Sunday, September 19, 2021

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी।

अंग्रेजी शासन के विरूद्ध 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अग्रिम भूमिका निभा कर अपने प्राणों की आहुति देने वाली वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई जी की जयंती पर कोटि-कोटि नमन।

लक्ष्मी बाई का जन्म 19 नवंबर, 1835, काशी में हुआ था और उनकी म्रत्यु 17 जून, 1858 को, कोठा-की-सेराई, ग्वालियर के पास हुई थी. पेशवा शासक बाजी राव द्वितीय के घर में जन्मीं लक्ष्मी बाई की एक असामान्य ब्राह्मण लड़की की तरह परवरिश हुई. पेशवा के दरबार में लड़कों के साथ बढ़ते हुए, उन्हें मार्शल आर्ट से प्रशिक्षित किया गया और तलवार चलाने और घुड़सवारी में पारंगत हुईं. उनका विवाह झाँसी के महाराजा गंगाधर राव (Gangadhar Rao) से हुआ. लेकिन किसी उत्तराधिकारी को जन्म दिए बिना ही वो विधवा हो गईं. हिंदू परंपरा के अनुसार, महाराजा ने अपनी मृत्यु से ठीक पहले एक लड़के को अपने उत्तराधिकारी के रूप में अपनाया. भारत के ब्रिटिश गवर्नर-जनरल लॉर्ड डलहौज़ी ने गोद (दत्तक) सिद्धांत के अनुसार गोद लिए हुए उत्तराधिकारी और झाँसी को मान्यता देने से इनकार कर दिया. ईस्ट इंडिया कंपनी का एक एजेंट प्रशासनिक मामलों की देखभाल के लिए छोटे राज्य में तैनात था.

ये भी पढ़े :  बाबा रामदेव बोले – चीन का पॉलिटकल-फाइनेन्शियल बहिष्कार करे दुनिया, PM Modi करें नेतृत्व...
ये भी पढ़े :  बाबा रामदेव बोले – चीन का पॉलिटकल-फाइनेन्शियल बहिष्कार करे दुनिया, PM Modi करें नेतृत्व...

22 साल की रानी ने झांसी को अंग्रेजों को सौंपने से मना कर दिया. साल 1857 में विद्रोह की शुरुआत के कुछ समय बाद झांसी में लक्ष्मी बाई के शासन की घोषणा की गई, और उन्होंने अपने नाबालिग उत्तराधिकारी की ओर से झांसी पर शासन किया. अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह में शामिल होने के बाद, उसने तेजी से अपने सैनिकों को संगठित किया और बुंदेलखंड क्षेत्र में विद्रोहियों का प्रभार संभाला. पड़ोसी क्षेत्रों ने उनका समर्थन किया और उनकी ओर से विद्रोहियों से लड़े.

जनरल ह्यूज रोज (Gen. Hugh Rose) के तहत, ईस्ट इंडिया कंपनी की सेनाओं ने जनवरी 1858 तक बुंदेलखंड में अपनी जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी थी. महू से आगे बढ़ते हुए, रोज ने फरवरी में सौगोर (अब सागर) पर कब्जा कर लिया और फिर मार्च में झांसी की ओर बढ़ गए. कंपनी की सेनाओं ने झाँसी के किले को घेर लिया और भयंकर युद्ध छिड़ गया. आक्रमणकारी ताकतों को कड़ा प्रतिरोध देते हुए, लक्ष्मी बाई ने अपने सैनिकों के मरने के बाद भी आत्मसमर्पण नहीं किया. लक्ष्मी बाई महल के गार्ड की एक छोटी सी ताकत के साथ किले से भागने में कामयाब रही और पूर्व की ओर चली गई, जहां अन्य विद्रोही उनके साथ हो गए.

ये भी पढ़े :  बिहार में बज गया चुनावी बिगुल,विधानसभा चुनाव की तिथियां घोषित......

तात्या टोपे और लक्ष्मी बाई ने ग्वालियर शहर के किले पर एक सफल हमला किया. खजाना और शस्त्रागार जब्त कर लिया गया और नाना साहिब को प्रमुख नेता, पेशवा (शासक) के रूप में घोषित किया गया था. ग्वालियर जीतने के बाद लक्ष्मी बाई ने रोज की अगुवाई में ब्रिटिश पलटवार का सामना करने के लिए पूर्व में मोरार की ओर प्रस्थान किया. एक पुरुष के रूप में तैयार होकर उन्होंने अंग्रेजों से भयंकर लड़ाई लड़ी और आखिर में युद्ध में मारी गईं.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

सिद्धार्थ पांडेय बने भाजपा मीडिया सम्‍पर्क विभाग के क्षेत्रीय संयोजक…

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में जुटी भाजपा संगठन को नए स्‍तर से मजबूत बनाने में...

भाजपा युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय कार्यकारिणी की हुई घोषणा,सूरज राय बने क्षेत्रीय उपाध्यक्ष

Gorakhpur: आज भारतीय जनता युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र की क्षेत्रीय कार्यकारिणी की घोषणा हुई।।युवा मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष पुरुषार्थ सिंह ने आज...

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...
%d bloggers like this: