- Advertisement -
n
n
Tuesday, May 26, 2020

COVID19: 2 महीने में 2 करोड़ 70 लाख मास्क, 50000 वेंटिलेटर की जरूरत

Views
Gorakhpur Times | गोरखपुर टाइम्स

केंद्र सरकार ने निजी सुरक्षा उपकरण और डायग्नॉस्टिक किट की मांग में बढ़ोतरी का अनुमान लगाया है.

भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. इस बीच COVID19 महामारी के खिलाफ जारी जंग में केंद्र सरकार ने निजी सुरक्षा उपकरण (PPE) और डायग्नॉस्टिक किट की मांग में बढ़ोतरी का अनुमान लगाया है. बताया गया है कि आने वाले 2 महीनों में करीब 2 करोड़ 70 लाख N-95 मास्क, 1 करोड़ 50 लाख PPE, 16 लाख डायग्नॉस्टिक किट और 50 हजार वेंटिलेटर की जरूरत पड़ेगी.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, इस बारे में अधिकारियों ने 3 अप्रैल को एक बैठक के दौरान उद्योग जगत के प्रतिनिधियों को अवगत कराया. इस बैठक की अध्यक्षता नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने की.

NOTE:  गोरखपुर टाइम्स का एप्प जरुर डाउनलोड करें  और बने रहे ख़बरों के साथ << Click

Subscribe Gorakhpur Times "YOUTUBE" channel !

The Photo Bank | अच्छे फोटो के मिलते है पैसे, देर किस बात की आज ही DOWNLOAD करें और दिखाए अपना हुनर!

 

एक अधिकारी ने बताया कि FICCI के प्रतिनिधियों ने भी इस बैठक में भाग लिया. बताया गया कि जून 2020 तक 27 मिलियन (2 करोड़ 70 लाख) N-95 मास्क, 1.6 मिलियन (16 लाख) टेस्ट किट और 15 मिलियन (1 करोड़ 50 लाख) PPE की मांग का अनुमान है और इन्हें खरीदने को लेकर काम किया जा रहा है. इसके अलावा जून महीने तक 50,000 वेंटिलेटर्स की मांग का आंकलन किया गया है. इनमें से 16,000 वेंटिलेटर पहले से मौजूद हैं, और 34,000 वेंटिलेटर के लिए ऑर्डर दिए गए हैं. अधिकारी ने बताया कि विदेश से वेंटिलेटर और अन्य PPE की खरीद के लिए विदेश मंत्रालय ने संज्ञान लिया है.

ये भी पढ़े :  मध्य प्रदेश: जिस इलाके में डॉक्टर्स की टीम पर हमला हुआ, वहां 10 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं

इस बैठक में अमिताभ कांत के अलावा प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार डॉ. विजयराघवन, एनडीएमए के सदस्य कमल किशोर, सीबीआईसी सदस्य संदीप मोहन भटनागर, अतिरिक्त सचिव (गृह) अनिल मलिक, पीएमओ के संयुक्त सचिव गोपाल बागले, और कैबिनेट सचिवालय की उप सचिव टीना सोनी भी शामिल थे.

रिपोर्ट के मुताबिक सरकार अहम मेडिकल उपकरणों की आपूर्ति में तेजी लाने के लिए जूझ रही है, और पिछले कुछ हफ्तों में उनके निर्यात पर पाबंदी लगा दिए गई है. इसी कड़ी में ताजा कदम है शनिवार को टेस्ट किट के निर्यात पर प्रतिबंध लगाना.
24 मार्च को, सरकार ने “किसी भी कृत्रिम श्वसन तंत्र या ऑक्सीजन थेरेपी उपकरण या किसी अन्य श्वास उपकरण समेत सभी तरह के वेंटिलेटर्स और सैनिटाइजर” के निर्यात पर रोक लगा दी थी.

इसी तरह, सर्जिकल मास्क, टेक्सटाइल रॉ मटेरियल और मास्क के लिए कच्चे माल के निर्यात पर 19 मार्च से प्रतिबंध लगा दिया गया था. केरल में देश में कोरोनोवायरस का पहला मामला दर्ज होने के एक दिन बाद 31 जनवरी को पीपीई और मास्क के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया था.

Advertisements
%d bloggers like this: