Sunday, February 28, 2021

अब भेड़-बकरियों का बनेगा आधार कार्ड, हर एक का यूनिक नंबर, बीमा भी होगा

सर्वोदय महाविद्यालय कौड़ीराम में छात्रों को दी गई राष्ट्र सेवा की शिक्षा

लक्ष्य के प्रति केंद्रित रहते हुए करें सम्पूर्ण चुनौतियों का सामना- सत्य चरण लक्क़ी स.कि.पी.जी.कालेज में रासेयो शिविर का...

पत्नी पंखुड़ी पाठक पर विवादित टिप्पणी से आहत पूर्व सपा प्रवक्ता अनिल यादव ने छोड़ी समाजवादी पार्टी

कांग्रेस नेता पंखुड़ी पाठक के पति व समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल यादव ने शनिवार को इस्तीफा दे दिया है....

Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल समेत इन पांच राज्यों की चुनावी तारीखों का ऐलान हुआ, 2 मई को आएंगे नतीजे।

Elections 2021: निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर...

RPM व DDU से पढ़ी पूजा पांडेय का हुआ कंपनी सेक्रेटरी(सीएस) पद पर चयन,लगा बधाईयों का तांता

पूजा पांडेय का हुआ कंपनी सेक्रेटरी(सीएस) पद पर चयन कौडीराम, गोरखपुर।भारतीय कंपनी सचिव संस्थान द्वारा आयोजित कंपनी सेक्रेटरी(सीएस) परीक्षा...

भारत बंद के दौरान कल पूरे देश में 8 करोड़ व्यापारी करेंगे हड़ताल, बाजार बंद के साथ होगा चक्का जाम।

Bharat Bandh देश भर में कल भारत बंद का ऐलान किया गया है। देशभर के 8 करोड़ से अधिक व्यापारी 26 फरवरी...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

लखनऊ. भारत में अब इंसान ही नहीं भेड़-बकरियों का भी आधार कार्ड बनेगा. इनका एक 10 अंकों का आधार नंबर होगा जो हर भेड़ और बकरी को अलग पहचान देगा. सभी भेड़-बकरी अपना आधार नंबर का एक छल्ला कान में पहनेंगी. दरअसल एनएडीसीपी यानी नेशनल एनिमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम में अब भेड़-बकरी को भी शामिल कर लिया गया है. और पशुपालन विभाग फरवरी महीने से ही भेड़-बकरियों की ईयर टैगिंग भी शुरू कर देगा.

ये भी पढ़े :  महाराजगंज में इस जगह अभी-अभी मिला अज्ञात युवक का शव, मौके पर पहुंची पुलिस...

गौरतलब है कि यूपी के मथुरा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 सितंबर साल 2019 में एनएडीसीपी प्रोग्राम लॉन्च किया था. पहले चरण में सरकार ने सिर्फ गोवंश और महीष वंशीय को ही प्रोग्राम में शामिल किया था जिसके बाद अब भेड़-बकरियों को भी इसमें शामिल कर लिया गया है.

मालूम हो कि गोवंश और महीष वंशीय पशुओं को आधार नंबर देने की मुहिम आखिरी चरण में है. ऐसे में इसमें भेड़-बकरी को भी शामिल कर पशुपालकों को बड़ी राहत दी गई है. अब एक-एक भेड़ और बकरी का रिकॉर्ड एनडीसीपी के पोर्टल पर दर्ज किया जाएगा. भेड़-बकरी की उम्र और पालने वाले का नाम और पता भी ऑनलाइन रहेगा. साथ ही भेड़-बकरियों को बीमा की सुविधा भी मिल सकेगी.

ये भी पढ़े :  नोएडा से गांव आए संक्रमित युवक ने अपने परिवार के पांच लोगों को दिया कोरोना, सब अस्पताल में भर्ती...

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...

राम मंदिर के लिए चंदा, कांग्रेस नेता बोले- विचारधारा से जुड़े मुद्दे पर चर्चा जरूरी

कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई की ओर से राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण के लिए राजस्थान में...

लोकल में पकड़े जाने के डर से यूपी के युवकों को सेना भर्ती के जाल में फंसा रहे दलाल

सेना में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार भर्ती प्रक्रिया में शामिल कराने के लिए रेलवे स्टेशन से लेकर...
%d bloggers like this: