Monday, August 2, 2021

निजामुद्दीन मरकज में 160 मौलवियों में थे कोरोना के लक्षण, तब भी नहीं कराई मेडिकल जांच

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

निजामुद्दीन मरकज केस में एफआईआर दर्ज होने के बाद अब जांच में तेजी आने लगी है। परतें खुल रही हैं। दिल्ली पुलिस को पता चला है कि मरकज में करीब 160 मौलवी ऐसे थे, जिनमें कोरोनावायरस के सभी लक्षण दिखाई पड़ रहे थे। इसके बावजूद वे मरकज से बाहर नहीं निकले। न ही उन्होंने भीतर किसी डॉक्टर की मदद ली। इनमें अधिकतर विदेशी थे।

यह बात दिल्ली पुलिस और दिल्ली सरकार, दोनों से छिपाई गई। उस दौरान यह भनक कहीं न कहीं दूसरी सेंट्रल एजेंसियों को लग चुकी थी। यही वजह रही कि ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन ने विदेशियों के क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यलय (एफआरआरओ) को कई बार सर्कुलर भेजकर विदेश से आए लोगों की मेडिकल जांच कराने के लिए कहा था। बताया जा रहा है कि जानबूझकर लोगों की जांच नहीं कराई गई।

घबराहट-हड़कंप मचा लेकिन तब भी जांच न कराई

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के अनुसार, मार्च के पहले सप्ताह में जब मरकज की इमारत लोगों से खचाखच भरी थी, तो उनमें दो हजार से अधिक विदेशी भी शामिल थे। साथ ही इनमें वे भारतीय जमाती भी शामिल थे, जो 27 फरवरी से लेकर एक मार्च तक कुआलालंपुर, मलेशिया में रह कर आए थे। निजामुद्दीन मरकज में इस दौरान कुल मिलाकर छह हजार से अधिक लोग मौजूद रहे थे।

ये भी पढ़े :  नीति आयोग के एक अधिकारी कोरोना पॉजिटिव, पूरा ऑफिस सील

हालांकि इनमें से कुछ लोग बीच में छोड़ कर चले गए थे। पुलिस जांच में ये बात सामने आई है। उस वक्त मौलाना और दूसरे पदाधिकारियों से कहा गया था कि वे अपने सदस्यों की मेडिकल जांच करा लें। तब किसी ने इस पर गौर नहीं किया। पुलिस ने स्पेशल यूनिट से जब पता कराया तो मालूम हुआ कि वहां पर एक दो नहीं, बल्कि दर्जनों की संख्या में लोग कोरोना जैसे लक्षणों से ग्रसित थे।

ये भी पढ़े :  कुशीनगर की हाटा सीट से भाजपा विधायक पवन केडिया और एमएलसी देवेन्‍द्र प्रताप सिंह का गनर कोरोना पॉजिटिव....

जब वहां पर केंद्रीय एजेंसियों का आवागमन शुरू हुआ तो मौलाना का वह शक पुख्ता हो गया कि अब यहां कभी भी भांडा फूट सकता है। इसीलिए 15 से 19 मार्च के बीच यहां से कई ऐसे लोगों को बाहर निकाला गया, जो बुखार से तप रहे थे। इनमें से ज्यादातर लोग तेलंगाना पहुंचे थे।

देश के दूसरे हिस्सों में भी यहां से जमाती गए हैं। सबसे पहले तेलंगाना में जब एक साथ कई लोगों की मौत कोरोना से हुई, तो निजामुद्दीन स्थित मरकज में हड़कंप मच गया। इसके बाद भी किसी ने मेडिकल जांच की जहमत नहीं उठाई।

तब्लीगी जमात का अपराधः नकवी

आनन फानन में गृह मंत्रालय ने तेलंगाना में पाए गए कोरोना के पॉजिटिव मामलों की जानकारी दूसरे राज्यों के साथ साझा की। सभी राज्यों को बता दिया गया कि निजामुद्दीन स्थित मरकज से कितने जमाती कहां पर पहुंचे हैं। जमातियों की तलाश कर उन्हें क्वारंटीन में भेजा जाए।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बुधवार को बताया कि तब्लीगी जमात के लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचे हैं। इस वजह से वहां पर संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। 24 घंटे के दौरान ऐसे 386 मामले सामने आए हैं।

ये भी पढ़े :  एडीआर की रिपोर्ट में खुलासा, राजस्थान के 46 विधायकों के ख़िलाफ़ दर्ज हैं आपराधिक मामले....

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इस मामले में कहा, तब्लीगी जमात ने तालिबानी अपराध किया है। इस तरह की आपराधिक गतिविधियों के लिए उन्हें माफ नहीं किया जा सकता। जमात के इन लोगों ने तमाम दूसरे लोगों की जान खतरे में डाली है। ऐसे संगठनों और लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

एफआरआरओ की लापरवाही

विदेशियों में इंडोनेशिया 72, थाईलैंड 71, श्रीलंका 34, म्यांमार 33, कीर्गिस्तान 28, मलेशिया 20, नेपाल 19, बांग्लादेश 19 के अलावा फिजी, इंग्लैंड, कुवैत, सिंगापुर और अल्जीरिया आदि देशों के लोग भी मरकज में मौजूद थे। इन्हीं लोगों की तबीयत सबसे पहले बिगड़ी थी।

इनके साथ ही जो भारतीय मलेशिया से होकर आए थे, वे भी मरकज में शामिल थे। गृह मंत्रालय के मुताबिक, 21 मार्च तक हजरत निजामुद्दीन मरकज में 1,746 लोग ठहरे हुए थे। इनमें 216 विदेशी और 1530 भारतीय थे। ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन के सर्कुलर के बाद भी फॉरनर रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस ने मरकज में शामिल लोगों का मेडिकल नहीं कराया।

ये भी पढ़े :  VIDEO: कोरोना संकट के बीच दिखा ये नजारा, विधायक ने खुलेआम एएसआई के छुए पैर और जताया आभार।

अब 22 राज्यों में संक्रमण का खतरा बढ़ा है

यहाँ के संक्रमण का ख़तरा अब दिल्ली सहित 22 राज्यों को डरा रहा है। इनमें तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, असम, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, पुडुचेरी, कर्नाटक, अंडमान निकोबार, आंध्रप्रदेश, श्रीनगर, उड़ीसा, प.बंगाल, हिमाचल, राजस्थान, गुजरात, मेघालय, मणिपुर, बिहार, छत्तीसगढ़ और केरल शामिल है। मरकज से गए दो हजार से अधिक विदेशी जमाती देशभर में इधर-उधर घूम रहे हैं। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को इन्हें खोजने के लिए कहा है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: