Friday, July 23, 2021

गोरखपुर में तीन सौ शस्त्र लाइसेंस फर्जी, दो हजार संदेह के घेरे में !

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

गोरखपुर. जनपद के फर्जी शस्त्र लाइसेंस (Fake arms license) मामले में मजिस्ट्रेट (Magistrate) की जांच रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है यहां तीन सौ फर्जी लाइसेंस का मामला सामने आया है वहीं दो हजार लाइसेंस संदेह के घेरे में हैं. बता दें कि सीएम योगी (CM Yogi) के जनपद में फर्जी शस्त्र लाइसेंस के खुलासे के बाद कैंट पुलिस (Gorakhpur Police) ने गुड वर्क (good work) दिखाने के चक्कर में जब कई बेगुनाहों जेल भेज दिया था और इस मुद्दे को मानवाधिकार संगठनों (Human rights organizations) ने उठाया उसके बाद प्रशासन (Administration) की नींद खुली और डीएम गोरखपुर (DM Gorakhpur) ने पुलिस की कार्रवाई पर रोक लगाते हुए निर्देश दिया कि जब तक डीएम कोर्ट से फर्जी लाइसेंस संबंधी कोई निर्देश नहीं जाएगा तब तक पुलिस किसी का भी उत्पीड़न नहीं करेगी.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में बदमाशों ने फिल्मी अंदाज में बरसाई ताबड़तोड़ गोलियां, एक शख्स हुआ घायल....

प्रशासनिक जांच में खुलासा हुआ है कि पुलिस ने इस मामले में अब तक सात से अधिक बेगुनाह लोगों जेल भेज दिया था. डीएम गोरखपुर ने फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले के मीडिया में आने के बाद मामले की मजिस्ट्रेट जांच कराई जो दो महीने तक चली. रिपोर्ट के मुताबिक इस जांच में तीन कटैगरी में जांच रिपोर्ट बनाई गई है. पहली कैटगरी में वो लोग हैं जिनके लाइसेंस वैध हैं उनकी संख्या 18 हजार से अधिक है. वहीं दो हजार लाइसेंस धारी संदेह के घेरे में हैं. इनके लिए डीएम कोर्ट से नोटिस जारी किया जा रहा है कि ऐसे लोग अपने लाइसेंस का सत्यापन करा लें.

ये भी पढ़े :  big breaking लेहड़ा दुर्गा मंदिर परिसर में प्रसाद विक्रेता के दुकान में लगी भयंकर आग, कोई आहत नहीं...

संदेह के घेरे में आए दो हजार लोगों के लाइसेंस पर ओवर राइटिंग या फिर एक ही नंबर पर दो नाम जैसी गलतियां है. इसलिए लाइसेंस धारक अपने दस्तावेज और साक्ष्य लेकर 15 दिन में डीएम कोर्ट में पेश होकर उनका सत्यापन करवा लें इस दौरान जो भी लाइसेंस फर्जी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी. डीएम गोरखपुर ने कहा कि सत्यापन से पहले किसी के भी खिलाफ पुलिस कोई भी कार्रवाई नहीं करेगी. वहीं तीसरी कैटगरी ऐसी है जो पूरी तरह से फर्जी है जिनकी संख्या करीब 300 है. ऐसे लोगों को भी नोटिस जारी किया गया है. जो भी फर्जी लाइसेंस धारी हैं उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट में मुकदमा दर्ज करके उन्हें जेल भेजा जाएगा.

बता दें कि गोरखपुर जनपद में 22 हजार शस्त्र लाइसेंस जारी किए गए हैं, जिनमें से करीब 1500 लोगों ने शस्त्र नहीं खरीदे हैं. इन्हे शस्त्र खरीदने के लिए एक मौका दिया जाएगा. जो नहीं खरीदेगा उनके लाइसेंस निलंबित किए जाएंगे. फर्जी शस्त्र लाइसेंस का मामला पहली बार इसी वर्ष 14 अगस्त को सामने आया था, इसके बाद डीएम ने तीन सदस्यीय मजिस्ट्रेट जांच कमेटी बनाकर मामले की रिपोर्ट देने को कहा था. दो महीने की जांच के बाद कमेटी ने अपनी रिपोर्ट डीएम गोरखपुर को सौंप दी है.

ये भी पढ़े :  Gorakhpur के लिए बड़ी खबर, तीन महीने नही होगी बिलजी मीटर रीडिंग, ना ही कटेगा ...
ये भी पढ़े :  गोरखपुर मेडिकल में आये कोरोना संक्रमित मृतक युवक के कारण 3 माह का नवजात भी संक्रमित

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

ब्लॉक प्रमुख बड़हलगंज आशीष राय के जीत की गूंज सात समंदर पार भी…

बड़हलगंज से आशीष राय के विजयी घोषित होने पर विदेशों में भी बंटी मिठाइयां गोरखपुर। शनिवार को तीन ब्लॉक...

भाजपा ने ब्लॉक प्रमुख के लिए विधायक विपिन सिंह की पत्नी नीता सिंह,विधायक संत प्रसाद की बहू पर खेला दाँव, देखें गोरखपुर की सूची…

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव संपन्न होने के उपरांत त्रिस्तरीय पंचायत को और सुदृढ़ बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के द्वारा...
%d bloggers like this: