Wednesday, April 14, 2021

big breaking: यूपी पंचायत चुनाव पर हाईकोर्ट का फैसला, 2015 के आधार पर होगा आरक्षण

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव          

गोरखपुर टाइम्स ब्रेकिंग :-    अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव               अभी-अभी मेरी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मैंने...

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट          गोरखपुर : महापौर सीताराम जायसवाल ने...

गोरखपुर :- आरपीएम के छात्र प्रवीण ने बढ़ाया ज़िले का मान,SDM बनकर करेंगें प्रदेश की सेवा

प्रदेश की सर्वश्रेष्ठ परीक्षाओं में से एक उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग 2020 की परीक्षा का परिणाम लोक सेवा आयोग के द्वारा...

नाईट कर्फ्यू का पालन करवाने के लिए सीओ गोरखनाथ मुस्तैद,अनावश्यक निकलने पर होगी कार्यवाही….

कोरोना का प्रकोप जिले में बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है।। इसको देखते हुए आज से नाईट कर्फ्यू की शुरुआत हो गयी...

दिनेश पांडेय एक बार फ़िर से सिधुवापार के प्रत्याशी के रूप में हुए सक्रिय

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की शुरुआत होने के साथ ही जगह जगह प्रत्याशियों के द्वारा प्रचार प्रसार किया...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

यूपी पंचायत चुनावों में सीटों पर आरक्षण व्यवस्था को लेकर हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अपना फैसला सुना दिया है। हाईकोर्ट ने कहा कि वर्ष 2015 को मूल वर्ष मानते हुए सीटों पर आरक्षण लागू किया जाए। इसके पूर्व राज्य सरकार ने स्वयं कहा कि वह वर्ष 2015 को मूल वर्ष मानते हुए आरक्षण व्यवस्था लागू करने के लिए तैयार है। इस पर न्यायमूर्ति रितुराज अवस्थी व न्यायमूर्ति मनीष माथुर की खंडपीठ ने 25 मई तक त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव संपन्न कराने के आदेश पारित किए हैं।

ये भी पढ़े :  अजोबोगरीब नुस्खे: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए पी रही है स्पर्म ड्रिंक, कोरोना से बचाव का दावा....

आपको बता दें कि हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में 11 फरवरी 2021 के शासनादेश को चुनौती दी गई थी। याचिका में कहा गया है कि पंचायत चुनाव में आरक्षण लागू किये जाने सम्बंधी नियमावली के नियम 4 के तहत जिला पंचायत, सेत्र पंचायत व ग्राम पंचायत की सीटों पर आरक्षण लागू किया जाता है। कहा गया कि आरक्षण लागू किये जाने के सम्बंध में वर्ष 1995 को मूल वर्ष मानते हुए 1995, 2000, 2005 व 2010 के चुनाव सम्पन्न कराए गए।
याचिका में आगे कहा गया कि 16 सितम्बर 2015 को एक शासनादेश जारी करते हुए वर्ष 1995 के बजाय वर्ष 2015 को मूल वर्ष मानते हुए आरक्षण लागू किये जाने को कहा गया। उक्त शासनादेश में ही कहा गया कि वर्ष 2001 व 2011 के जनगणना के अनुसार अब बड़ी मात्रा में डेमोग्राफिक बदलाव हो चुका है लिहाजा वर्ष 1995 को मूल वर्ष मानकर आरक्षण लागू किय अजाना उचित नहीं होगा। कहा गया कि 16 सितम्बर 2015 के उक्त शासनादेश को नजरंदाज करते हुए, 11 फरवरी 2021 का शासनादेश लागू कर दिया गया। जिसमें वर्ष 1995 को ही मूल वर्ष माना गया है। यह भी कहा गया कि वर्ष 2015 के पंचायत चुनाव भी 16 सितम्बर 2015 के शासनादेश के ही अनुसार सम्पन्न हुए थे।

ये भी पढ़े :  खतरे की आहटः विवादों से चिंतित भाजपा कोर कमेटियों को करेगी मजबूत

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी बोर्ड 2021: हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं आठ मई से, स्कीम जारी

लखनऊ. यूपी बोर्ड 2021 के हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं अब 24 अप्रैल की जगह आठ...

बुजुर्ग माता-पिता की सेवा नहीं की तो संपत्ति से होंगे बेदखल

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब बुजुर्ग माता-पिता के हित में नया कानून लाने की तैयारी में है। योगी सरकार अब...

यूपी पंचायत चुनाव 2021: भाजपा ने जारी की 417 उम्मीदवारों की लिस्ट

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शुक्रवार को जिला पंचायत सदस्य (Jila Panchayat member election) के चुनाव के लिए 417 उम्मीदवारों का...
%d bloggers like this: