Monday, January 18, 2021

BJP-JDU के रिश्तों में आई खटास, दो बड़े फैसलों से नीतीश ने कराया मजबूती का अहसास

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिले गोरखपुर के युवा,NH29 राज मार्ग जल्द होगा पूरा

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दिया NH29 के सम्बन्ध में आस्वासन गोरखपुर । गोरखपुर के सामाजिक...

लालपुर में समाजसेवी स्व.बालेश्वर राय की पुण्यतिथि पर सैकड़ों जरूरतमंदों को बांटे गए कम्बल

लालपुर में समाजसेवी बालेश्वर की पुण्यतिथि मनाई गयी बांसगांव। आज समाजसेवी पूर्व प्रधान स्व. बालेश्वर राय की 11 वीं...

भव्य राममंदिर निर्माण हेतु महापौर सीताराम जयसवाल ने दिया एक लाख ग्यारह हजार रुपए की समर्पण राशि….

श्रीरामजन्मभूमि निधि समर्पण अभियान के तहत आज गोरखपुर के महापौर सीताराम जयसवाल ने एक लाख ग्यारह हजार रुपए व व्यवसायी भीष्म चौधरी...

20 लाख रुपए का चरस लिए तस्कर को पुलिस और एसएसबी की संयुक्त टीम ने किया गिरफ्तार।

Maharajganj: जनपद महराजगंज सोनौली कोतवाली क्षेत्र के भारत-नेपाल सीमा के सरहदी गांव डंडा हेड के पास पुलिस और एसएसबी की संयुक्त टीम...

बांसगांव विधायक ने सैकड़ों को बाँटे कम्बल,ट्राईसाइकिल पाकर दिव्यांगों के खिले चेहरे

बांसगांव के युवा विधायक डॉ विमलेश पासवान के द्वारा आज ट्राईसाइकिल एवं कम्बल वितरण किया गया यह कार्यक्रम विकास खण्ड बांसगांव में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

बिहार में सरकार गठन के बाद से भाजपा-जदयू (BJP-JDU) के बीच तकरार में अब दरार झलकने लगे हैं, लेकिन दोनों दल इससे फिलहाल इनकार करते हैं. मगर हालात कुछ और बयां कर रहे हैं. तथाकथित भाजपाई रणनीति से विधानसभा चुनाव के पहले से शुरू हुई लोजपा (LJP) संग तनातनी राजनीतिक दुश्मनी में बदल चुकी थी. पर, उसका प्रभाव अरुणाचल प्रकरण के बाद दिखने लगा है. रविवार को राजनीतिक दल के रूप में जदयू की ओर से अपने स्वतंत्र और मजबूत अस्तित्व को ध्यान में रखकर लिए गए फैसले इसकी एक बानगी है. जदयू ने अपना नया राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना और भाजपा के प्रति कड़ी नाराजगी भी व्यक्त की. दोनों एक-दूसरे से जुड़े हैं. यह संकेत भी है कि पार्टी ऐसे ही दमखम के साथ आगे बढ़ने वाली है और संख्या बल की वजह से ‘छोटे भाई’ जैसा संबोधन उसे अब पसंद नहीं.

जदयू कार्यकारिणी की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की निरपेक्ष अभिव्यक्ति, आरसीपी सिंह (RCP Singh) को जदयू की कमान, मीडिया में राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी के तल्ख बयान से साफ है कि सत्ता पक्ष के दो बड़े दल भाजपा और जदयू के संबंध अब पहले की तरह मधुर नहीं हैं. आरसीपी सिंह को जदयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी के साथ ही मित्र दलों के संबंधों को नए सिरे से परिभाषित कर दिया. हालांकि जदयू नेतृत्व परिवर्तन की वजह नीतीश कुमार बिहार में सुशासन के काम को और बेहतर ढंग से पूरा करना बता रहा है, लेकिन नीतीश कुमार के सीएम की कुर्सी छोड़ने की पेशकश के साथ जदयू ने भाजपा को साफ कर दिया है कि गठबंधन का कभी भी ‘बंधन’ टूट सकते है.

ये भी पढ़े :  दिल्‍ली: कोरोना टेस्‍ट की फीस हुई आधी, गृहमंत्री अमित शाह के फैसले के बाद दिल्‍ली सरकार देगी आदेश  
ये भी पढ़े :  हंसराज हंस के बाद अब मशहूर गायक दलेर मेहंदी बीजेपी में हुए शामिल....

संगठन विस्तार में अब कोई संकोच नहीं
‘लव जिहाद’ पर भाजपा से अलग जदयू की स्पष्ट राष्ट्रीय नीति और अरुणाचल के मलाल के साथ जदयू में नेतृत्व परिवर्तन के बाद यह तय हो गया कि दूसरे प्रदेशों में संगठन विस्तार में अब कोई संकोच नहीं रहेगा. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव आने वाला है. वहां की प्रदेश इकाई का लगातार दबाव है, किंतु आलाकमान की ओर से अभी तक साफ नहीं किया जा रहा था. माना जा रहा है कि कार्यकारिणी के फैसले के बाद जल्द ही पश्चिम बंगाल में चुनाव को लेकर भी स्पष्ट घोषणा हो सकती है. भाजपा के खिलाफ प्रत्याशी उतारने से भी गुरेज नहीं होगा. हालांकि, जदयू एमएलसी व पश्चिम बंगाल प्रभारी पहले ही कह चुके हैं कि 75 सीटों पर पार्टी की पूरी तैयारी है. समय और परिस्थितिवश यह संख्या बढ़ भी सकती है. वैसे अंतिम फैसला बंगाल के पार्टी नेताओं से बातचीत के बाद आलाकमान (नीतीश कुमार) लेंगे.

ये भी पढ़े :  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आपत्तिजनक पोस्ट करना मनचले युवक को पड़ा भारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार...

आरसीपी सिंह एक साथ कई मर्ज की दवा
आरसीपी सिंह एक साथ कई मर्ज की दवा
आरसीपी सिंह एक साथ जदयू के कई मर्ज की दवा हो सकते हैं. मंत्रिमंडल विस्तार के मुद्दे पर राजग के घटक दलों से समन्वय की बात हो या बिहार में गठबंधन की सरकार चलाते हुए कई बार पार्टी का पक्ष रखने की समस्या. आरसीपी खुलकर बोल सकते हैं. भाजपा के साथ समन्वय में लोचा पर जदयू के हक की बात कर सकते हैं. दूसरी सबसे बड़ी सहूलियत होगी कि बिहार से बाहर संगठन के विस्तार में नीतीश कुमार की प्रशासनिक व्यस्तता अब आड़े नहीं आएगी. जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष होते हुए भी नीतीश बिहार में ही इस तरह व्यस्त रहते थे कि संगठन के अन्य कार्यों के लिए फुर्सत नहीं निकाल पाते थे. (डिस्क्लेमरः ये लेखक के निजी विचार हैं.)

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में पंचायत चुनाव 2021 को लेकर तैयारियां जोरों पर है, कैसे होगा आरक्षण, क्या है सरकार की तैयारी? कब होंगे चुनाव।

उत्तरप्रदेश में पंचायत चुनाव 2021 को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं. फाइनल वोटर लिस्ट 22 तारीख को जारी कर दी जाएगी. इसके...

UP: बसपा काे झटका, महापाैर पत्नी के साथ साइकिल पर सवार हुए मायावती के करीबी रहे पूर्व विधायक

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि ‘समाजवादी पार्टी में लगातार बड़ी संख्या में लोग शामिल हो रहे हैं. आज...

एसपी के अगुवाई में पंचायत चुनाव की तैयारी तेज, विशेष मिशन का भी हुआ शुरुआत।

Maharajganj: आगामी पंचायत चुनाव के दृष्टिगत पुलिस अधीक्षक द्वारा “प्रतिदिन एक गाँव मिशन” का किया गया शुभारंभ Maharajganj: निकट...
%d bloggers like this: