िड 19 मरीज की देखभाल कर रहें हैं तो आपको मास्क पहनना चाह‍िए. 

5. साबुन का इस्तेमाल करना ठीक है या सैनेटाइजर?  

साबुन और पानी से हाथों को 20 सैकेंड तक धोना सबसे

अच्छा तरीका माना जाता है. हाथों की हथेलियों, अंगुलियों और उनके बीच की जगह, अंगूठे और कलाई तक अच्छी तरह साफ करना चाहिए. हैंड सैनिटाइज़र उस स्थ‍ित‍ि में इस्तेमाल करें जब आपके पास साबुन और पानी उलब्ध न हो.

6. पड़ोस में कोरोना का मरीज मिलने पर क्या करना चाहि‍ए?

अगर आपके पड़ोस में कोई कोरोना का मरीज मिला है तो भी घबराएं नहीं. इस बात पर गौर करें कि आप उससे मिले तो नहीं थे या किसी तरह उसके संपर्क में तो नहीं आए थे. आपको प्रशासन और डॉक्टर जो भी सलाह देते हैं उनका पालन करें. घर में ही रहें और कोरोना मरीज व उनके परिवार से दूरी बनाकर रखें.

7. सेल्फ आइसोलेशन में मुझे क्या करना चाहिए ? 

ऐसा कोई भी व्यक्त‍ि जो किसी किसी संदिग्ध के संपर्क में आया हो उसे खुद को सेल्फ आइसोलेशन में कर लेना चाह‍िए. कम से कम 14 दिनों तक सेल्फ आइसोलेशन में रहें, क्योंकि इतने दिनों में लक्षण दिखने लग जाते हैं. जिन लोगों ने हाल ही में व‍िदेश यात्रा की हो या जो किसी कोरोनावायरस संक्रमित के संपर्क में आए हों या फ‍िर जो किसी कोरोनावायरस संक्रमित के साथ एक ही घर में रहे हों, उन्हें सेल्फ आइसोलेशन में जाना चाहिए.

9. क्या कोरोना का संक्रमण हवा में फैलता है? 

दरअसल, यह एक हेवी वायरस है, जो हवा में ट्रेवल नहीं कर सकता. कोरोना वायरस संक्रमण पर शुरुआत से मिल रही जानकारी के अनुसार यह आमतौर पर हवा से नहीं फैलता. कोरोनावायरस किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसने और छींकने से निकले ड्रॉपलेट्स से फैलता है. आमतौर पर कोरोना वायरस का संक्रमण ड्रॉपलेट्स से फैलता है. हालांकि कुछ रिसर्च में कोरोनावायरस के मरीज के कमरे में की हवा में कोरोना वायरस को पाया गया है.

नहीं, गर्म पानी से नहाने से आप COVID-19 से बचाव नहीं कर सकते. आपके शरीर का सामान्य तापमान लगभग 36.5 ° C से 37 ° C तक रहता है. दरअसल, बेहद गर्म पानी से नहाना हानिकारक हो सकता है, क्योंकि यह आपको जला सकता है. COVID-19 के खिलाफ खुद को बचाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप बार-बार अपने हाथों की सफाई करें. ऐसा करने से आप अपने हाथों पर लगने वाले वायरस को खत्म कर सकते हैं और संक्रमण से बच सकते हैं. अपने हाथों से आंखों, मुंह और नाक को न छुएं.

ये भी पढ़े :  प्रधानमंत्री मोदी की मदद का अमेरिका ने माना एहसान,पर यहाँ तो लोग प्रधानमंत्री को ही बोल रहे बुरा भला

11. क्या एंटीबायोटिक्स नए कोरोनोवायरस को रोकने और इलाज में प्रभावी हैं? 

नहीं, एंटीबायोटिक्स केवल वायरस के खिलाफ काम नहीं करते हैं. नया कोरोनावायरस (2019-nCoV) एक वायरस है और इसलिए, एंटीबायोटिक्स का उपयोग रोकथाम या उपचार के साधन के रूप में नहीं किया जाना चाहिए. हालांकि, अगर आपको 2019-nCoV के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है, तो आपको एंटीबायोटिक्स प्राप्त हो सकते हैं. लेकिन यह पूरी तरह से डॉक्टर की समझ पर न‍िर्भर है कि वह आपको क्या देते हैं..

12.  क्या लहसुन खाने से नए कोरोनावायरस से संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है? 

लहसुन एक स्वस्थ खाद्य पदार्थ है, जिसमें रोगाणुरोधी गुण हो सकते हैं. लेकिन यह कोरोनावायरस से बचाव में कारगर है यह कहना मुश्किल है. हालांकि, ऐसे कोई सबूत नहीं है कि लहसुन खाने से लोगों को नए कोरोनोवायरस से बचाया गया है.

13. क्या हर किसी को क्लोरोक्वीन या हाइड्रॉक्सोक्लोरोक्वीन जैसी एंटीमलेरियल यानी मलेरिया-रोधी दवाएँ लेनी पड़ती है?

नहीं, यह सिर्फ COVID रोगियों से निपटने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए है. उन्हें HCQS प्रोफिलैक्सिस लेने की सिफारिश की जाती है.

14. क्या आम विक्रेताओं से खरीदे गए नॉन वेज फूड या सब्जियों को खाना सेफ है?

घबराएं नहीं. नॉन वेज आइटम का सेवन करना सुरक्षित है. यहां तक कि सब्जियां बाहर से भी खरीदी जा सकती हैं. बस उन्हें अच्छी तरह से धो लें (जो हम वैसे भी करते हैं).

15. क्या सभी को N95 या सर्जिकल मास्क पहनना है? 

ये मास्क केवल हेल्थकेयर वर्कर्स के बनाए गए थे. आम जनता को घर में बने कपड़े के मुखौटे या रूमाल से अपना चेहरा ढकना चाहिए. अनावश्यक रूप से अत्यधिक उपयोग के साथ मूल्यवान मास्क बर्बाद न करें.

(डॉ. संदीप नैयर द‍िल्‍ली स्थित‍ बीएलके अस्पताल में चेस्ट एंड रेस्पिरेटरी डिजीज डिपार्टमेंट के निदेशक और एचओडी हैं.)

Advertisements
%d bloggers like this: