Saturday, August 8, 2020

अयोध्या के श्रीराम का ओरछा से क्या है नाता, जानें 600 साल पुराना इतिहास

पायलट अखिलेश कुमार जल्दी ही बनने वाले थे पिता, केरल विमान हादसे ने छीनी खुशियां….

केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पर शुक्रवार देर शाम को भयानक हादसा हुआ था। यहां पर दुबई से लौट रही फ्लाइट भारी बारिश...

ब्रेकिंग:-सीएम योगी ने चार सौ बेड के कोविड अस्पताल का किया उद्घाटन ,सपा ने कहा हमारे कार्यों का काट रहे हैं फीता

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने शनिवार को नोएडा के सेक्टर 39 में बने 400 बिस्तरों वाले कोविड-19 अस्पताल का उद्घाटन कर दिया...

चाचा ने जिसे अपनी सन्तान मानकर दी पनाह, उसी भतीजे ने कर डाला मर्डर…

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में एक भतीजे ने अपने बुजुर्ग चाचा की पीट-पीट कर हत्या कर दी। पुलिस ने हत्यारोपी भतीजे के...

ब्रेकिंग:-सीएम योगी ने चार सौ बेड के कोविड अस्पताल का किया उद्घाटन ,सपा ने कहा हमारे कार्यों का काट रहे हैं फीता

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने शनिवार को नोएडा के सेक्टर 39 में बने 400 बिस्तरों वाले कोविड-19 अस्पताल का उद्घाटन कर दिया...

उत्तर प्रदेश में नागिन का इंतकाम, दो दिन में 26 लोगों को डसा, एक की मौत…..

नागिन का ऐसा बदला 21 वीं सदी में शायद ही कहीं देखने को मिले. नागिन ने एक-दो नहीं बल्कि एक-एक करके 26...

ओरछा की धड़कन में भी राम विराजमान हैं. राम यहां धर्म से परे हैं. हिंदू हों या मुस्लिम, दोनों के ही वे आराध्य हैं. अयोध्या और ओरछा का करीब 600 वर्ष पुराना नाता है.

  • 16वीं शताब्दी में महारानी कुंवरि गणेश रामलला को लाईं थीं ओरछा
  • 21 दिन तप के बाद प्रभु राम तीन शर्तों पर ओरछा चलने को हुए राजी

अयोध्या नगरी सज रही है. तमाम अड़चनों के बाद 5 अगस्त को भूमिपूजन के साथ यहां प्रभु राम का विशाल मंदिर बनना शुरू हो जाएगा. अयोध्या के रामलला के साथ ही ओरछा के राजाराम भी हमेशा चर्चा में रहते हैं. अयोध्या से मध्य प्रदेश के ओरछा की दूरी तकरीबन साढ़े चार सौ किलोमीटर है, लेकिन इन दोनों ही जगहों के बीच गहरा नाता है. जिस तरह अयोध्या के रग-रग में राम हैं, ठीक उसी प्रकार ओरछा की धड़कन में भी राम विराजमान हैं. राम यहां धर्म से परे हैं. हिंदू हों या मुस्लिम, दोनों के ही वे आराध्य हैं. अयोध्या और ओरछा का करीब 600 वर्ष पुराना नाता है. कहा जाता है कि 16वीं शताब्दी में ओरछा के बुंदेला शासक मधुकरशाह की महारानी कुंवरि गणेश अयोध्या से रामलला को ओरछा ले आईं थीं.

पौराणिक कथाओं के अनुसार ओरछा के शासक मधुकरशाह कृष्ण भक्त थे, जबकि उनकी महारानी कुंवरि गणेश, राम उपासक. इसके चलते दोनों के बीच अक्सर विवाद भी होता था. एक बार मधुकर शाह ने रानी को वृंदावन जाने का प्रस्ताव द‍िया पर उन्होंने विनम्रतापूर्वक उसे अस्वीकार करते हुए अयोध्या जाने की जिद कर ली. तब राजा ने रानी पर व्यंग्य किया क‍ि अगर तुम्हारे राम सच में हैं तो उन्हें अयोध्या से ओरछा लाकर दिखाओ.

जब प्रभु राम ने ओरछा चलने के लिए रखीं 3 शर्तें

इस पर महारानी कुंवरि अयोध्या रवाना हो गईं. वहां 21 दिन उन्होंने तप किया. इसके बाद भी उनके आराध्य प्रभु राम प्रकट नहीं हुए तो उन्होंने सरयू नदी में छलांग लगा दी. कहा जाता है क‍ि महारानी की भक्ति देखकर भगवान राम नदी के जल में ही उनकी गोद में आ गए. तब महारानी ने राम से अयोध्या से ओरछा चलने का आग्रह किया तो उन्होंने तीन शर्तें रख दीं. पहली, मैं यहां से जाकर जिस जगह बैठ जाऊंगा, वहां से नहीं उठूंगा. दूसरी, ओरछा के राजा के रूप विराजित होने के बाद क‍िसी दूसरे की सत्ता नहीं रहेगी. तीसरी और आखिरी शर्त खुद को बाल रूप में पैदल एक विशेष पुष्य नक्षत्र में साधु संतों को साथ ले जाने की थी.

ये भी पढ़े :  UP Board हाईस्कूल , इंटर के छात्रों को आज से मिलेंगे एडमिट कार्ड , इन छात्रों को नहीं मिलेंगे एडमिट कार्ड
ये भी पढ़े :  पीएम मोदी की मां हीराबेन ने भी घर से देखा भूमि पूजन, हाथ जोड़े आईं नजर

महारानी ने ये तीनों शर्तें सहर्ष स्वीकार कर ली. इसके बाद ही रामराजा ओरछा आ गए. तब से भगवान राम यहां राजा के रूप में विराजमान हैं. राम के अयोध्या और ओरछा, दोनों ही जगहों पर रहने की बात कहता एक दोहा आज भी रामराजा मन्दिर में लिखा है कि रामराजा सरकार के दो निवास हैं खास दिवस ओरछा रहत हैं रैन अयोध्या वास.

ओरछा में प्रभु राम पर एक और बात प्रचलित है. कहा जाता है कि 16वीं सदी में जिस समय भारत में विदेशी आक्रांता मंदिर और मूर्तियों को तोड़ रहे थे, तब अयोध्या के संतों ने जन्मभूमि में विराजमान श्रीराम के विग्रह को जल समाधि देकर बालू में दबा दिया था. यही प्रतिमा रानी कुंवरि गणेश ओरछा लेकर आई थीं. साह‍ित्यकार राकेश अयाची कहते हैं क‍ि 16वीं सदी में ओरछा के शासक मधुकर शाह ही एकमात्र ऐसे पराक्रमी हिंदू राजा थे जो अकबर के दरबार में बगावत कर चुके थे.

बुंदेला शासक मधुकर शाह पर अयोध्या के संतों का भरोसा

इतिहास में यह बात दर्ज है क‍ि जब अकबर के दरबार में तिलक लगाकर आने पर पाबंदी लगा दी गई थी, तब मधुकर शाह ने भरे दरबार में बगावत कर दी थी. उनके तेवर के चलते अकबर को अपना फरमान वापस लेना पड़ा था. अयोध्या के संतों को यह भरोसा था कि मधुकर शाह की हिंदूवादी सोच के बीच राम जन्मभूमि का श्रीराम का यह विग्रह ओरछा में पूरी तरह सुरक्षित रहेगा. इसीलिए उनकी महारानी कुंवर गणेश अयोध्या पहुंचीं और संतों से मिलकर विग्रह को ओरछा ले आईं.

बुंदेला शासक मधुकर शाह की महारानी कुंवरि गणेश ने ही श्री राम को अयोध्या से ओरछा लाकर विराजित किया था, यह धार्मिक कथा ही नहीं है, बल्कि उन संभावनाओं को भी मान्यता देती है जिनमें कहा गया कि कहीं अयोध्या की राम जन्म भूमि की असली मूर्ति ओरछा के रामराजा मंदिर में विराजमान तो नहीं? अयोध्या के रामलला के साथ ही ओरछा के राजाराम भी सुर्खियों में आ जाते हैं.

ये भी पढ़े :  मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला नहीं के ख़िलाफ़। मस्जिद की जगह ही मस्जिद चाहिए।

हर बार मीडिया में ये सवाल सुर्खियों में रहता है कि अयोध्या जन्म भूमि की प्रतिमा ही ओरछा के रामराजा मंदिर में विराजमान है. इतिहासकार बताते हैं क‍ि रामराजा के लिए ओरछा के मंदिर का निर्माण कराया गया था, पर बाद में उन्हें सुरक्षा कारणों से मंदिर की बजाए रसोई में विराजमान किया गया. इसके पीछे तर्क ये है कि माना जाता था कि रजवाड़ों की महिलाएं जिस रसोई में रहती हैं, उससे अधिक सुरक्षा और कहीं नहीं हो सकती.

ये भी पढ़े :  अयोध्या में पीएम मोदी करेंगे भूमि पूजन, उधर अमेरिका के टाइम्स स्क्वॉयर पर मनेगा जश्न

ओरछा में राम हिन्दुओं के भी, मुसलमानों के भी

ओरछा में राम हिन्दुओं के भी हैं और मुसलमानों के भी. 40 सालों से ओरछा निवासी मुन्ना खान जो सिलाई का काम करते हैं. वह कहते हैं क‍ि रोज दरबार में सजदा करता हूं. हमारे तो सब यही हैं. राम उनके आराध्य हैं. ओरछा के ही नईम बेग भी राम को उतना ही मानते हैं जितना रहीम को. वे कहते हैं कि आपसी भाईचारा ऐसा ही रहे, जैसा ओरछा के रामराजा दरबार में है. यही तो ओरछा के राम की गंगा जमुनी तहजीब है. ओरछा के राम श्रद्धा चाहते हैं. इसलिए उन्होंने विशाल चतुर्भुज मन्दिर त्याग कर वात्सल्य भक्ति की प्रतिमूर्ति महारानी कुंवरि गणेश की रसोई में बैठना स्वीकार किया था. राम भक्तों के भावों में बसते हैं, भवनों की भव्यता में नहीं.

राजाराम को दिया जाता है गार्ड ऑफ ऑनर

ओरछा और अयोध्या का संबंध करीब 600 वर्ष पुराना है. कहते हैं कि संवत 1631 में चैत्र शुक्ल नवमी को जब भगवान राम ओरछा आए तो उन्होंने संत समाज को यह आश्वासन भी दिया था क‍ि उनकी राजधानी दोनों नगरों में रहेगी. तब यह बुन्देलखण्ड की ‘अयोध्या’ बन गया. ओरछा के रामराजा मंदिर की एक और खासियत है. एक राजा के रूप में विराजने की वजह से उन्हें चार बार की आरती में सशस्त्र सलामी गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाता है. ओरछा नगर के परिसर में यह गार्ड ऑफ ऑनर रामराजा के अलावा देश के किसी भी वीवीआईपी को नहीं दिया जाता, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक को नहीं

Hot Topics

समधी-समधन के बाद अब जेठ-देवरानी घर से भागे, जेठानी बोली- बच्चों को कैसे पालूंगी….

यहां समधी-समधन के प्यार में घर से भाग जाने के बाद अब एक शादीशुदा शख्स अपने ही छोटे भाई की पत्नी के साथ भाग...

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर के इस बेटे का आईएएस में हुआ चयन, कहा- सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं

जिंदगी में कुछ सार्थक करने के लिए सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं। शुरुआती...

Related Articles

अयोध्या राम मंदिर निर्माण को लेकर पुनः अस्सलील टिप्पडी..

8 अगस्त थाना तिवारीपुर मोहल्ला नरसिंहपुर निवासी ओसामा पुत्र उल्ला ने अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर हिंदू धर्म विरोधी और संविधान विरोधी पोस्ट...

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क का विवादित बयान हम अल्लाह के भरोसे, मस्जिद को कोई मिटा नहीं सकता

संभल लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क।

…जब चॉपर से उतरते ही बोले पीएम मोदी- योगी जी आज तो आप बेहद खुश हो रहे होंगे….

अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) का भूमि पूजन बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अगुवाई में संपन्न...
%d bloggers like this: