Tuesday, August 3, 2021

Coronavirus: सन् 1918 में भी चीन की वजह से दुनिया में फैली थी महामारी, मारे गए थे 5 करोड़ लोग!

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना वायरस ने अब तक पूरी दुनिया में करीब 28,000 लोगों की जान ले ली है। लगभग हर देश आज इस महामारी से जूझ रहा है। सन् 1918 में स्‍पेनिश फ्लू या फ्लू आखिरी महामारी थी जिसमें करीब पांच करोड़ लोग मारे गए थे। आज भी चीन संदेह के घेरे में है और 102 साल पहले भी चीन शक के घेरे में था। इतिहासकारों का दावा है कि उस महामारी की वजह भी चीन ही था। वे मानते हैं कि एक सदी पहले चीनी मजूदरों की वजह से कई लोगों की जिंदगियां इस बीमारी की वजह से चली गई थीं। नेशनल जियोगाफिक की तरफ से आई एक रिपोर्ट में यह बात कई इतिहासकारों के हवाले से कही गई है।

एक तरफ युद्ध, एक तरफ महामारी

कई दशकों तक वैज्ञानिक‍ इस बात को लेकर संदेह करते रहे कि आखिर महामारी कहां से शुरू हुई थी। कई लोगों ने कहा कि यह फ्रांस से निकली थी, कुछ ने चीन तो कुछ ने अमेरिका और कुछ और देशों पर शक जताया। बीमारी की जगह के बारे में कोई सटीक जानकारी नहीं मिली और वैज्ञानिकों के पास उन स्थितियों के बारे में भी पूरी सूचना नहीं जिसकी वजह से बीमारी फैली। लेकिन उस समय ही उन्‍हें यह बात पता लग गई थी कि इस तरह की महामारी आने वाले समय में भी दुनिया को अपना निशाना बनाएगी। जिस समय फ्लू फैला उस समय दुनिया पहले वर्ल्‍ड वॉर से भी गुजर रही थी। यह युद्ध उसी वर्ष खत्‍म हो गया था

ये भी पढ़े :  स्टार हॉस्पिटल ने लेहड़ा मंदिर मे लगाए निशुल्क स्वास्थ्य शिविर...

चीनी मजदूरों पर हुआ सबको शक

प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान कनाडा में पूरी तरह से सील ट्रेनों में कुछ चीन मजदूर भेजे गए थे। पिछले कुछ दिनों में हुई रिसर्च में इस बात की तरफ ही इशारा मिला है। कनाडा की मेमोरियल यूनिवर्सिटी ऑफ न्‍यूफाउंडलेंड में इतिहासकार मार्क हंफ्रीज ने बताया कि नए रिकॉर्ड्स से इस बात की पुष्टि होती है कि युद्ध के दौरान 96,000 चीनी मजदूर ब्रिटेन और फ्रांस के साथ काम करने के लिए आए थे। ये मजदूर ही उस महामारी की वजह हो सकते हैं। हंफ्रीज ने वॉर इन हिस्‍ट्री इस टाइटल के साथ जनवरी के अंक में लिखा था कि फ्लू मरीजों से मिले वायरल सैंपल्‍स का इंतजार हो रहा है और उसके बात उनकी परिकल्‍पना को मान्‍यता मिल सकेगी। इस तरह के सुबूतो से जगह के बारे में सटीक जानकारी हो जाएगी।

ये भी पढ़े :  गलवान घाटी में शहीद हुए वीर सपूत सुनील कुमार के सपनो को पूरा करेंगे सांसद व अभिनेता मनोज तिवारी,लोगो से की अपील.....

चीन में मौतों का आंकड़ा था कम

सन् 1918 में फ्लू महामारी तीन दौर में दुनिया में फैली थी। इस महामारी का पहला दौर उस वर्ष में बसंत ऋतु के दौरान हुआ था। उस समय महामारी ने युवा और स्‍वस्‍थ लोगों की जान भी ले ली थी। पहले भी चीनी मजदूरो को इस बीमारी की वजह बताया जा चुका है। इतिहासकार क्रिस्‍टोफर लैंगफोर्ड के मुताबिक स्पेनिश फ्लू की वजह से दुनिया के बाकी देशों में रिकॉर्डतोड़ मौतें हो रही थीं तो चीन का आंकड़ा काफी कम था। हंफ्रीज को इस बात के प्रमाण भी मिले फ्लू से पहले उत्‍तरी चीन के के शांक्‍सी प्रांत में नवंबर 1917 में कि सांस से जुड़ी बीमारी देखी गई थी। बाद में चीनी हेल्‍थ अधिकारियो ने उसे स्‍पेनिश फ्लू के जैसा ही बताया था।

ये भी पढ़े :  छोटे भाई को दिखा बड़े से कर दी शादी, सास ने बहू का चारों बेटों से जबरन बनवाया अवैध संबंध।।

25,000 चीनी मजदूर पहुंचे थे कनाडा

हंफ्रीज को इस बात के मेडिकल रिकॉर्ड्स भी मिले कि 25,000 में से चीनी मजदूरों को यूरोप के रास्‍ते कनाडा भेजा गया था। मजदूर साल 1917 में कनाडा की तरफ जाना शुरू हुए थे और कई मजदूरों को फ्लू जैसी बीमारी की वजह से क्‍वारंटाइन में रखना पड़ गया था। स्‍पेनिश फ्लू अक्‍टूबर तक अपने चरम पर पहुंचा था मगरर साल 1920 तक इसने कई लोगों को अपना शिकार बनाकर रखा था।

ये भी पढ़े :  स्टार हॉस्पिटल ने लेहड़ा मंदिर मे लगाए निशुल्क स्वास्थ्य शिविर...

भारत में मारे गए थे 1.4 करोड़ लोग

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस में स्‍पेनिश फ्लू एक साथ फैला था। लेकिन तीनों ही देशों ने मीडिया को इसकी भनक तक नहीं लगने दी थी। इसलिए यह मत सोचिएगा कि इस फ्लू का नाम स्‍पेनिश फ्लू इसलिए पड़ा क्‍योंकि यह स्‍पेन से निकला था। मगर इस फ्लू के बारे में सबसे पहले स्‍पेन की मीडिया ने रिपोर्ट दी थी, इसलिए इसे स्‍पेनिश फ्लू कहा गया था। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के दादा की मौत भी इसी बीमारी में हुई थी। इस महामारी की वजह से भारत में करीब डेढ़ करोड़ लोगों की जान चली गई थी।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: