Sunday, July 25, 2021

गगहा के ऐतिहासिक गाँव की कुलदेवी माँ दुर्गा भरती है भक्तों की झोलियां, कोरोना भी न तोड़ सका भक्तों का उत्साह… लगती है भारी भीड़…

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना भी नही तोड़ सका माँ के भक्तों का उत्साह

— गोरखपुर जनपद का ऐतिहासिक गांव है गगहा

— भक्तो की झोलिया भरती है गगहा मंदिर की माँ दुर्गा।

— पालीवाल राजवंश की कुल देवी है माँ दुर्गा व गायत्री।

— कभी रुद्रपुर नरेश का क्षेत्र था गगहा इस पर थारु जनजातियों का था कब्जा। गोरखपुर से 40 Km दक्षिण NH 29 गोरखपुर वाराणसी राजमार्ग पर स्थित गगहा मे चन्द्रवंशी पालीवाल क्षत्रिय वंश के लोग निवास करते है। यहां जगत जननी मां दुर्गा का एक प्राचीन मंदिर स्थित है। इस मंदिर की क्षेत्र में काफी मान्यता है। इस गांव के दीपक सिंह बताते हैं कि बाबा शक्ति सिंह की पुज्यमान माँ दुर्गा चौबीसों घंटे उनकी रक्षा के लिए तैयार रहती हैं। रुद्रपुर रियासत के इस क्षेत्र पर शक्तिशाली थारूओं का कब्जा था। जिस पर माँ जगत जननी दुर्गा की कृपा से बाबा शक्ति सिंह ने विजय हासिल किया था। यहां पर निवास करने वाले पालीवाल वंशज माँ दुर्गा को अपनी अधिष्ठात्री देवी मानते हैं। गगहा की भूमि अपने में तमाम गौरवशाली इतिहास को संजोए हुए है समय बीतता गया। माँ दुर्गा के मंदिर की स्थापना श्री रामबचन सिंह ने अपने बड़े भाई श्री शिव पूजन सिंह व श्री मुल्कनाथ सिंह तथा छोटे भाई श्री काशीनाथ सिंह व श्री रघुराज सिंह के सहयोग से सन् 1969 ई. में कराया।

पालीवाल वंश का गौरवशाली इतिहास और माँ की कृपा :- इस मंदिर के उत्तरी दीवार पर बाबा शक्ति सिंह का एक चित्र स्थित है जिनके विषय में कहा जाता है। कि प्राचीन समय में 84 उप प्रभागों का यह क्षेत्र रुद्रपुर के राजा के अधीन था। उस समय देश में अंग्रेजों का शासन था सरयू नदी का उत्तरी समतल इलाका गगहा जहां चारों तरफ जंगल सा वातावरण था। यहां थारुओं ने कब्जा कर लिया था। यहां उनकी ही हुकूमत चलती थी, यह क्षेत्र सतासी राज्य रुद्रपुर महराज के अधीन था। थारु सरदार राजा को कर नहीं देते थे तथा आस-पास के कई गाँवों को हानि पहुंचाते थे। उन थारूओं से मुक्ति के लिए राजस्थान के महाबली बाबा शक्ति सिंह को रुद्रपुर नरेश ने आमंत्रित किया। माँ की प्रेरणा से युवा शक्ति सिंह राजस्थान के पाली गाँव आधुनिक पाली जिला जिसकी पूर्वी सीमाएं अरावली पर्वत श्रृंखला से जुड़ी हैं। तथा उत्तर में नागौर और पश्चिम में जालौर से मिलती हैं। वीर योद्धा महाराणा प्रताप का जन्म् भी यहीं पर उनके ननिहाल में हुआ था।

यह नगर तीन बार उजड़ा और बसा ये राजपूत वर्चस्व वाला जिला है। यहाँ से अपने लाव लस्कर (फौज) के साथ रुद्रपुर की ओर बढ़े और गगहा को इन्ही माँ दुर्गा की कृपा से थारूओं का वह गढ़ जिसके बल पर 10वीं सदी में थारू जाति के राजा मदन सिंह ने गोरखपुर शहर और आसपास के क्षेत्र पर शासन किया था। उस गढ़ को राजा शक्ति सिंह ने समाप्त किया। और थारूओं से मुक्त करके यही बस गए तथा उन्होने आजीवन लोगो को संगठित एवम्‌ जागरुक कर अंग्रेजी हुकुमत के खिलाफ मोर्चा सम्भाले रखा। गगहा के चन्द्रवंशी (पालीवाल) क्षत्रिय जिनका गोत्र- व्याघ्रपद,त्रिप्रवर- अंगिरस,वार्हिस्पत,भारद्वाज वेद- यर्जुवेद उपवेद- धनुर्वेद श्रोतसूत्र- कात्यायन सूत्र- पारस्कर गृह्यसूत्र है, इन्हीं के वंशज् हैं। जिनकी आराध्य देवी माँ गायत्री व दुर्गा हैं। इस मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार पर भगवान श्री गणेश तथा शिवशंकर भगवान नंदी के साथ विराजमान है।

गर्भगृह में मां दुर्गा का अत्यंत सुंदर मूर्ति स्थापित है। तथा बजरंग बली व भैरव जी की मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर प्रांगण के बगल में श्री रामबचन सिंह के खांडसारी मिल परिसर में विराट दंगल आयोजित किया जाता है। जिसके आयोजक उन्हीं के परिवार के जयवीर सिंह जी हैं। प्रत्येक वर्ष नवमी के दिन यहां विशाल मेले का आयोजन तथा दंगल होता है। वर्ष के 12 महीनें यहां पर भक्तों की भीड़ लगी रहती है। यहाँ पर जो भी भक्त सच्चे मन से माँ से मुरादें मांगता है उसे वो जरुर पुरी करती हैं। भोजपुरी कलाकार यहां स्टिंग के लिए भी आते रहते हैं।

मंदिर के पुजारी दीपक पांडेय मां की सेवा व आराधना में सदैव तल्लीन रहते हैं।

ये भी पढ़े :  धूमधाम से निकाली गई भगवान नरसिंह की शोभायात्रा,सीएम योगी हुए सम्मलित....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

ब्लॉक प्रमुख बड़हलगंज आशीष राय के जीत की गूंज सात समंदर पार भी…

भाजपा ने ब्लॉक प्रमुख के लिए विधायक विपिन सिंह की पत्नी नीता सिंह,विधायक संत प्रसाद की बहू पर खेला दाँव, देखें गोरखपुर की सूची…

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव संपन्न होने के उपरांत त्रिस्तरीय पंचायत को और सुदृढ़ बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के द्वारा...
%d bloggers like this: