Tuesday, April 20, 2021

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में नियुक्तियों में जमकर भ्रष्टाचार।

कोरोना कॉल में होमियोपैथी पर विश्वास रखें, योग व्यायाम करें : डॉ रूप कुमार बनर्जी

कोरोना कॉल में होमियोपैथी पर विश्वास रखें, योग व्यायाम करें : डॉ रूप कुमार बनर्जी सकरात्मक सोचें, होमियोपैथी पर...

UP: पंचायत चुनाव में पैसा बांट रहे थे BJP के पूर्व MLA के भाई, रंगे हाथ पकड़े गए

पूर्व भाजपा विधायक अवनीन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ महंत दूबे के छोटे भाई व पूर्व प्रधान सत्येन्द्र नाथ द्विवेदी उर्फ राजू द्विवेदी को...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर दी...

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव          

गोरखपुर टाइम्स ब्रेकिंग :-    अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव               अभी-अभी मेरी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मैंने...

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट

महापौर हुये कोरोना पॉजिटिव,घर मे हुए आइसोलेट          गोरखपुर : महापौर सीताराम जायसवाल ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय(DeenDayal Upadhayay Gorakhpur University) में शिक्षक पदों पर हुई नियुक्तियों (Appointment on teacher posts)के मामले में इस कहावत को सटीक ढंग से समझा जा सकता है। विवि शिक्षक पदों पर हुई नियुक्तियों में सारे मानकों को दरकिनार कर शिक्षकों ने अपने बेटा-बेटियों और रिश्तेदारों की नियुक्तियां कर ली है(DDU appointed Proffessors kith and kins as Proffessor, Assistant Proffessor ans Associate Proffessor posts)। हद तो यह कि यहां तय आरक्षण का भी पालन नहीं किया गया है। निरंकुशता की इंतहा यह कि विवि कार्यपरिषद के सदस्य ने शिक्षकों की नियुक्ति के संबंध में लिखित रुप से आपत्ति दर्ज कराई लेकिन उनकी आपत्तियों को दरकिनार कर नियुक्तियों को हरी झंड़ी दे दी गई।

DDU appointment

विवि में शिक्षक नियुक्तियों में धांधली के खिलाफ आवाज उठा रहे यूपी उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग के पूर्व अध्यक्ष राम अचल सिंह ने शासनस्तर तक हर संबंधित जिम्मेदार को लिखित शिकायत की है लेकिन हर जगह चुप्पी है।
अवध विवि के पूर्व कुलपति रह चुके प्रो.रामअचल सिंह गोरखपुर विवि के कार्यपरिषद के सदस्य हैं। यह वही कमेटी है जो विवि के हर महत्वपूर्ण फैसलों पर मुहर लगाती है। इस कमेटी के सदस्य प्रो.सिंह ने कार्यपरिषद बैठक के दौरान ही अपनी आपत्ति दर्ज कराई, बात नहीं माने जाने पर बीच बैठक भी छोड़ दिए थे लेकिन विवि ने मनमानी तरीके से नियुक्तियों को सही ठहराते हुए अपनी मुहर लगा दी।

ये भी पढ़े :  आतंकियों के घुसने से यू.पी. में अलर्ट !
ये भी पढ़े :  गोरखपुर सिंघम थानाध्यक्ष जे.एन. सिंह ने हिस्ट्रीशीटर दुर्गा यादव, संजय पाठक आदि पर की गुंडा एक्ट की कार्यवाही....

DDU appointment

नियुक्तियों में धांधली से संबंधित साक्ष्य सहित आपत्ति दर्ज कराने वाले पूर्व कुलपति प्रो.सिंह के अनुसार डीडीयू में हुई करीब डेढ़ सौ नियुक्तियों में व्यापक धांधली हुई है। कहीं भी मानक या आरक्षण का पालन नहीं किया गया है। प्रो.राम अचल सिंह ने आरोप लगाया है कि डीडीयू में शिक्षकों के पुत्र-पुत्रियों व रिश्तेदारों की नियुक्ति खूब हुई है। हिंदी विभाग में प्रत्यूष दुबे का चयन प्रोफेसर पद पर हुआ है। वह डीडीयू के हिंदी विभाग के पूर्व अध्यक्ष व वर्तमान में सिद्धार्थ विवि के कुलपति प्रो.सुरेंद्र दुबे के पुत्र हैं। इसी तरह प्रो.अनंत मिश्र के नाती अखिल मिश्र की नियुक्ति असिस्टेंट प्रोफेसर, केमिस्ट्री में प्रो.जीएस शुक्ल के बेटे डॉ.निखिल कांत शुक्ला, प्रो.एमएल श्रीवास्तव के पुत्र डॉ.अखिलेश श्रीवास्तव, प्रो.जितेंद्र मिश्र की पुत्री डाॅ.लक्ष्मी मिश्रा, प्रो.केडीएस यादव के पुत्र डाॅ.कमलेश का चयन शिक्षक पदों पर नियमों को दरकिनार कर किया गया है।

प्रो.सिंह के अनुसार प्रोफेसर पद पर हुई एक नियुक्ति 61 साल के व्यक्ति की हुई है। अर्हता नहीं रखने के बावजूद अरविंद त्रिपाठी को नियुक्त कर दिया गया है। अगले साल ही यह रिटायर भी हो जाएंगे।
प्रो. सिंह ने बताया कि नियुक्तियों में हुए खेल के खिलाफ उन्होंने विवि प्रशासन को लिखित अवगत कराया लेकिन सबकी मिलीभगत होने के नाते कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। लगातार वह शासन व राजभवन से भी पत्राचार किए लेकिन जांच प्रक्रिया तक प्रारंभ नहीं की गई जबकि इस पूरे मामले में गहन जांच की आवश्यकता है।

ये भी पढ़े :  भारत पहुचने के कुछ देर पहले ही हिन्दी मे ट्वीट किये डोनाल्ड ट्रम्प " कुछ ही घंटो मे हम सब मिलेंगे "
ये भी पढ़े :  There Once Was a Story About a Man Who Could Turn Invisible

उधर, इस मामले में विवि प्रशासन का दावा है कि पूरी नियुक्ति प्रक्रिया पारदर्शी व नियमाकूल है। सारे आरोप निरर्थक हैं। प्रो.रामअचल सिंह की सारी आपत्तियों को बैठकों के कार्यवृत्त में शामिल कर समाधान का प्रयास किया गया है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

कोरोना कॉल में होमियोपैथी पर विश्वास रखें, योग व्यायाम करें : डॉ रूप कुमार बनर्जी

कोरोना कॉल में होमियोपैथी पर विश्वास रखें, योग व्यायाम करें : डॉ रूप कुमार बनर्जी सकरात्मक सोचें, होमियोपैथी पर...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हुए कोरोना पॉजिटिव योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर दी...

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव          

गोरखपुर टाइम्स ब्रेकिंग :-    अखिलेश यादव कोरोना पॉजिटिव               अभी-अभी मेरी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मैंने...
%d bloggers like this: