Wednesday, May 12, 2021

मां-बाप ने तब नहीं किया अंतिम संस्‍कार, चार दिनों बाद फिर से जिंदा हो उठी मृत घोषित बच्ची

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

चतरा। ईश्वर जिसकी रक्षा करता है उसे कोई मार नहीं सकता। यहां तक कि यदि पूरी दुनिया शत्रु बन जाए, तब भी उसका कुछ बिगाड़ नहीं सकता। इस बात को सत्य कर दिखाया गेंजना पंचायत के सोनपुरा गांव में घटी एक घटना ने। वहां पिछले गुरुवार की देर शाम सीटू यादव की पत्नी शकुंत़ला देवी ने अपनी दो बच्चियों सोनी कुमारी (डेढ़ वर्ष) और गोली कुमारी (तीन वर्ष) को कुएं में डाल दिया था।

ये भी पढ़े :  शादी वाले दिन प्रेमिका के लिए मंडप से भागा दूल्हा, तो दुल्हन ने समारोह में आए मेहमान से रचाई शादी

गांव वालों ने तत्परता दिखाते हुए दोनों बच्चियों को कुएं से निकाल लिया और पड़ोसी गांव पांडेयपुरा के एक चिकित्सक के पास ले गए। चिकित्सक ने छोटी बच्ची सोनी कुमारी को मृत घोषित किया और गोली कुमारी की स्थिति चिंताजनक बताई। बच्ची के परिजनों को चिकित्सक की बातों पर भरोसा नहीं हुआ और वह दोनों बच्चियों को सीमावर्ती बिहार के गया जिले के शेरघाटी स्थित सरकारी अस्पताल ले गए।

वहां चिकित्सक ने इलाज से इन्कार कर दिया तो परिजन दोनों बच्चियों को लेकर गया पहुंचे, जहां अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कालेज अस्पताल में चिकित्सक ने दोनों को कोमा में मानकर इलाज शुरू किया और कहा-अब सब ऊपर वाले के हाथ में है। यहां चार दिन तक आइसीयू में रखकर गहन चिकित्सा के बाद बच्ची को होश आ गया और वह जी उठी। परिवार वाले खुशी से चहक उठे।

ये भी पढ़े :  पटना से 22 खोपड़ी व पैर की 26 हड्डी लेकर नेपाल जा रहा तस्कर गिरफ्तार

इस घटना की सभी जगह चर्चा हो रही है। बच्ची के पिता ने भगवान का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि दिल मान नहीं रहा था कि मेरी बच्ची दुनिया छोड़ सकती है। इसलिए एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल लेकर दौड़ता रहा। स्वजनों ने यह भी कहा कि आज अगर बड़े अस्पताल नहीं जाते तो बच्ची की जान नहीं बचती। यह बोलते हुए सभी लोग फफक कर रो पड़े।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

7वीं की छात्रा से एक साल तक रेप करता रहा ट्यूशन टीचर, प्रेग्नेंट हुई तो दवा खिलाकर करवा दिया अबॉर्शन

सहरसा. बिहार में एक प्राइवेट टीचर की काली करतूत सामने आई है. मामला सहरसा से जुड़ा है,...

बिहार: भागलपुर में भाजपा नेता के बेटे ने दुकान में सामान लेने आई नाबालिग लड़की से किया दुष्कर्म

बिहार के भागलपुर में भाजपा नेता के बेटे ने नाबालिग लड़की को बनाया हवस का शिकार। घटना...

बिहार : भाई ने की हैवानियत, 8 साल की मासूम बहन से रेप के बाद किया मर्डर

8 साल की बच्ची। मौसी की बेटी। रिश्ते में बहन। तीन-तीन कारण थे बख्श देने के। लेकिन,...
%d bloggers like this: