Wednesday, March 20, 2019
Uttar Pradesh

International Women’s Day: शहीद पति की याद में स्मारक बनवाया….

नवंबर 2016 में बिजौली के मुल्तान सिंह असम में उल्फा उग्रवादियों के हमले में शहीद हुएतो उनके घर नेताओं का तांता लग गया। सबने शहीद के परिजनों से संवेदना जताते हुए उसकी याद में स्मारक बनवाने का वादा तो कर दिया, पर इस पर अमल में दिलचस्पी नहीं ली। इसके बाद शहीद की पत्नी सुमन देवी ने खुद अपने पैसों से स्मारक का निर्माण करवाने की ठानी। उन्होंने 16 नवंबर 2017 को मुल्तान सिंह की पहली बरसी भी स्मारक पर ही मनाई। सुमन कहती हैं, ‘मेरे पति ने मुझमें हर मुश्किल का डटकर सामना करने और जिंदगी में कभी हार न मानने का जज्बा पैदा किया है। उनकी कमी तो अब शायद ही कभी पूरी हो। लेकिन मैं चाहती हूं कि गांव के अन्य युवा भी मेरे पति की तरह मातृभूमि की सेवा करने को आगे आएं। उनमें जोश भरने के लिए ही मैंने शहीद स्मारक बनवाने का फैसला लिया।’ मैंने अपने पति का स्मारक सिर्फ उन्हें श्रद्धांजलि देने और उनकी यादें संजोने के लिए नहीं बनवाया, बल्कि मैं चाहती हूं कि इसे देखकर युवा पीढ़ी में भी देश सेवा का जज्बा पैदा हो। -सुमन देवी, शहीद मुल्तान सिंह की पत्नी

Advertisements
%d bloggers like this: